शासकीय सेवा के साथ-साथ दंपत्ति कर रही गौ सेवा का पुनित कार्य

शासकीय सेवा के साथ-साथ दंपत्ति कर रही गौ सेवा का पुनित कार्य

By: Parmanand Prajapati

Published: 04 Apr 2019, 06:48 PM IST

ग्वालियर. समाजसेवा करना सभी का दायित्व है, क्योंकि हमारे द्वारा किए जा रहे समाजसेवा के कार्य से पीडि़त को राहत मिल सकती है, इसके लिए हमें अपने व्यस्तम समय में से कुछ समय लोगों के लिए आवश्यक रूप से निकालना चाहिए। इसी उद्देश्य को लेकर पति-पत्नी मिलकर गौ सेवा का कार्य करते हैं। दोनों ही शासकीय शिक्षक हैं और वह शासकीय सेवा के साथ-साथ ही गौ सेवा करने का पुनित कार्य करते हैं। इसके लिए उन्हें जब भी सूचना मिलती है तो वह किसी भी समय में गौ सेवा के लिए निकल पड़ते हैं और मौके पर घायल गायों का प्राथमिक उपचार कर उन्हें गौशाला तक पहुंचाते हैं। जिससे घायल गायों को तत्काल उपचार मिल पाता है और वह गंभीर हादसों से बच जाती है। उनके द्वारा गौ सेवा के लिए किए जा रहे इस पुनित कार्य से प्रेरित होकर उनके साथी भी गौ सेवा का कार्य कर रहे हैं।
शासकीय शिक्षक धर्मेन्द्रसिंह तोमर और उनकी पत्नी साधना तोमर दोनों ही गौ सेवा के लिए हर समय तत्पर रहते हैं। शहर में कहीं पर भी गौ माता के बीमार होने या फिर सडक़ दुर्घटना में घायल होने की सूचना मिलने पर वह तत्काल मौके पर पहुंच जाते हैं। वह विद्यालय पहुंचने से पूर्व में रास्ते भर गौ सेवा करते हैं। इसके पश्चात विद्यालय से आने के बाद भी गौ सेवा के लिए समय निकालते हैं। उन्हें रास्ते में जो भी घायल जानवर मिलता है तो उसे घर ले आते हैं। जहां पर घायल जानवरों का नियमित उपचार करते हैं। जब तक वह पूरी तरह से ठीक नहीं हो जाता है तब तक उसकी देखभाल करते हैं। जिसमें कई माह का समय भी लग जाता हैं। उनके द्वारा अभी तक करीब एक सैंकड़ा से अधिक गाय, दो सैंकड़ा से अधिक स्वान (कुत्ते), बंदर, बिल्ली, गिलहरी के अलावा जो भी पशु-पक्षी घायल अवस्था में मिलता है तो वह उसका उपचार खुद ही करते हैं। इसी के साथ ही उन्होंने सडक़ दुर्घटना में मृत हुए करीब आधा सैंकड़ा स्वान (कुत्ते) को दफनाने का कार्य भी किया जा चुका है। घायल गायों का उपचार करने के पश्चात उन्हें गौ शाला तक पहुंचाने का कार्य भी उनके द्वारा किया जाता है। उनके द्वारा गौ सेवा के लिए किए जा रहे इस पुनित कार्य को देखते हुए लोगों द्वारा उन्हें गौ सेवक भी कहा जाता है। उनका लक्ष्य है कि वह एक छोटी गौ शाला खोलकर उसमें गायों की सेवा कर सकें, इसके लिए वह प्रयासरत हैं।

Parmanand Prajapati Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned