ठंड में जमीन पर बैठकर दे रहे थे परीक्षा, बाद में ग्रीन नेट लेकर पहुंचे अधिकारी

जब उडऩदस्ता परीक्षा का निरीक्षण करने पहुंचा तो उसमें शामिल अधिकारियों ने परीक्षार्थियों के लिए पर्याप्त टाटपट्टी उपलब्ध कराने के निर्देश दिए, इसके बाद बीआरसी आनन-फानन में ऑटो से ग्रीन नेट लेकर पहुंचे

By: Rahul rai

Updated: 03 Mar 2019, 01:18 AM IST

ग्वालियर। हायर सेकंडरी की परीक्षा के पहले दिन भी जिले के कई स्कूलों में बदइंतजामी नजर आई। शताब्दीपुरम स्थित शासकीय मॉडल हायर सेकंडरी स्कूल में फर्नीचर नहीं होने से परीक्षार्थी ठंड में जमीन पर बैठकर प्रश्न पत्र हल कर रहे थे। यहां उनके बैठने के लिए टाटपट्टी भी नहीं थी, जब उडऩदस्ता परीक्षा का निरीक्षण करने पहुंचा तो उसमें शामिल अधिकारियों ने परीक्षार्थियों के लिए पर्याप्त टाटपट्टी उपलब्ध कराने के निर्देश दिए, इसके बाद बीआरसी आनन-फानन में ऑटो से ग्रीन नेट लेकर पहुंचे।

 

इसी तरह पनिहार में भी परीक्षार्थी जमीन पर बैठकर पेपर हल कर रहे हैं। डीएवी स्कूल में फर्नीचर उपलब्ध करा दिया गया है। उधर हाईस्कूल की परीक्षा के दौरान शुक्रवार को बिजली गुल रहने के मामले को कलक्टर ने गंभीरता से लेते हुए बिजली अफसरों से जवाब तलब किया है।

 

माध्यमिक शिक्षा मंडल भोपाल की 12वीं की परीक्षा के पहले दिन शनिवार को हिन्दी का पेपर हुआ। परीक्षार्थी आधा घंटा पहले परीक्षा केंद्र पर पहुंचे। परीक्षा केंद्र पर प्रवेश के समय परीक्षार्थियों की चेकिंग की गई। पनिहार में परीक्षा केंद्र पर एक परीक्षार्थी मोबाइल लेकर पहुंचा था, यह परीक्षा केंद्र अति संवेदनशील होने से गेट पर चेकिंग के दौरान ही छात्र को पकड़ लिया और फटकार लगाकर मोबाइल जब्त कर लिया, इसके बाद परीक्षा हॉल में जाने दिया।

 

परीक्षा केन्द्रों पर धारा 144 लागू की गई है, इसके बाद भी अभिभावकों के बड़ी तादाद में परीक्षार्थियों को छोडऩे जाने से भीड़ हो गई। जेसी मिल स्कूल, शासकीय हायर सेकंडरी स्कूल क्रमांक दो, पदमा स्कूल, पागनवीसी उत्कृष्ट स्कूल, एमएलबी स्कूल, हरिदर्शन स्कूल के बाहर काफी भीड़ रही। पुलिस लोगों को यहां से भगाया।

 

518 परीक्षार्थी रहे अनुपस्थित
जिले में बारहवीं की परीक्षा में पहले दिन 15,313 परीक्षार्थियों में 14,795 परीक्षार्थी उपस्थित हुए, 518 अनुपस्थित रहे। किसी भी परीक्षा केंद्र पर नकल प्रकरण नहीं बना।

 

09 मिनट आया था फॉल्ट
डीएवी स्कूल नया बाजार में हाईस्कूल की परीक्षा के दौरान शुक्रवार को बिजली बंद होने के मामले को शिक्षा विभाग और जिला प्रशासन ने गंभीरता से लिया है। कलक्टर भरत यादव द्वारा इस संबंध में बिजली अफसरों को कारण बताओ नोटिस जारी किया जा रहा है। बिजली कंपनी अधिकारियों ने भी मामले की जांच की है। बिजली अफसरों की जांच में 09 मिनट का ट्रांसफार्मर पर फॉल्ट आना बताया गया है। सुबह 9 बजकर 22 मिनट पर फॉल्ट आया और 9 बजकर 31 मिनट पर सप्लाई शुरू कर ली गई थी।

Rahul rai
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned