रेरा चेयर मैन ANTONY DISA बोले- अब गलत तरीके से एग्रीमेंट किया तो नपेगा बिल्डर

Gaurav Sen

Publish: Dec, 08 2017 11:26:20 (IST) | Updated: Dec, 08 2017 11:38:58 (IST)

Gwalior, Madhya Pradesh, India
रेरा चेयर मैन ANTONY DISA बोले- अब गलत तरीके से एग्रीमेंट किया तो नपेगा बिल्डर

चौथी बार आयोजित हुई सुनवाई में 51 प्रकरणों पर सुनवाई हुई। करीब तीन घंटे तक चली सुनवाई के बाद आवेदकों को अगली सुनवाई के रूप में 22 दिसंबर की तारीख दे द

ग्वालियर. रेरा (रियल एस्टेट रेगुलेटरी अथॉरिटी) के अंतर्गत अब बिल्डर को खास तौर पर ध्यान रखना होगा कि यदि वह गलत तरीके से कोई भी एग्रीमेंट करता है तो उसका खामियाजा उसे भुगतना ही पड़ेगा। गलत तरीके से यदि एग्रीमेंट किया गया है तो बिल्डर के खिलाफ कार्रवाई होना तय है।

 

यह बात रेरा के चेयरमेन एंटनी डिसा ने गुरुवार को मोतीमहल स्थित मानसिंह सभागार में हुई के दौरान एक शिकायत की सुनवाई के दौरान कही। चौथी बार आयोजित हुई सुनवाई में 51 प्रकरणों पर सुनवाई हुई। करीब तीन घंटे तक चली सुनवाई के बाद आवेदकों को अगली सुनवाई के रूप में 22 दिसंबर की तारीख दे दी गई है।

 

ये आई शिकायतें
1. बोस्टन कॉलेज के पीछे बन रहे एक प्रोजेक्ट में 110 स्टूडियो अपार्टमेंट और ग्राउंड फ्लोर पर 20 दुकानें बनाई जा रही हैं। पर जिन ग्राहकों ने इसमें बुकिंग की थी वे अब बाजार में मंदी के कारण अपनी बुकिंग को कैंसिल कराना चाहते हैं। बुकिंग के समय ग्राहकों ने 10 से 20 फीसदी रकम जमा की थी। इस प्रकरण पर रेरा के चेयरमेन एंटनी डिसा ने प्रोजेक्ट के कर्मचारियों से कहा कि यदि ग्राहक पजेशन नहीं लेना चाहते हैं तो कैंसिल कर दीजिए। कंपनी के नियम के मुताबिक ग्राहकों को इसमें कुल बुकिंग का 10 फीसदी काटकर दिया जा सकता है।


2 . एक प्रोजेक्ट की शिकायत लेकर आए आवेदक का कहना था कि हमारे प्रोजेक्ट के बिल्डर कौन हैं हमें पता ही नहीं चल रहा है। इस पर चेयरमेन डिसा ने कहा कि इसके लिए आप प्रोजेक्ट की वेबसाइट पर देख सकते हैं उस पर पूरी की पूरी जानकारी मौजूद है।


3. 2012 से बन रहे एक प्रोजेक्ट की शिकायत लेकर आए आवेदकों का कहना था कि अभी तक इस प्रोजेक्ट पर कोई काम नहीं हुआ है। बिल्डर ने किसी तरह का प्लान भी बनाकर नहीं दिया है। हमें हमारा पैसा मय ब्याज के वापस चाहिए।


४ कलेक्ट्रेट के पीछे बनाए जा रहे एक प्रोजेक्ट में 4 ब्लॉक बनकर तैयार हैं। इसके लिए शिकायत लेकर आए शिकायतकर्ता ने कहा कि रेरा के नियमों के मुताबिक एग्रीमेंट नहीं किया गया है। यहां पर पार्किंग और रख-रखाव की जानकारी भी नहीं दी जा रही है। जो जानकारी दी जा रही है वह भी अंग्रेजी भाषा में है ऐसे में इसे समझने में परेशानी आती है। इस प्रकरण की सुनवाई करते हुए चेयरमेन एंटोनी डिसा ने कहा कि पूरे कागजातों के साथ अगली सुनवाई में आइए, निराकरण किया जाएगा।

जाने रेरा को
रियल एस्टेट (विनियमन और विकास) अधिनियम 2016 भारत की संसद का एक अधिनियम है जो घर खरीदारों के हितों की रक्षा करने के लिए और अचल संपत्ति उद्योग में अच्छे निवेश को बढ़ावा देने के लिए बना है। इस अधिनियम को बिल्डरों, प्रमोटरों और रियल एस्टेट एजेंटों के खिलाफ शिकायतों में वृद्धि देखकर बनाया है। शिकायतों में मुख्य रूप से खरीदार के लिए घर कब्जे में देरी, समझौते पर हस्ताक्षर करने के बाद भी प्रमोटरों का गैर जिम्मेदाराना व्यवहार और कई तरह की समस्याएं हैं। रेरा एक सरकारी निकाय है जिसका एकमात्र उद्देश्य खरीदारों के हितों की रक्षा के साथ ही प्रमोटरों और रियल एस्टेट एजेंटों के लिए एक पथ रखना है ताकि उन्हें बेहतर सेवाओं के साथ आगे आने का मौका मिले।

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned