बायोमैट्रिक मशीन खराब तो प्राचार्यों को नहीं मिलेगा वेतन 

- नवंबर में होगी मॉनिटरिंग,  विभाग के रुख से प्राचार्यों में हड़कंप

ग्वालियर.  उच्चशिक्षा विभाग ने सरकारी कॉलेजों में लगातार खराब हो रही बायोमैट्रिक हाजिरी मशीनों पर बीते दो साल में सबसे कड़ा फैसला लिया है। नए निर्देशों के अनुसार खराब बायोमैट्रिक मशीनों को सुधारने के विभाग ने 10 सितम्बर तक का समय दिया था, अब इस काम की मॉनिटरिंग नवंबर में की जाएगी। मॉनिटरिंग में कोई भी बायोमैट्रिक मशीन खराब  मिलती है या कर्मचारी हाजिरी नहीं लगाता है, उसकी जिम्मेदारी संबंधित कॉलेज के प्राचार्य की होगी। दोषी पाए जाने पर प्राचार्य का वेतन रोक दिया जाएगा। 
अधिकारियों की मानें तो ज्यादातर कॉलेजों में लगभग 80 प्रतिशत स्टाफ इस बायोमैट्रिक मशीन सिस्टम के खिलाफ हैं। शिक्षक जहां इसे अपने पेशे के लिए कलंक मानते हैं, वहीं अन्य कर्मचारियों के लिए यह आफत है। बीते एक साल में पूरे प्रदेश में पांच हजार से ज्यादा मशीनें खराब होने के मामले सामने आए। पहले विभाग इसे टेक्नीकल मिस्टेक मानता था, लेकिन बाद में मामले की जांच कराई तो परिणामों ने चौंका दिया। इसके बाद अब  जिम्मेदारी तय करने का निर्णय लिया गया, ताकि सिस्टम  खराब न हो। उच्चशिक्षा विभाग के इस फरमान से कॉलेज प्राचार्य टेंशन में हैं।

जानबूझकर खराब करते हैं मशीन 
ज्यादातर सरकारी कॉलेजों में बायोमैट्रिक मशीन खुरापाती कर्मचारियों द्वारा जानबूझकर खराब की गई हैं, ताकि वे कॉलेज टाइम में ड्यूटी की जगह खुद के काम निपटा सकें। लीड कॉलेज द्वारा किए गए निरीक्षण में भी कई कॉलेजों में स्टाफ हाजिरी लगाने के बाद भी क्लासों में नहीं मिला। यह निरीक्षण एमएलबी कॉलेज, भागवत सहाय कॉलेज, केआरजी कॉलेज, वीआरएस कॉलेज में किए गए। इस दौरान निरीक्षण टीम को भारी विरोध का सामना करना पड़ा। इसके बाद यह सिलसिला बंद हो गया। 
अंचल में सरकारी कॉलेज            - 55
अद्र्धशासकीय कॉलेज                - 7 
कुल मशीनें                          - 122
खराब मशीनें                        -  68
 
बायोमैट्रिक मशीन के रखरखाब की जिम्मेदारी तय कर दी है। कोई मशीन खराब है, काम नहीं कर रही है तो उसे तुरंत ठीक करना प्राचार्य की जिम्मेदारी है। लापरवाही पर प्राचार्य का वेतन रोका जाएगा। 
उमाकांत उमराव, आयुक्त, उच्चशिक्षा  

rishi jaiswal
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned