अब धान की फसल में आया यह रोग, किसानों को हो सकता है भारी नुकसान

अब धान की फसल में आया यह रोग, किसानों को हो सकता है भारी नुकसान
अब धान की फसल में आया यह रोग, किसानों को हो सकता है भारी नुकसान

monu sahu | Updated: 09 Oct 2019, 06:49:44 PM (IST) Gwalior, Gwalior, Madhya Pradesh, India

किसानों को पांच से दस फीसदी धान के खराब होने की आशंका

ग्वालियर। ज्यादा बारिश से तिल, मूंग व उड़द की फसल में नुकसान तो पहले ही हो गया है। अब किसानों के लिए एकमात्र उम्मीद की किरण धान में भी कई रोग फैलने लगे हैं। इससे किसानों को चिंता सताने लगी है। इन रोगों से पांच से दस फीसदी फसलों में नुकसान होने की आशंका है। हालांकि कृषि विभाग ने इस दिशा में ज्यादा कोई पहल नहीं की है। किसान रोगों से बचने के लिए दफ्तर के चक्कर लगाने लगे हैं। जिले में हजारों किसानों ने 64 हजार हेक्टेयर जमीन में फसल बो रखी है।

यह भी पढ़ें : 70 साल बाद करवाचौथ पर बन रहा है यह योग, पति के लिए है विशेष फलदायी, जानिए

किसानों ने इस बार खरीफ फसल के मौसम में 83 हजार हेक्टेयर में उड़द बोया था। इसके अलावा तिल व मूंग की फसल भी बोई गई थी। जिले में ज्यादा बारिश होने से तिल, उड़द, मूंग में भारी नुकसान हुआ है, लेकिन किसानों में उम्मीद जागी थी कि जिनके पास धान की फसल है उन्हें धान की पैदावार से फायदा होगा, लेकिन किसानों की वो उम्मीद भी टूटने लगी है कि अगर यह फसल भी बीमार हो गई तो वे क्या करेंगे। कृषि विभाग के अधिकारियों के मुताबिक इस बार पिछले साल की तुलना में दो गुना से ज्यादा रकबे में धान बोई गई है।

यह भी पढ़ें : बड़ी खबर : दो युवक नदी में डूबे, एसडीआरएफ की टीम खोज में जुटी

इन रोगों से बढ़ी किसानों की चिंता
इन दिनों धान की फसल में बालियां निकल चुकी हैं। तो कई खेतों में फसल पकने लगी है, लेकिन हर किसान के खेतों में पांच से दस फीसदी फसल में गर्दन तोड़, बगली व फॉल्स सिलट जैसे रोग फैल रहे हैं जो कम पैदावार के लिए जिम्मेदार तो हैं ही। रोगों पर नियंत्रण न हो पाने के कारण यह रोग पूरी फसल में फैल जाएगा और किसानों की मेहनत व लागत पर पानी फिर जाएगा।

यह भी पढ़ें : बड़ी खबर : नाबालिग के साथ गैंगरेप, पुलिस ने चारों युवकों को पकड़ा

वैज्ञानिकों के पास भी पहुंचने लगे किसान
कृषि विज्ञान केन्द्र के वरिष्ठ वैज्ञानिक डॉ. एके सिंह का कहना है कि धान में बगली व गर्दन तोड़ रोग फैल रहे हैं। परेशान किसान केवीके भी पहुंच रहे हैं। डॉ. सिंह की किसानों को सलाह है कि वे इन रोगों के बारे में वैज्ञानिकों व कृषि विभाग के अधिकारियों से सलाह लें।किसान पप्पू ने बताया कि धान की फसल में पता नहीं कौन सा रोग है।

यह भी पढ़ें : प्याज निकालने लगी आंसू, फिर आसमान पर पहुंचे प्याज के भाव

कुछ पौधे सूखने लगे हैं। यहां जांच करने कोई अधिकारी नहीं आ रहा है। कैसे पता चले कि कौन सा रोग है।कपिल तिवारी ने बताया कि धान की फसल में कई तरह के रोग फैल रहे हैं। कीड़े लग रहे हैं तो क हीं पौधे सूख रहे हैं। कौन सी दवा डालनी है पता नहीं चल पा रहा है।उप संचालक कृषि आरएन शर्मा ने बताया कि धान की फसल में रोग फैलने की जानकारी मिली है। हमारी टीमें गांवों में जाकर देखेंगी कि फसलों में कौन व कितने फीसदी में रोग है। इसके बाद अगला कदम उठाया जाएगा।

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned