scriptQuota system ended in Kendriya Vidyalayas | स्कूलों में कोटा सिस्टम खत्म पर बच्चों के एडमिशन में लाभ नहीं, जानिए क्यों नहीं मिल पा रही सुविधा | Patrika News

स्कूलों में कोटा सिस्टम खत्म पर बच्चों के एडमिशन में लाभ नहीं, जानिए क्यों नहीं मिल पा रही सुविधा

अतिरिक्त सीटों की प्रक्रिया

 

ग्वालियर

Published: May 01, 2022 09:32:37 pm

ग्वालियर। केंद्रीय विद्यालयों में लागू कोटा सिस्टम को केंद्र सरकार ने खत्म कर दिया है। अब इन स्कूलों में सांसद सहित अन्य पात्र लोगों की सिफारिशों पर बच्चों को प्रवेश नहीं मिल पाएगा। इस व्यवस्था से स्कूलों में अनेक सीटें खाली होंगी। इसका लाभ बच्चों के एडमिशन में मिलेगा हालांकि ग्वालियर में नए छात्रों को स्कूलों में प्रवेश के तौर पर इसका लाभ नहीं मिल पाएगा। इसका कारण है कि कोटा में अनुशंसा पर होने वाले प्रवेश निर्धारित क्षमता से अतिरिक्त सीटों पर होते थे पर उन्हें अब समाप्त किया गया है।

school_ad.png
अतिरिक्त सीटों की प्रक्रिया

केंद्रीय विद्यालयों में सबसे पहले केंद्र सरकार के कर्मचारियों, केंद्र सरकार के संस्थान, केंद्रीय विश्वविद्यालयों आदि के कर्मचारियों के बच्चों को प्रवेश दिया जाता है। इन स्कूलों में सांसद सहित शिक्षा मंत्रालय के कर्मचारियों, केंद्रीय विद्यालय के सेवानिवृत कर्मचारियों सहित स्कूल प्रबंधन समिति से जुड़े अध्यक्ष की सिफारिशों पर प्रवेश के लिए निर्धारित कोटा अब समाप्त कर दिया गया है।

लोकसभा सांसद को 10 सीटों का कोटा प्राप्त था जबकि स्कूल प्रबंधन समिति के अध्यक्षों के पास दो-दो सीटों का कोटा था। कोटा समाप्त होने से ग्वालियर जिले के पांच केंद्रीय विद्यालयों में अब 20 सीटें खाली हो गई हैं। हालांकि इन सीटों पर नए विद्यार्थियों को प्रवेश नहीं दिया जाएगा, बल्कि इन अतिरिक्त सीटों को समाप्त कर दिया जाएगा।

दरअसल शिक्षा नीति के अनुसार प्रत्येक कक्षा में औसतन 40 विद्यार्थी होने चाहिए, लेकिन वर्तमान में जिले के केंद्रीय विद्यालयों में यह औसत 55 विद्यार्थियों तक पहुंच रहा है। इसके चलते विद्यालयों में शिक्षा की गुणवत्ता सहित शिक्षक व विद्यार्थी अनुपात भी असंतुलित हो रहा था। इस वजह से अतिरिक्त सीटें समाप्त की गई हैं.

ग्वालियर जिले के पांच केंद्रीय विद्यालयों में कुल 10 हजार 100 सीटें हैं। इसमें केंद्रीय विद्यालय क्रमांक एक में सभी क्लासेस में 3500 सीटें, केंद्रीय विद्यालय क्रमांक दो में 2400 सीटें, केंद्रीय विद्यालय क्रमांक तीन में 1700 सीटें, केंद्रीय विद्यालय क्रमांंक चार में 1600 सीटें और केंद्रीय विद्यालय क्रमांक पांच में 900 सीटें हैं।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

बुध जल्द वृषभ राशि में होंगे मार्गी, इन 4 राशियों के लिए बेहद शुभ समय, बनेगा हर कामज्योतिष: रूठे हुए भाग्य का फिर से पाना है साथ तो करें ये 3 आसन से कामजून का महीना किन 4 राशियों की चमकाएगा किस्मत और धन-धान्य के खोलेगा मार्ग, जानेंमान्यता- इस एक मंत्र के हर अक्षर में छुपा है ऐश्वर्य, समृद्धि और निरोगी काया प्राप्ति का राजराजस्थान में देर रात उत्पात मचा सकता है अंधड़, ओलावृष्टि की भी संभावनाVeer Mahan जिसनें WWE में मचा दिया है कोहराम, क्या बनेंगे भारत के तीसरे WWE चैंपियनफटाफट बनवा लीजिए घर, कम हो गए सरिया के दाम, जानिए बिल्डिंग मटेरियल के नए रेटशादी के 3 दिन बाद तक दूल्हा-दुल्हन नहीं जा सकते टॉयलेट! वजह जानकर हैरान हो जाएंगे आप

बड़ी खबरें

Asia Cup में भारत ने इंडोनेशिया को 16-0 से रौंदा, पाकिस्तान का सपना चूर-चूर करते हुए दिया डबल झटकामानसून ने अब तक नहीं दी दस्तक, हो सकती है देरखिलाड़ियों को भगाकर स्टेडियम में कुत्ता घुमाने वाले IAS अधिकारी का ट्रांसफर, पति लद्दाख तो पत्नी को भेजा अरुणाचलमहंगाई का असर! परिवहन मंत्रालय ने की थर्ड पार्टी बीमा दरों में बढ़ोतरी, नई दरें जारी'तमिल को भी हिंदी की तरह मिले समान अधिकार', CM स्टालिन की अपील के बाद PM मोदी ने दिया जवाबहिन्दी VS साऊथ की डिबेट पर कमल हासन ने रखी अपनी राय, कहा - 'हम अलग भाषा बोलते हैं लेकिन एक हैं'अजमेर शरीफ दरगाह में मंदिर होने के दावे के बाद बढ़ाई गई सुरक्षा, पुलिस बल तैनातबोरवेल में गिरा 12 साल का बालक : माधाराम के देशी जुगाड़ से मिली सफलता, प्रशासन ने थपथपाई पीठ
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.