वीडियो में दिखाया भविष्य का महाराज बाड़ा, सपने पर खर्च करेंगे 200 करोड़

वीडियो में दिखाया भविष्य का महाराज बाड़ा, सपने पर खर्च करेंगे 200 करोड़

Gaurav Sen | Publish: May, 18 2018 11:19:30 AM (IST) Gwalior, Madhya Pradesh, India

वीडियो में दिखाया भविष्य का महाराज बाड़ा, सपने पर खर्च करेंगे 200 करोड़

ग्वालियर। स्मार्ट सिटी के तहत महाराज बाड़े को स्मार्ट बनाने के लिए अफसरों ने गुरुवार को वीडियो दिखाकर भविष्य के बाड़े का सपना दिखाया। इस प्रोजेक्ट पर 200 करोड़ रुपए खर्च होंगे। यह प्रजेंटेशन बाल भवन में महाराज बाड़ा के आसपास के रहवासियों, कारोबारियों और जनप्रतिनिधियों की बैठक कर किया गया। प्रजेंटेंशन में बाड़े पर क्या-क्या करने जा रहे हैं इसे विस्तार से बताया गया। इस दौरान लोगों ने अपने सुझाव व आपत्तियां भी रखीं। उधर स्मार्ट सिटी के इस सपने पर विद्युत वितरण कंपनी भारी पड़ती नजर आ रही है। इस प्रजेंटेशन में थीम रोड को स्मार्ट रोड (दिल्ली के राजपथ की तर्ज) पर विकसित करने का प्लान दिखाया गया।


यह भी दिखाए सपने
थीम रोड के दोनों ओर ग्रीनरी, फुटपाथ, साइकिल टै्रक, स्मार्ट पोल, एलईडी स्क्रीन वाले विज्ञापन के साथ ही अंडरग्राउंड डक्टिंग का व्यूह दिखाया, जिसमें सड़क के ऊपर लगे सभी विद्युत वायर अंडर ग्राउंड होंगे, टेलीफोन की लाइनें आदि को फुटपाथ के नीचे रोड के दोनों ओर बनाया जाएगा। डेढ़ किमी की सड़क पर करीब २१ करोड़ रुपए खर्च होंगे जिसमें १० करोड़ विद्युत कंपनी को वायर व ट्रांसफार्मरों के देने होंगे।

धरोहरों का संरक्षण- निगम का पुराना मुख्यालय, पोस्ट ऑफि स, बैंक भवन, पुरानी कलेक्ट्रेट, सेन्ट्रल लाइब्रेरी, टाउन हॉल ऐतिहासिक इमारतें हैं। हेरिटेज जोन बनाने के लिए उनका संरक्षण किया जाएगा। ऐतिहासिक धरोहरों को संरक्षित करते हुए यहां क्राफ्ट बाजार, हेरिटेज होटल्स और पर्यटन सूचना केन्द्र बनाया जाएगा। विक्टोरिया मार्केट भवन भी लगभग तैयार होने को है। इमारतों के संरक्षण के बाद इनको लाइटिंग के माध्यम से और अधिक आकर्षक बनाया जाएगा। बाड़े पर होने वाले निर्माण कार्यों में इस बात का भी ख्याल रखा जा रहा है कि केन्द्र सरकार के नेशनल बिल्डिंग मानकों का भी पालन किया जाए।


ऐसे बदलेगी बाड़े की सूरत

  • गोरखी स्कूलको भी मॉडल स्कूल के रूप में विकसित किया जाएगा, जिसमें स्मार्ट क्लास प्रोजेक्ट के माध्यम से 15 स्मार्ट क्लास रूम बनाए जाएंगे।
  • तारामंडल निगम तारामंडल नहीं बना पाया हो, लेकिन अब स्मार्ट सिटी में स्काउट भवन के पीछे तारामंडल बनाने का प्रस्ताव तैयार किया गया है।
  • होटल गजराराजा स्कूल के रानी महल को संरक्षित कर फाइव स्टार होटल के रूप में विकसित करने का प्लान सुझाया गया।
  • सोलर ट्री पार्किंग के ऊपर गार्डन बनेगा, जिसमें सोलर ट्री लगेंगे। यह पेड़ जैसे दिखने वाले उपकरण बिजली पैदा करेंगे।

दो मंजिला पार्किंग स्काउट एवं गाइड, गोरखी स्कूल तथा पुरानी कलेक्ट्रेट के परिसर में अंडर ग्राउंड दो मंजिला पार्किंग बनेगी जिसमें 500 दो पहिया वाहन तथा 350 चार पहिया वाहन एक समय में पार्क किए जा सकेंगे। डिजिटल लाइब्रेरी केंद्रीय लाइब्रेरी को डिजिटल किया जाएगा, पुरानी पुस्तकों आदि को ऑनलाइन किया जाएगा। शहर के कुछ स्थानों पर डिजिटल केंद्र भी बनाए जाएंगे, जहां से लोग उक्त लाइब्रेरी से कनेक्ट होकर जानकारी हासिल कर सकेंगे। मार्केट महाराज बाड़ा के आस-पास बाजार और शासकीय प्रेस में स्मार्ट बाजार लगाए जाएंगे। स्काउट के ऊपर कैफेटेरिया, पार्किंग में मार्केट, स्केलेटर लगाकर बाड़ा क्षेत्र में निगम के हॉकर्स और फुटपाथियों को व्यवस्थित करने की कोशिश की जाएगी।


1.जनप्रतिनिधियों व कारोबारियों के सवाल

कौन सा काम होगा पहले
महाराज बाड़ा को स्मार्ट बना देंगे, लेकिन उससे जुडऩे वाली लिंक गलियों और सड़कों का क्या होगा, उन्हें भी स्मार्ट बनाया जाए। यह भी बताएं किकौन सा काम पहले होगा। यह सवाल एमआइसी सदस्य सतीश बोहरे ने किया तो अफसर जवाब देने की जगह टाल गए। इस पर आयुक्त ने कहा कि खजाना मिला तो शहर स्मार्ट बना देंगे।

खजाना है अंदर
हिंदू महासभा के पार्षद बाबूलाल चौरसिया ने कहा, हमारे पुरखों ने बताया है कि महाराज बाड़ा के नीचे पूरा पोला है। वहां खजाना छुपा हो सकता है, उसकी तलाश कराई जाए। इस पर कटाक्ष भी हुआ।

कैसे पहुंचेगा वाहन
कारोबारी राजीव ने कहा, बाड़ा स्थित बैंक में कैश जमा करने कैसे पहुंचेंगे, आप नो व्हीकल कर देंगे तो, इस पर अफसर बोले कि जरूरी वाहनों की एंट्री होगी।

स्वर्ण रेखा पर बने पार्किंग
तारागंज से कमानी पुल के बीच वाले हिस्से में स्वर्ण रेखा पर पार्किंग बनाकर नदी के दोनों ओर सड़क बनाई जाए तो ट्रैफिक बेहतर होगा।
राकेश जादौन, अध्यक्ष साडा

Ad Block is Banned