मां-बाप बोले- वीडियो कॉल पर दिखाते थे बच्ची का चेहरा, पड़ोसी ने दिया धोखा

मां-बाप बोले- वीडियो कॉल पर दिखाते थे बच्ची का चेहरा, पड़ोसी ने दिया धोखा

Rizwan Khan | Publish: Apr, 17 2019 06:53:22 PM (IST) Gwalior, Gwalior, Madhya Pradesh, India

बदनापुरा बस्ती में छह माह की मासूम को खरीदने का लिंक जिस्म कारोबार के लिए नादानों की खरीद फरोख्त से जुड़ गया है। मासूम के माता-पिता ने

ग्वालियर. बदनापुरा बस्ती में छह माह की मासूम को खरीदने का लिंक जिस्म कारोबार के लिए नादानों की खरीद फरोख्त से जुड़ गया है। मासूम के माता-पिता ने मंगलवार को खुलासा किया उन्हें पड़ोसी अनिकेत कंजर ने धोखा दिया था। तीन महीने पहले अनिकेत ने उनकी बच्ची को बेहतर जिदंगी देने का भरोसा दिलाकर मऊरानीपुर में सास मैना के जरिए बदनापुरा पहुंचाया है। एक बार उनसे बच्ची को लेने के बाद अनिकेत ने माता-पिता को उससे नहीं मिलने दिया। बेटी से मिलने की जिद करने पर पड़ोसी वीडियो कॉल पर बच्ची की सूरत दिखाकर उन्हें तसल्ली देता, लेकिन यह नहीं बताता था कि बेटी कहां और किसके पास है। अब पुलिस ने बच्ची को बरामद किया है तो तीन दिन से अनिकेत ने उसके माता पिता को घेर रखा है। उन्हें एक पल के लिए भी नजर से दूर नहीं होने दे रहा है।
मासूम बच्ची को पालने के बहाने बदनापुरा में छिपा कर रखने वाली माया और उसका देवर आकाश कालकोर पकड़ा गया है। आकाश जिस्म फरोशी के लिए नादान बच्चियों की सौदेबाजी का पुराना कारोबारी है और गरीब परिवार की बच्चियों को जिस्म फरोशी के धंधे में खपाने वाले दलाल राममिलन कंजर का रिश्तेदार है। तीन साल पहले इस धंधे में नाम आने के बाद अंडरग्राउंड हो गया था। बचने के लिए कुछ समय तक मुंबई के रेड लाइट एरिया में छिपा रहा फिर सेंटिंग जमाकर लौट आया था। पुलिस के रिकार्ड में फरार होने के बावजूद वह बदनापुरा बस्ती में ही था।


सबूत लाओ तब मिलेगी बेटी
मंगलवार को बच्ची के माता पिता उसे वापस लेने के लिए बाल कल्याण समिति के सामने पेश हुए। अनिकेत कंजर भी उनके साथ आया था। समिति के अध्यक्ष डॉ. केके दीक्षित ने बताया रिंकी और उसका पति बेटी वापस मांग रहे थे। उनसे कहा गया है कि बरामद हुई बच्ची उनकी बेटी है इसका सबूत लाओ। दोनों बच्ची को गोद देने का सबूत भी नहीं पेश कर सके। सबूत जुटाने के लिए दंपती ने कुछ वक्त मांगा है।

हमें अंधेरे में रखा, बोला मुंबई में बेच दी बेटी
जैसा कि मासूम बच्ची की मां रिंकी (परिवर्तित नाम) ने पत्रिका को बताया
परिवार गरीब है और तीन बेटियों को पालना बूते के बाहर था। परिवार की माली हालत की जानकारी वैदोरा, झांसी निवासी अनिकेत कबूतर (कंजर) को थी। वह मेरी मां का पड़ोसी है। उसने लालच दिया कि उसकी सास मैना निवासी मऊरानीपुर बच्ची को गोद लेना चाहती है। तीन महीने पहले बेटी को अनिकेत के हवाले किया था। इसके बाद उससे कहा कि एक बार बेटी की सूरत देखना है तो उसने टाल दिया। कुछ दिन पहले वीडियो कॉल पर बेटी का चेहरा दिखा दिया। इसी के साथ ही भरोसा दिलाया कि 6 अप्रैल को परिवार में शादी है वहां बेटी भी आएगी वहां मुलाकात करवा देगा लेकिन वह भी झूठ निकला। उसे टोका तो बोला तेरी बेटी को बेच दिया है वह मुंबई में है। अब बच्ची बदनापुरा बस्ती में मिली है। यहां जिस्म फरोशी के लिए मासूम बच्चियों की खरीद फरोख्त होती है। पड़ोसी ने हमें धोखा दिया है।


बच्चियों की खरीद फरोख्त का हो सकता खुलासा
देह कारोबार के लिए मासूम बच्चियों की खरीद फरोख्त करने वाले आकाश कालकोर के पकड़े जाने से बड़े रैकेट का खुलासा हो सकता है। करीब तीन साल पहले मानसिंह चौराहे के पास फुटपाथ पर रहने वाले दिव्यांग मजदूर की डेढ़ साल की बेटी को चोरी कर बदनापुरा में देह कारोबारियों को बेचने में उसकी तलाश थी। बच्ची को गैंग मेंबर लक्ष्मी कुशवाह ने चुराया था। उसे दलाल राममिलन कंजर के जरिए बदनापुरा में रामबली कंजर को बेचा था। रैकेट के पकड़े जाने पर रामबली बदनापुरा से फरार हो गया था। उसके बारे में पता चला था कि इलाहबाद में घंटाघर के पास उसका सुरक्षित ठिकाना है। वहां भी जिस्म फरोशी के लिए मासूम बच्चियों और युवतियों की खरीद फरोख्त कर उन्हें मुंबई और नागपुर के रेडलाइट एरिया में खपाता है। आरोपी आकाश कालकोर से पुलिस मानसिंह चौराहे से चुराइ गई बच्ची और रैकेट से जुड़े बाकी लोगों के बारे में पूछताछ कर रही है।

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पड़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते है । हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते है ।
OK
Ad Block is Banned