कोरोना हाॅट स्पाॅट से शहर में आ रहा राशन, लाने वाले बन सकते खतरा

दाल बाजार के कारोबारियों का कहना दूसरे शहरों से राशन

लेकर आने वाले वाहन चालक, क्लीनर की जांच जरुरी

By: Puneet Shriwastav

Published: 18 Apr 2020, 02:14 AM IST

ग्वालियर। कोरोना हाॅट स्पाॅट के शहरों से आ रही रसद खतरा बन सकती है। उन कारोबारियों को डर सता रहा है जिनके गोदामों पर रोज तमाम वाहन इंदौर, भोपाल और महाराष्ट््र से रसद लेकर आ रहे हैं। उन्हें खुटका है कि रसद लेकर आ रहे वाहन चालक और क्लीनर शहर में कोरोना की डिलेवरी कर सकते हैं।

क्योंकि राशन को अत्यावश्यक सामान की सूची में दर्ज किया गया हैं इसलिए सामान को लादकर ला रहे वाहनों के चालक और क्लीनर को कोरोना जांच के लिए रोका टोका नहीं जाता है।

यह लापरवाही भारी पड सकती है। दाल बाजार के कारोबारियों का कहना है कि उन्होंने तो तय किया था कि जिन शहरों में कोरोना का कहर है वहां से बाजार में सामान नहीं मंगाएंगे।

लेकिन हालात को देखते हुए समझौता करना पडा है। अभी तक रात के वक्त वाहन राशन लेकर आ रहे थे अब तो दिन में सीधे बाजार में पहुंच रहे हैं।
ठिकाने पर पहुंचने पर जांच जरुरी
दाल बाजार के अध्यक्ष गोकुल बंसल कहते हैं कि पुलिस और प्रशासन के अधिकारियों से कहा था कि जिन शहरों में कोरोना फेला है उनकी गाडियां रात के वक्त बाजार में आएं।

इससे दुकान खुलने तक कुछ समय मिल सके। इस दौरान सेनेटाइजेशन और सुरक्षा के दूसरे इंतजाम हो। लेकिन अब तो दिन में ही वाहन बाजार में आ रहे हैं।

उनके चालक और क्लीनर बाजार में मौजूद लोगों के साथ उठ बैठ रहे हैं। क्या पता कोरोना हाॅट स्पाॅट वाले शहरों से आने वाला कौन चालक और क्लीनर कोरोना संक्रमित है। कारोबारी इससे सहमे हैं।
रोज करीब 20 बाहरी व्यक्तियों की आवाजाही
बंसल के मुताबिक बाजार में तूअर , मसूर की दाल, काबली चना, सहित आटा, शक्कर और तमाम रसद का सामान इंदौर, भोपाल और महाराष्ट््र के शहरों से आता है।

करीब 10 ट््रक रोज राशन लेकर आ रहे हैं। एक गाडी पर चालक और क्लीनर सहित दो लोगो ंका स्टाफ रहता हैं। जब तक गाडी खाली होती है चालक और क्लीनर बाजार में ही रहते हैं। इनमंे कोई कोरोना संक्रमित है इस आशंका से इंकार नहीं किया जा सकता है।
यह होना चाहिए इंतजाम
- रसद लेकर आने वाले वाहनों को ठिकाने तक पहुंचने में देर नहीं हो इसलिए स्टाफ की रास्ते में थर्मल स्क्रीनिंग नहीं की जा रही है । इन वाहनों के ठिकाने पर पहुंचने पर सामान अनलोड करने से पहले तो चालक और क्लीनर की जांच हो। उससे बाजार के कारोबारी और मजदूरों को संक्रमण का खतरा नहीं रहेगा।
- बाजार में एक प्वाइंट बनाया जाए जहां बाहर से आने वाले वाहनों के स्टाफ की थर्मल स्क्रीनिंग अनिवार्य की जाए।
ऐसे कर रहे सुरक्षा
- अभी जो वाहन बाहर से आ रहे हैं उनसे सामान उतारने वाले पल्लेदारों को समझाया कि गाडियों के चालक, क्लीनर से दूरी बना कर रखे।
- बाहर से आने वाले स्टाफ से अपने स्तर पर बचाव की कोशिश, लेकिन उसके बावजूद खुटका बना रहता है।

Puneet Shriwastav Reporting
और पढ़े

MP/CG लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned