आरटीपीसीआर रिपोर्ट सटीक इसलिए रैपिड से ज्यादा इस पर जोर

कोरोना बढ़ते ही अब लोगों में इसकी जांच कराने की होड़ मच गई है, लेकिन कोरोना की जांच को लेकर लोगों के मन में तरह- तरह के सवाल...

ग्वालियर. कोरोना बढ़ते ही अब लोगों में इसकी जांच कराने की होड़ मच गई है, लेकिन कोरोना की जांच को लेकर लोगों के मन में तरह- तरह के सवाल आते हैं, क्योकि एक में पॉजिटिव तो दूसरी में निगेटिव आने पर लोग बड़ी परेशानी में आ जाते हैं। इस संबंध में जीआरएमसी के मेडिसिन विभाग के डॉक्टर अजय पाल सिंह ने बताया कोविड की जांच दो तरह से होती है। पहला आरटीपीसीआर और दूसरी रैपिड एंटीजन टेस्ट से होती है। दोनों ही टेस्ट इस समय मरीजों की जांच के लिए हो रहे हैं, लेकिन इसमें सबसे ज्यादा सटीक रिपोर्ट आरटीपीसीआर की ही आती है। इसीलिए डॉक्टर भी इसी रिपोर्ट पर ज्यादा भरोसा कर रहे हैं। दोनों ही जांच जरूरत के हिसाब से की जाती है। जब ज्यादा जल्दी होती है तो रैपिड एंटीजन रिपोर्ट कराई जाती है।


यह भी जानें...

- आरटीपीसीआर और रैपिड एंटीजन में क्या अंतर है?
रैपिड एंटीजन की रिपोर्ट दस मिनट में आ जाती है।
जल्दी टेस्ट रिपोर्ट के लिए रैपिड से जांच कराई जाती है। वहीं रैपिड आरटीपीसीआर की रिपोर्ट चौबीस घंटे में आती है। आरटीसीआर स्टैंडर्ड है।

- शहर में चौबीस घंटे रिपोर्ट कहां पर होती है?
जिले में चौबीस घंटे आरटीपीसीआर और रैपिड एंटीजन की रिपोर्ट जेएएच में होती है। यहां कोल्ड ओपीडी में दिन के साथ रात में भी रिपोर्ट हो सकती है।

- रैपिड में अगर निगेटिव है तो?
रैपिड अगर निटेगिट है और अगर आपको डाउट हो रहा है तो उसे आरटीपीसीआर से जांच करा सकते हैं। आइसीएमआर को गाइड लाइन में गोल्ड स्टैंडर्ड टेस्ट माना गया है।

- अभी तक सबसे ज्यादा कौन सी रिपोर्ट हुई है?
जिले में अभी तक सबसे ज्यादा जांच आरटीपीसीआर से ही जांच कराई जाती है। आरटीसीआर को सटीक माना गया है। इसलिए इसको ही सब लोग कराते हैं।

रिज़वान खान Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned