गिलहरी बनी गर्लफ्रेड और बंदर मामा हुआ जिगरी दोस्त

बेजुबान जानवरों और पक्षियों का ख्याल रखते है

ग्वालियर। आज इस भागमभाग की दुनिया में लोग अक्सर यही कहते हुए सुने जा सकते है कि उन्हें खुद के लिए ही फुर्सत नहीं है तो दूसरों के लिए क्या करेगे। लेकिन एक शख्स एेसा भी है जो खुद से ज्यादा बेजुबान जानवरों और पक्षियों का ख्याल रखते है। खुद के भोजन से पहले वह उन जानवरों या पक्षियों के लिए भोजन का इंतजाम करते है। इन बेजुबानों से इतना लगाव है कि गिलहरी को उन्होंने अपनी गर्लफ्रेंड और बंदर मामा जिगरी दोस्त बन गए है। यहीं नहीं पक्षियो ंसे जितना लगावा है उतना प्रकृति से भी है। इसलिए पर्यावरण को बचाने के लिए भी वह हर दिन प्रयास में जुटे रहते है। हम बात कर रहे है एयरफोर्स से मासटर वारंट ऑफिसर से रिटायर्ड मुकेश कुमार मिश्रा की। जिनकी उम्र अब ६१ की है लेकिन जज्बा युवाओं से कम नहीं है। इसलिए युवाओ ंको चाहिए कि उनसे सीख जरूर ले। मुकेश ने बताया कि उन्हें पुस्तक पढऩे का काफी शौक रहा है। कॉलेज में थे तभी से कई लेखकों की पुस्तकें पढ़ी। उन्हें पुस्तको ंसे उन्हें प्रकृति और बेजुबान जानवरों के बारे मे ंपता चला। फिर क्या था तभी से इस कार्य में जुट गए। अब भी सुबह जब शारदा बालग्राम अपनी टीम के साथ निकलते है तो बेजुबान जानवर और पक्षियों के लिए बासी रोटी नही बल्कि खुद अपने हाथों से रोटी बनाकर ले जाते है। बंदर मामा के लिए चने और अन्य कई चीजे। उन्हें देखते ही बंदर मामा उनके पास आ जाते है। इसके अलावा पोधे तो लगाते ही लेकिन उनका ख्याल ज्यादा रखते है। बहुत से लोग होते है पौधे लगाया फोटो खिचवाया और फिर भूल गए। लेकिन मुकेश पोधे लगाने से ज्यादा उन्हें पानी देना उनका हर तरह से ध्यान रखने पर ज्यादा महत्व देते है। इसलिए युवओं को कई चीजे उनसे सीखने को मिल सकती है।
४० साल किया ब्लड डोनेट

किसी भी तरह की मदद हो मुकेश ने काफी हार नहंी मानी। ४० साल तक उन्होंने ब्लड डोनेट किया। कई लोगों को ब्लड देकर उनकी जान बचाई। लेकिन अब उम्र काफी हो चुकी है, डॉक्टर ने भी मना कर दिया इसलिए पिछले एक साल से ब्लड डोनेट नहीं कर रहे है।
प्रकृति से जुडऩा युवाओ ंके लिए भविष्य का इनवेस्ट

मुकेश का युवओं से कहना है आसमान काफी ऊंचा है। जितनी ऊंचाई पर उडऩा है जरूर उड़ो। लेकिन यह जरूर सोचो की हमें रहना तो जमीन पर ही है। जीवनभर पैसा इकट्ठा करते हो ताकि भविष्य सुरक्षित रहे। इसलिए प्रकृति से जुडऩा भी एक इनवेस्ट है। भविष्य के लिए आप और आपके बच्चों के लिए यह जुड़ाव काफी काम आएगा।

Harpal chauhan
और पढ़े

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned