नीलू राणा हत्याकांड की गुत्थी सुलझाने के करीब पुलिस, दिल्ली से पकड़ा संदेही

सरकारी मल्टी में महिला की हत्या में उसके फ्लैट पर कब्जे की दुश्मनी सामने आई है। हत्या का संदेही रविवार को दिल्ली में दुबका मिल गया। उसे विश्वविद्यालय पुलिस राउंडअप कर देर रात लौट आई है। हत्या की खबर फैलने से दो घंटे पहले वह दिल्ली की ट्रेन पकड़कर शहर से निकल गया था।

ग्वालियर. सरकारी मल्टी में महिला की हत्या में उसके फ्लैट पर कब्जे की दुश्मनी सामने आई है। हत्या का संदेही रविवार को दिल्ली में दुबका मिल गया। उसे विश्वविद्यालय पुलिस राउंडअप कर देर रात लौट आई है। हत्या की खबर फैलने से दो घंटे पहले वह दिल्ली की ट्रेन पकड़कर शहर से निकल गया था। अब उसे हिरासत में लेकर हत्याकांड के बारे में इंट्रोगेट करेगी हालांकि पुलिस की थ्योरी में हत्याकांड में महिला के बैकग्राउंड का भी पता लगाया जा रहा है। उस बारे में भी कई चौकाने वाली बातें सामने आई हैं।
पुलिस के मुताबिक नीडम के पास सरकारी मल्टी में शुक्रवार रात को नीतू राणा (40) की हत्या का शक फिलहाल रॉबिन राणा पर ठहरा है। क्योंकि करीब पांच महीने पहले नीतू ने रॉबिन (26) के खिलाफ विश्वविद्यालय थाने में मारपीट का केस दर्ज कराया था। रॉबिन के बारे में पता चला है कि बिगडै़ल होने की वजह से परिजन ने भी उसे घर से दूर कर रखा है। मल्टी में रहने वालों ने खुलासा किया है कि नीतू जिस फ्लैट में रहती थी उसे लेकर रॉबिन से उसका विवाद था। हत्या से दो दिन पहले भी इसी मसले पर रॉबिन से उसका जमकर झगड़ा हुआ था। गुरुवार रात को भी रॉबिन मलटी में आया था। दूसरे दिन नीतू का शव कमरे में पड़ा मिला।

कॉल डिटेल से खुलासा
उधर पुलिस का कहना है नीतू की हत्या पता चलने पर रॉबिन को तलाशा गया तो वह घर से गायब मिला। नीतू का शव शुक्रवार रात आठ बजे उसके फ्लैट में पड़ा मिला था। जबकि रॉबिन छह बजे ग्वालियर से दिल्ली भाग गया था।उसने मोबाइल भी स्विॅच ऑफ कर रखा था। कॉल डिटेल से पता चला है कि नीतू से रॉबिन का सतत संपर्क था।

भाई विद्युत मंडल में अधिकारी
पुलिस के मुताबिक रॉबिन जाट आवारा किस्म का है। उसके पिता रिटायर्ड और बड़ा भाई विद्युत मंडल में अधिकारी है। परिजन से पैसे लेकर रॉबिन आवारागर्दी करता है। नीतू से उसकी दोस्ती करीब सात-आठ महीने से थी। दोनों में पहले गहरी दोस्ती थी। कुछ समय से रॉबिन और नीतू के बीच विवाद शुरू हुआ था। नीतू ने पुलिस से भी उसकी शिकयत की तो दोनों के बीच दुश्मनी ठन गई थी। रॉबिन का नाम सामने आने पर पुलिस ने उसके भाई को पूछताछ के लिए बुला लिया था। उनके जरिए ही रॉबिन का दिल्ली में ठिकाना पता चला। विश्वविद्यालय पुलिस ने वहां दबिश देकर रॉबिन को पकड़ा।

रिज़वान खान Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned