SC ST ACT विरोध में बंद तो है शांतिपूर्ण, लेकिन पुलिस नहीं ले रही कोई RISK

SC ST ACT विरोध में बंद तो है शांतिपूर्ण, लेकिन पुलिस नहीं ले रही कोई RISK

Gaurav Sen | Publish: Sep, 06 2018 11:15:21 AM (IST) | Updated: Sep, 06 2018 11:19:09 AM (IST) Gwalior, Madhya Pradesh, India

SC ST ACT विरोध में बंद तो है शांतिपूर्ण, लेकिन पुलिस नहीं ले रही कोई RISK

ग्वालियर। एसीएसटी एक्ट के विरोध में सवर्ण और ओबीसी समाज के 6 सितम्बर गुरूवार को बंद के आवाहन पर पूरे ग्वालियर चंबल संभाग में बंद का असर पूरी तरह से दिख रहा है। बाजार बंद हैं इक्का-दुकाने खुली हुई हैंष लोग घरों से नहीं निकल रहे हैं सिर्फ वही लोग बाहर निकल रहे हैं जिन्हें दो वक्त की रोटी की जुगाड़ करनी है। स्कूल,कॉलेज,कोचिंग पूरी तरह से बंद है।बंद हैं। सरकारी विभाग में भी ताले पड़े हुए हैं।

ग्वालियर चंबल संभाग में भारी पुलिस बल तैनात किया गया है। जिनमें भिंड. मुरैना. ग्वालियर और डबरा तहसील पर पुलिस की विशेष निगरानी है। आईजी,एसपी,डीएसपी सहित सभी पुलिस और प्रशासनिक अधिकारी बंद पर नजर बनाए हुए हैं। हालांकी बंद शांतीपूर्ण है लेकिन पुलिस प्रशासन किसी भी तरह की रिस्क लेने को राजी नहीं है। 2 अप्रैल के बंद के बाद से लोगोंं में काफी खौफ है। पहले दलित समाज के बंद करने के बाद अब सवर्ण-ओबीसी के बंद के कारण लोगों ने घरों में रहना ही सही समझा है।

ग्वालियर में भाजपा नेताओं और मंत्रियों को काले झंडे दिखाए
भाजपा के प्रदेश प्रभारी विनय सहस्त्रबुद्धे, प्रदेश संगठन महामंत्री सुहास भगत, मंत्री माया सिंह, नारायण सिंह, रुस्तम सिंह और जयभान सिंह पवैया समेत कई बड़े नेताओं को बुधवार को एट्रोसिटी एक्ट को लेकर काले झंडे दिखाए गए। ये नेता और मंत्री 19 सितंबर को ग्वालियर में होने वाले युवा सम्मेलन की तैयारियों को लेकर बैठक करने यहां एकजुट हुए थे। उनकी मांग थी कि मंत्री या प्रदेश प्रभारी उनकी बात सुनें। इस पर माया सिंह और नारायण सिंह बाहर आए। प्रदर्शनकारियों ने उनसे सवाल किया कि शिवराज सिंह ने ‘माई का लाल’ किसे कहा है? यह एक्ट लाने के पीछे आपकी क्या मंशा है? दोनों मंत्रियों ने कोई जवाब नहीं दिया और भीड़ उग्र होने लगी तो दोनों वापस अंदर चले गए। शहर में बाजार, स्कूल बंद रहेंगे: ग्वालियर में स्कूल-कॉलेज, बाजार, सवारी परिवहन बंद रहेगा। पुलिस ने हर हालात से निपटने के पुख्ता इंतजाम किए हैं। इंटरनेट ठप नहीं होगा।

विरोध में बंद तो है शांतिपूर्ण, लेकिन पुलिस नहीं ले रही कोई रिस्क
एससी एसटी एक्ट के विरोध में डबरा के व्यापारियों का समर्थन है। नगर के बाजार पूर्ण रूप से बंद हैं,जगह जगह पुलिस बल तैनात है। आसपास के थानों का अतिरिक्त पुलिस बल बुलाया गया है,बंद समर्थक गलियों में खुली दुकानों को फूल देकर बंद करने की अपील कर रहे हंै ,दुकानदारों ने बंद के समर्थन के पर्चे,नगर के सभी स्कूल और पेट्रोल पंप बंद हैं,नगर में शांति का माहौल है लेकिन लोगों में डर भी है। वहीं वैश्य महासम्मेलन ने काली पट्टी बांधकर विरोध किया और अपने प्रतिष्ठान बंद रखकर बंद का समर्थन किया है। ई-रिक्शे चले पर सवारी नहीं होने से इंतजार में खड़े रहे यात्री बसें भी लोगों के घरों से नहीं निकलने के कारण बस स्टैंड पर खड़ी रहीं बाजार में सन्नाटा पसरा रहा। धारा 144 लागू होने से लोग घर से बाहर नहीं निकले। लोग अपनी दुकानें बंद कर बाहर खड़े हुए थे। स्कूल खुले लेकिन बच्चों की छुट्टी किए जाने से शिक्षक बैठे हुए थे।

Ad Block is Banned