6 साल में 70 आवेदन दिए फिर भी रिटायर्ड नेवी ऑफिसर की पत्नी की नहीं हुई सुनवाई

पीडि़ता का अरोप अशोक गृह निर्माण सहकारी समिति जीडीए का कूटरचित आवंटन पत्र बनाकर प्लॉट की फर्जी रजिस्ट्री कर १६ लाख रुपए ठगे

By: Harpal chauhan

Published: 03 Dec 2019, 09:19 PM IST

ग्वालियर। रिटायर्ड नेवी ऑफिसर की पत्नी को शताब्दीपुरम में प्लॉट की फर्जी रजिस्ट्री कर अशोक गृह निर्माण सहकारी समिति के कुछ लोगों ने जीडीए का कूटरचित आंवटन पत्र देकर लाखों रुपए हड़प लिए। उन्हें मालूम तब चला जब उस प्लॉट पर निर्माण कार्य कराने के बाद जीडीए द्वारा फर्जी रजिस्ट्री बताकर निर्माण कार्य तोड़ दिया। उक्त आरोप लगाते हुए पीडि़ता ने एक बार मंगलवार को जनसुनवाई में शिकायती आवेदन देकर कहा कि पिछले ६ सालों में थाना, सीएसपी सहित पुलिस अधिकारियों को ७० से ज्यादा आवेदन दे चुकी हैं, लेकिन धोखाधड़ी करने वालों पर एफआइआर नहीं हुई। हालांकि जीडीए भी एफआइआर के लिए पुलिस को पत्र लिख चुकी है।

फेस-२ शताब्दीपुरम निवासी नीलम भदौरिया पत्नी जितेन्द्र के साथ धोखाधड़ी हुई है। नीलम का आरोप है अशोक गृह निर्माण सहकारी समिति दर्पण कॉलोनी के बल्देव सिंह भदौरिया, किरन भदौरिया, आदित्य भदौरिया, मनोज, किशन और मयंक ने उनके साथ धोखाधड़ी की है। नीलम ने बताया इन सभी ने शताब्दीपुरम में एक प्लॉट १६ लाख रुपए लेकर उन्हें बेचा था। इसके बाद प्लॉट पर उन्होंने चार फीट की फाउंडेशन, बोरिंग अन्य निर्माण करा लिया। ३० दिसंबर २०१५ को जीडीए द्वारा फर्जी रजिस्ट्री बताकर निर्माण कार्य तोड़ दिया। बल्देव से रुपए लौटाने को कहा तो उन्होंने २७ अगस्त २०१६ को स्टाम्प पेपर पर नोटरी कर लिखकर दिया ३१ दिसंबर २०१६ तक नामातंरण नहंी करा सका तो ११.५० लाख रुपए लौटा देंगे। इससे पहले ६ मई २०१६ को बल्देव की पत्नी ने तोड़े गए निर्माण कार्य के एवज में पीढि़ता को ५ लाख रुपए का चेक दिया, ताकि उन पर एफआइआर न हो।
समय पूरा होने के बाद भी नहीं दे रहे रकम

नवनिकेतन एग्रीकल्चरल मार्केटिंग को-ऑपरेटिव सोसायटी में ३ से ५ साल के लिए पैसा जमा किया था। सोसायटी वालों ने मय ब्याज के पैसा लौटाने का वादा किया, लेकिन समय पूरा होने पर भी भुगतना नहीं दिया गया। डर है कि सोसायटी रुपए लेकर भाग न जाए। उक्त आरोप लगाते हुए सोसायटी मे पैसा जमा कराने वाले करीब २० लोग एसपी की जनसुनवाई पहुंचे। उन्होंने मांग की सोसाइटी से उनका पैसा दिलाया जाए।

Harpal chauhan Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned