छत्तीसगढ़ एक्सप्रेस में रेलवे अधिकारियों ने पेट्रीकार में कार्रवाई, पीओएस मशीन थी बंद

छत्तीसगढ़ एक्सप्रेस में रेलवे अधिकारियों ने पेट्रीकार में कार्रवाई, पीओएस मशीन थी बंद

By: Neeraj Chaturvedi

Published: 10 Jan 2019, 07:40 PM IST

ग्वालियर. यात्रियों को ट्रेनों में खाने के नाम पर लूटा जा रहा है। लंबे रूट की ट्रेनों में पेंट्रीकार होने के बावजूद भी यात्रियों से मनमर्जी से वसूली की जा रही है। इसी तरह की शिकायतें मिलने के बाद गुरूवार को झांसी से आने वाली छत्तीसगढ़ एक्सप्रेस में रेलवे अधिकारियों ने कार्रवाई की। दोपहर 2.25 बजे प्लेटफॉर्म दो पर ट्रेन के रूकते ही रेलवे अधिकारी पेंट्रीकार में पहुंचे। यहां पर कुछ भी सही नहीं मिला।

जब रेलवे अधिकारियों ने खाने का बिल देनी वाली पीओएस मशीन मैनेजर से मांगी तो पहले तो इधर- :ष्शश्च4ह्म्द्बद्दद्धह्ल:धर मशीन रखे होने की जानकारी मैनेजर अरविंद शर्मा ने दी। जब कड़ाई से अधिकारियों ने मशीन के बार में पूछा तो यह मशीन एक डिब्बे के अंदर से निकालकर दिखाई। लेकिन जब मैनेजर से यह पूछा गया कि आज सुबह से कितने खाने के ऑर्डर के बिल दिए गए है। इस पर मैनेजर एक भी बिल नहीं दिखा पाया। इसके साथ ही ट्रेन में यात्रियों को दिया जाने वाला पानी भी दूसरी कंपनी का निकला। ट्रेन के पेंट्रीकार में ऑक्समोर और रियल के साथ रेल नीर की बोतले मिली।

इसके बाद रेलवे अधिकारियों ने रेल नीर की बोतल छोडकऱ दोनों ही कंपनी की बोतलों को पकड़ा गया। पकड़े गए पानी में 39 वॉक्स थे। पत्रिका ने यात्रियों की समस्याओं को देखते हुए बुधवार को खबर ट्रेन में खाने के दाम में मनमर्जी की वसूली, 55 रुपए का खाना 90 में, बिल भी नहीं देते प्रकाशित की थी। इसी खबर के बाद रेलवे के अधिकारियों ने इसी ट्रेन में कार्रवाई को अंजाम दिया। इस कार्रवाई में झांसी से आए सीसीआई एमपीपी अनिल श्रीवस्तव, सीसीआई वाईके मीणा, सीएचआई तेजपाल सिंह :ष्शश्च4ह्म्द्बद्दद्धह्ल:पस्थित थे।

मेडिकल नहीं दिखा पाया मैनेजर
ट्रेन के पेंट्रीकार में मैनेजर पर अपने कर्मचारियों का रिकोर्ड होता है। इसमें कितने कर्मचारियों पेंट्रीकार में चल रहे है। इसकी पूरी जानकारी मैनेजर पर मेडिकल के माध्यम से होती है। लेकिन रेलवे अधिकारी मेडिकल मांगते रहे, लेकिन अंत तक कर्मचरियों की जानकारी नहीं मिल पाई। इस मेडिकल में सभी कर्मचारियों के स्वास्थ्य के बारे में भी रिपोर्ट होती है।

अग्रिशमन यंत्र पर नहीं थी डेट
पेंट्रीकार के गेट पर ही एक अग्रिशमन यंत्र लगा हुआ था। इस यंत्र में न तो जारी होने की और न ही खत्म होने की डेट अंकित थी। इसके बाद जब अधिकारियों ने जब अग्रिशमन यंत्र के बारे में पूछा तो पेंट्रीकार कर्मचारी कहने लगे कि :ष्शश्च4ह्म्द्बद्दद्धह्ल:स पर डेट तो है लेकिन दिख नहीं रही है। इसके बाद कुछ कर्मचारी भी इस डेट को दिखाने में लगे रहे, लेकिन इस यंत्र पर डेट नहीं दिख सकी।

अधिकारी देखकर मची खलबली
ट्रेन के पेंट्रीकार में रेलवे अधिकारियों को देखते ही मैनेजर और अन्य कर्मचारियों में खलबली मच गई। पेंट्रीकार में रखा सामान की पोल नहीं खुल सके इसलिए सभी लोग गेट के आसपास ही आकर खड़े हो गए। लेकिन अधिकारियों ने पेंट्रीकार के अंदर घुसकर पूरी चेकिंग की।

Neeraj Chaturvedi
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned