डीजीपी ने देखा सुरक्षा इंतजाम: आंकड़े तो ठीक हैं, लेकिन ये बताओ चुनाव में उत्पात मचाने वालों की कैसे करोगे पहचान

डीजीपी ने देखा सुरक्षा इंतजाम: आंकड़े तो ठीक हैं, लेकिन ये बताओ चुनाव में उत्पात मचाने वालों की कैसे करोगे पहचान

Gaurav Sen | Publish: Nov, 10 2018 12:42:19 PM (IST) Gwalior, Gwalior, Madhya Pradesh, India

डीजीपी ने देखा सुरक्षा इंतजाम: आंकड़े तो ठीक हैं, लेकिन ये बताओ चुनाव में उत्पात मचाने वालों की कैसे करोगे पहचान

ग्वालियर। आने वाले विधानसभा चुनाव में पुलिस सुरक्षा के इंतजामों को पुख्ता करने का दावा कर रही है, लेकिन उसकी तैयारियों में दम कितना है जायजा लेने के लिए शुकवार शाम को डीजीपी वीके सिंह, एडीजीपी लॉ एंड आर्डर मकरंद देऊस्कर के साथ ग्वालियर आए हैं। डीजीपी सिंह को ग्वालियर और चंबल रेंज के अफसरों ने मतदान से पहले सुरक्षा इंतजामों का ब्यौरा दिया।

उनके सामने प्रतिबंधात्मक कार्रवाई के आकंडे भी रखे। इस पर डीजीपी ने अफसरों से कहा है कि आपने आकंडेबाजी तो बता दी, लेकिन यह यह तो बताओ कि चुनाव में उत्पात मचाने वाले कौन है, उनकी पहचान कैसे करोगे। जिन पर चुनाव में गडबडी फैलाने की आशंका है उन पर शिकंजा चाहिए। उधर एडीजीपी लॉ एंड आर्डर मकरंद देऊस्कर ने अफसरों से कहा है कि दो अप्रैल को ग्वालियर में एसी एसटी कानून में संशोधन के विरोध में जातीय हिंसा हुई है उसे नजरअंदाज नहीं किया जा सकता। जो इस हिंसा में पर्दे के पीछे रहे हैं पुलिस को उन लोगों पर भी फोकस करना होगा।

mp election 2018 : टिकट कटने से नाराज समर्थकों ने की नारेबाजी,कांग्रेस में खलबली

 

 

चुनाव में सुरक्षा का पुख्ता इंतजाम करेंगे, यूपी पुलिस से आज झांसी में बार्डर मीट
चुनाव में सिक्योरिटी को लेकर पुलिस अलर्ट है, हम किसी को सिर उठाने का मौका नहीं देंगे। सुरक्षा के इंतजाम पुख्ता हैं। शनिवार को यूपी पुलिस से झांसी में मीटिंग है। उसमें चुनाव के दौरान एमपी, यूपी बार्डर पर पहरेदारी से लेकर उन लोगों पर नकेल कसने की रणनीति तय होगी मतदान के दिन ग्वालियर चंबल रेंज में तो ड्राइ डे रहेगा। बार्डर से सटे पड़ोसी प्रदेश में शराबबंदी रखी जाएगी। जिससे वहां से शराब की तस्करी नहीं हो सके। प्रदेश में चुनाव शांति से हों इसलिए करीब 650 कंपनियां तैनात होंगी।

बड़ी खबर : विधानसभा चुनाव से पहले भाजपा को लगा बड़ा झटका,दिग्गज नेता की मौत

ग्वालियर और चंबल रेंज में अभी और फोर्स भेजा जाएगा। पुलिस महानिदेशक वीके सिंह ने शुक्रवार को पत्रकारों से चर्चा में भरोसा दिलाया कि पुलिस का मकसद शांति से चुनाव कराना है इसके लिए हर संभव प्रयास किया जा रहा है। डीजीपी सिंह ने कहा विधानसभा चुनाव में पुलिस का फोकस अवैध शराब,हथियार, फर्जी मतदान पर कंट्रोल का रहेगा। इस पर कंट्रोल के लिए पुलिस की एक्सरसाइज चल रही है। अभी तक की तैयारी से संतोषजनक है। इसके अलावा पड़ोसी जिले के अपराधी भी टारगेट पर हैं।

बड़ी खबर : टिकट न मिलने से नाराज दिग्गज नेता ने खाया जहर,हालत गंभीर,कांग्रेस-भाजपा में हडक़ंप

 

उन पर कंट्रोल के लिए शनिवार को यूपी पुलिस के साथ झांसी में मीटिंग है। इसमें दोनों यूपी पुलिस को अपराधियों का ब्यौरा दिया जाएगा जिनकी प्रदेश पुलिस को तलाश है और उनके बारे में इनपुट है कि वह यूपी में दुबके हैं। कुछ दिन पहले राजस्थान पुलिस के साथ बार्डर मीट हुई थी। उसमें भी दोनों प्रदेश की पुलिस ने सरहद का फायदा उठाकर अपराध करने वालों का ब्यौरा एक्सचेंज किया था। उसमें एक्सरसाइज फाइन टयून रही है। कई अपराधियों को चिंहित किया गया है। उन पर नकेल भी कसी गई है। मीटिंग में आइजी ग्वालियर, आइजी चंबल, दोनों रेंज के डीआइजी सहित एसपी मौजूद थे

पुलिसकर्मी को उसका रोल पता हो
डीजीपी सिंह ने मीटिंग में कहा कि शांति से चुनाव कराने में अफसरों से लेकर कांस्टेबल की भूमिका रहेगी। इसलिए प्रत्येक पुलिसकर्मी को उसकी डयूटी और भूमिका पता होना चाहिए। अधिकारी पुलिसकर्मियों को ब्रीफ करें कि उन्हें कब कहां और क्या एक्शन लेना है। जिम्मेदारी को टालने की कोशिश नहीं की जाए। इसके अलावा पुलिस हथियारों पर फोकस करे। सभी लाइसेंसी शस्त्र जमा होना चाहिए। अवैध हथियारों का इस्तेमाल नहीं हो इसलिए उनके कारोबार से जुडे अपराधियों को बस्र्ट किया जाए।

इस तरह रहेगी सुरक्षा

  • चुनाव से पहले वारंटियों पर पूरी तरह शिकंजे की कोशिश।
  • गडबडी रोकने के लिए संदिग्धों को बाउंड ओवर किया जाएगा
  • पड़ोसी जिलों से मतदान को प्रभावित हो इसलिए यूपी और राजस्थान से सटे बार्डर को सील किया जाएगा।
  • शहर से बाहर निकलने वाले नाके मतदान से पहले सील होंगे, मतदान से पहले बिना वजह शहर में आए लोगों को बाहर किया जाएगा।

MP/CG लाइव टीवी

Ad Block is Banned