दो बच्चों को सांप ने डसा,परिजन उलझे झाड़ फूंक में,इलाज से पहले सामने आया ये सच

दो बच्चों को सांप ने डसा,परिजन उलझे झाड़ फूंक में,इलाज से पहले सामने आया ये सच

monu sahu | Publish: Jul, 13 2018 05:30:52 PM (IST) Gwalior, Madhya Pradesh, India

दो बच्चों को सांप ने डसा,परिजन उलझे झाड़ फूंक में,इलाज से पहले सामने आया ये सच

ग्वालियर। शिवपुरी जिले के दिनारा कस्बे में कृष्णा चौराहा के सामने रहने वाले दो मासूम बच्चों को एक के बाद एक सांप ने डस लिया। इसमें एक बालिका की पहले मौत हो गई,जबकि दूसरे बालक को सांप ने डसा, यह बात परिजन समझ नहीं पाए जिसके चलते देरी से अस्पताल ले जाने के बाद बालक ने भी दम तोड़ दिया। अस्पताल के बाद परिजन बच्चों को झाड़-फूक के लिए कई मंदिरो पर भी ले गए, लेकिन वहां से भी कुछ नहीं हो पाया।

यह भी पढ़ें : आठ साल में प्रदेश के इस शहर में हुई सबसे कम बारिश,अब यह है स्थिति,यहां देखे आकड़ें

कृष्णा चौराहा के सामने रहने वाले बल्लू झा की बेटी राधे (12) अपने कमरे में खटिया पर सो रही थी। तभी उसे सांर्प ने सुबह करीब 4 बजे डस लिया। सांप के डसते ही बालिका ने दर्द के चलते शोर मचाया तो परिजन उसे इलाज के लिए झांसी मेडिकल कॉलेज ले गए। यहां पर डॉक्टरो ने उसकी नाजुक हालत को देखते हुए ग्वालियर रैफर कर दिया, लेकिन ग्वालियर पहुंचने से पूर्व उसकी मौत हो गई।

यह भी पढ़ें : साडा रोड पर इस हाल में पड़ा था थानेदार,जिसने भी देखा रह गया हैरान,पुलिस ने साधी चुप्पी

इसके बाद परिजन उसे भिंड के अलावा कई मंदिरों पर ले गए लेकिन झाड़-फूंक के बाद भी कुछ नहीं हो पाया। इधर बल्लू झा के पड़ोस में रहने वाले लालाराम साहू के १४ साल के बेटे अतुल को भी उसी सांप ने डस लिया था,परिजनों को लगा कि अतुल राधे की हालत देखकर डर गया और इसलिए उसकी हालत ऐसी हो रही है।

यह भी पढ़ें : पत्नी का एकाउंट हैक कर यह युवक रहा था ऐसा गलत काम,फिर ऐसे सामने आई ये सच्चाई

सुबह करीब 11 बजे जब अतुल बेसुध होने लगा तो परिजन उसे लेकर झांसी अस्पताल पहुंचे, जहां इलाज से पूर्व ही डॉक्टरों ने अतुल को भी मृत घोषित कर दिया।

यह भी पढ़ें : बड़ी खबर : चुनाव से पहले कांग्रेस ने उठाया अब तक का सबसे बड़ा कदम,युवाओं को मिलेगा यह मौका,यूथ में खुशी

बताया जा रहा है कि देर शाम तक अतुल के भी परिजन झाड़-फूक से अतुल को सही कराने का प्रयास कराते रहे लेकिन कोई निष्कर्ष नहीं निकला। बताया जा रहा है कि अतुल दतिया के गणेशखेड़ा गांव में रहता था लेकिन दिनारा में वह अपने भाई के साथ कई दिनो से पढ़ रहा था।

 

Ad Block is Banned