scripttansen ceremony special tansen had teased temple temple became crooked | तानसेन समारोह : शिव के कहने पर तानसेन ने छेड़ी थी तान, टेढ़ा हो गया मंदिर | Patrika News

तानसेन समारोह : शिव के कहने पर तानसेन ने छेड़ी थी तान, टेढ़ा हो गया मंदिर

तानसेन समारोह को देश-विदेश के पर्यटक देखने आते हैं। झिलमिल नदी के किनारे है इनका स्थल, संगीत के सम्राट तानसेन शिव जी के थे बड़े भक्त।

ग्वालियर

Updated: December 25, 2021 09:55:47 pm

ग्वालियर. अकबर के नौ रत्नों में से एक संगीत सम्राट तानसेन का जन्म बेहट के एक मरकंड पांडे के परिवार में 1506 में हुआ था। ब्राह्मण परिवार के होने के बावजूद तानसेन बकरियां चराते थे और रोजाना बकरी का दूध झिलमिल नदी के किनारे बने भगवान शिव के मंदिर में चढ़ाते थे। एक बार वे भगवान शिव पर दूध चढ़ाना भूल गए, लेकिन जब शाम को खाना खाते समय याद आया तो वे व्याकुल हो उठे और खाना छोड़कर दूध चढ़ाने के लिए मंदिर की ओर रवाना हो गए।

News
तानसेन समारोह : शिव के कहने पर तानसेन ने छेड़ी थी तान, टेढ़ा हो गया मंदिर

कहते हैं कि, बालक तानसेन की इस भक्ति से भगवान शिव इतने प्रसन्न हुए कि उन्हें साक्षात दर्शन देते हुए उनसे संगीत सुनने की इच्छा प्रकट की। शिवजी के कहने पर तानसेन ने ऐसी तान छेड़ी कि शिव मंदिर ही टेढ़ा हो गया।

यह भी पढ़ें- अब पुलिस की वर्दी पर लगेंगे खास कैमरे, अपराधियों की धरपकड़ और कार्रवाई होगी LIVE


ग्वालियर से सीखा संगीत का ककहरा, वृंदावन से ली थी उच्च शिक्षा

ग्वालियर से संगीत का ककहरा सीखने के बाद तानसेन ने वंदावन में संगीत की उच्च शिक्षा ली। इसके बाद शेरशाह सूरी के पुत्र दौलत खां और फिर बांधवगढ़ (रीवा) के राजा रामचंद्र के दरबार के मुख्य गायक रहे। यहां से सम्राट अकबर ने उन्हें आगरा बुलाकर अपने नवरत्नों में शामिल कर लिया था।

यह भी पढ़ें- पाकिस्तान से आ रही सर्द हवाओं से गिरेगा तापमान, यहां पड़ेगा असर, बारिश के भी आसार


मोहम्मद गौस के वरदान से जन्मे तानसेन

इतिहासकारों के अनुसार तानसेन का जन्म ग्वालियर के तत्कालीन प्रसिद्ध फकीर हजरत मौहम्मद गौस के वरदान स्वरूप हुआ। संगीत सम्राट तानसेन बेहट के किले की गढ़ी के पास रहने वाले बघेल परिवार के यहां रहते थे। उनकी मृत्यु 1589 में हुई थी।

फर्स्ट चर्च सीएनआई में मनाया प्रभु यीशु का जन्म दिवस, देखें Video

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

Republic Day 2022: परम विशिष्ट सेवा मेडल के बाद नीरज चोपड़ा को पद्मश्री, देवेंद्र झाझरिया को पद्म भूषणRepublic Day 2022: 939 वीरों को मिलेंगे गैलेंट्री अवॉर्ड, सबसे ज्यादा मेडल जम्मू-कश्मीर पुलिस कोस्वास्थ्य मंत्री ने कोरोना हालातों पर राज्यों के साथ की बैठक, बोले- समय पर भेजें जांच और वैक्सीनेशन डाटाBudget 2022: कोरोना काल में दूसरी बार बजट पेश करेंगी निर्मला सीतारमण, जानिए तारीख और समयमुख्यमंत्री नितीश कुमार ने छोड़ा BJP का साथ, UP चुनावों में घोषित कर दिये 20 प्रत्याशीAloe Vera Juice: खाली पेट एलोवेरा जूस पीने से मिलते हैं गजब के फायदेगणतंत्र दिवस और स्वतंत्रता दिवस पर झंडा फहराने में क्या है अंतर, जानिए इसके बारे मेंRepublic Day 2022: गणतंत्र दिवस परेड में हरियाणा की झांकी का हिस्सा रहेंगे, स्वर्ण पदक विजेता नीरज चोपड़ा
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.