खुशी के मौके पर लगाती हैं पौधे, लोगों को करती हैं प्रेरित

जन्मदिन हो या खुशी का अन्य मौका, कोई केक काटकर तो कोई मिठाई बांटकर खुशी मनाता है, लेकिन कर्मचारी आवास कॉलोनी में रहने वाली छात्रा जूही गर्ग का अंदाज कुछ अलग है। वह जन्मदिन पर या कुछ अच्छा हुआ है तो पौधे लगाकर खुशियां बांटती हैं।

By: Harish kushwah

Updated: 28 Nov 2019, 11:50 AM IST

ग्वालियर. जन्मदिन हो या खुशी का अन्य मौका, कोई केक काटकर तो कोई मिठाई बांटकर खुशी मनाता है, लेकिन कर्मचारी आवास कॉलोनी में रहने वाली छात्रा जूही गर्ग का अंदाज कुछ अलग है। वह जन्मदिन पर या कुछ अच्छा हुआ है तो पौधे लगाकर खुशियां बांटती हैं। सहेली हो या रिश्तेदार उन्हें भी पेड़ लगाने के लिए प्रेरित करती हैं। उन्हें समझाती हैं कि पौधा लगाने से क्या फायदे हैं, हम अपने पर्यावरण को किस तरह बेहतर रख सकते हैं।

जूही एम.कॉम कर रही हैं, लेकिन पौधे लगाने का सिलसिला उन्होंने कक्षा 9वीं से शुरू कर दिया था। उन्होंने बताया कि शिक्षक बताते थे कि पर्यावरण को किस तरह बचा सकते हैं। जिस तरह पेड़ों को काटा जा रहा है, उन्हें लगाना भी आवश्यक है। हर व्यक्ति को पौधे लगाना चाहिए। उसी समय से शिक्षक की बात का अनुसरण किया। पहले घर में पौधे लगाने की शुरुआत की, फिर स्कूल में पौधे लगाए, इसके बाद सिलसिला बढ़ता गया। पर्यावरण के लिए काम कर रही संस्थाओं से जुड़ीं, पार्क, सरकारी स्कूल, कॉलोनी सहित कई जगह पौधरोपण किया। जूही का कहना है कि जब भी छुट्टी होती है वह पौधा जरूर लगाती हैं। पौधे लगाने से उन्हें खुशी मिलती है। रिश्तेदारी में कोई शादी या अन्य कोई कार्यक्रम हो तो रिश्तेदारों को पौधे लगाने के लिए प्रेरित करती हैं। अपनी सहेलियों से पौधे लगवाती हैं। उनका कहना है कि जन्मदिन हो या पुण्यतिथि हमें उस दिन पौधे जरूर लगाना चाहिए, जिससे पर्यावरण को बचा सकें, क्योंकि वर्तमान में प्रदूषण के कारण घर से बाहर निकलते ही धुआं और धूल से कपड़े काले हो जाते हैं। अगर हम जितने ज्यादा पोधे लगाएंगे उतना ही पर्यावरण अच्छा होगा। इसलिए पौधे जरूर लगाएं।

Harish kushwah
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned