सोशल मीडिया से हो रही थी हथियारों की सैलिंग, पुलिस ने प्लानिंग कर पकड़ा बदमाशों को

सोशल मीडिया से हो रही थी हथियारों की सैङ्क्षलग, पुलिस ने प्लानिंग कर पकड़ा बदमाशों को

By: Gaurav Sen

Published: 03 Jan 2019, 01:50 PM IST

ग्वालियर। देसी हथियारों का धंधे की एक और कड़ी पकड़ी गई, एसटीएफ ने अंबाह, मुरैना के हथियार सप्लायर को पांच कंट्री मेड पिस्टल के साथ पकड़ा है। सभी पिस्टल 32 बोर की हैं। इन्हें सप्लायर सिगनूर, खरगोन से लाया था और मुरेना में डिमांड पर खपाना था। इंट्रोगेशन में उसने खुलासा किया है कि धंध वाट्सऐप के जरिए होता था। चुनाव के बाद इसमें तेजी आई है। एक पिस्टल पर करीब 10 हजार का मुनाफा होता है। अब क्रिमनल्स में कट्टे का क्रेज खत्म हो रहा है, इसलिए सेल्फ लोडेड देसी हथियार की डिमांड बढ़ी है। इस धंधे में दूसरी बार पकड़ा गया है उसे एसटीएफ ने पुलिस को थमा दिया है। अब क्राइम की जिम्मेदारी उन लोगों का पता लगाना है जिन्हें वह पहली खेप में हथियार बेच चुका है।

खरगोन से 7 हजार रुपए में लाता था पिस्टल

कंचनोध, मुरैना के श्यामू उर्फ श्याम सिंह पुत्र रामवीर तोमर (26) को 32 बोर की पांच पिस्टल और 5 कारतूसों के साथ पकड़ा गया है। श्यामू ट्रेन से पिस्टल की खेप लेकर ग्वालियर आया था, उसका मूवमेंट पता चलने पर एसटीएफ ने उसे उठा लिया। श्यामू के बैग की तलाशी लेने पर उसमें पिस्टल और कारतूस रखे मिले। पूछताछ में श्यामू ने बताया इन दिनों खरगोन से कंट्री मेड हथियारों की डिमांड ज्यादा है। वह भी सिगनूर खरगोन से पिस्टल लेकर आया है। उसकी तरह कई और लोग इस धंधे से जुड़े हैं। इससे पहले भी खरगोन से हथियार लाकर बेचता रहा है। एक पिस्टल 7 हजार रुपए में मिलती है यहां ग्राहक को 17 से 20 हजार में बेचता है। चुनाव के दौरान पूरे प्रदेश में पुलिस की सख्ती थी इसलिए कुछ दिन तक धंधा बंद रखा था। निरीक्षक एजाज खां ने बताया कि श्याम सिंह सिगनूर में जिस सौदागर से हथियार खरीदता रहा है उसे भी पकड़ा जाएगा।

ऐसे होती थी डील
एटीएफ इंस्पेक्टर चेतन सिंह बैस ने बताया आरोपी श्याम सिंह ने खुलासा किया अवैध हथियारों का कारोबार हाइटेक हो चुका है। ग्राहकों की डिमांड पर हथियार बनाने वालों को फोन पर ऑर्डर देते हैं। सौदागर वाट्सऐप पर हथियार का फोटो भेजता उससे मॉडल पंसद कर जितने खरीदने होते हैं उनकी कीमत सौदागर के बैंक एकाउंट में जमा करने पर सौदा डन होता है। हथियारों की खेप तैयार होने पर सौदागर के ठिकाने पर जाकर उससे वेपन की डिलेवरी मिलती है।

क्राइम ब्रांच करेगी तफ्तीश
आरोपी श्याम सिंह को क्राइम ब्रांच के हवाले किया है अब पुलिस उससे धंधे में शामिल बाकी लोगों के बारे में जानकारी जुटा रही है। अभी तक कितने लोगों ने श्याम सिंह के अवैध हथियार खरीदे हैं उनका भी पता लगाया जाएगा।

Gaurav Sen
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned