scriptTansen will not be honored in Tansen ceremony | तानसेन समारोह में नहीं होगा तानसेन सम्मान | Patrika News

तानसेन समारोह में नहीं होगा तानसेन सम्मान

- सुर सम्राट के कार्यक्रम में उनके नाम का अलंकरण ही कर दिया गायब

ग्वालियर

Published: December 23, 2021 10:45:09 am

ग्वालियर. भारतीय शास्त्रीय संगीत का प्रतिष्ठापूर्ण आयोजन अखिल भारतीय तानसेन संगीत एवं अलंकरण समारोह 25 दिसंबर से होने जा रहा है। उपनगर ग्वालियर के हजीरा स्थित संगीत सम्राट तानसेन की समाधि पर होने वाले इस समारोह में भारतीय शास्त्रीय संगीत के कई प्रतिष्ठित कलाकार शिरकत करेंगे। आयोजन का यह 97 वां वर्ष है। खास बात यह है कि सुर सम्राट तानसेन की याद में होने वाले तानसेन समारोह में तानसेन सम्मान 2021 ही नहीं दिया जा रहा है। इसके साथ ही राजा मानसिंह अलंकरण भी नहीं दिया जाएगा। सिर्फ 8 कलाकारों को कालिदास अलंकरण प्रदान कर इतिश्री कर ली जाएगी। इसकी वजह समय पर जूरी (चयन समिति) नाम तय नहीं कर पाई, क्योंकि दोनों ही सम्मान का निर्णय जूरी ही करती है। संभवत: अब ये अलंकरण अगले वर्ष या फिर बीच में किसी कार्यक्रम के दौरान दिए जाएंगे। तानसेन समारोह के मंच पर इस बार 2013 से 2020 तक के कालिदास सम्मान दिए जाएंगे।
तानसेन समारोह में नहीं होगा तानसेन सम्मान
तानसेन समारोह में नहीं होगा तानसेन सम्मान
ऐसा है तानसेन अलंकरण
संगीत सम्राट तानसेन की याद में होने वाले संगीत समारोह में संगीत के क्षेत्र में विशेष ख्याति प्राप्त कलाकारों के सम्मान की परंपरा भी रही है। तानसेन अलंकरण के रूप में दो लाख रुपए और राजा मानसिंह अलंकरण के तौर पर एक लाख रुपए की राशि शॉल, श्रीफल एवं प्रशस्ति पत्र प्रदान किया जाता है। मध्यप्रदेश संस्कृति मंत्रालय भोपाल ने 1980 से तानसेन अलंकरण परंपरा की बड़े स्तर पर शुरुआत की। सबसे पहले वर्ष 1980 में पंडित कृष्णराव शंकर पंडित को तानसेन अलंकरण दिया गया।
तानसेन अलंकरण विभाग तय करता है
तानसेन अलंकरण को विभाग तय करता है, अकादमी से इसका कोई संबंध नहीं है। इसकी जूरी की प्रक्रिया होती है। वैसे तानसेन समारोह में कालिदास अलंकरण दिए जा रहे हैं, तानसेन अलंकरण आगे किसी कार्यक्रम में या अगले साल दिया जाएगा। कार्यक्रम के प्रति सकारात्मक दृष्टिकोण रखना चाहिए।
- जयंत माधव भिसे, निदेशक, अलाउद्दीन खां संगीत एवं कला अकादमी भोपाल
संस्कृति विभाग से पूछिए
तानसेन अलंकरण संस्कृति विभाग देता है ये क्यों नहीं दिया जा रहा है, इसे आपको उनसे ही पूछना चाहिए। हम लोग तो व्यवस्थाएं देखने वाले लोग हैं।
- आशीष सक्सेना, संभागायुक्त

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

UP Election 2022: यूपी चुनाव से पहले मुलायम कुनबे में सेंध, अपर्णा यादव ने ज्वाइन की बीजेपीकेशव मौर्य की चुनौती स्वीकार, अखिलेश पहली बार लड़ेंगे विधानसभा चुनाव, आजमगढ के गोपालपुर से ठोकेंगे तालकोरोना के नए मामलों में भारी उछाल, 24 घंटे में 2.82 लाख से ज्यादा केस, 441 ने तोड़ा दम5G से विमानों को खतरा? Air India ने अमरीका जाने वाली कई उड़ानें रद्द कीPM मोदी की मौजूदगी में BJP केंद्रीय चुनाव समिति की बैठक आज, फाइनल किए जाएंगे UP, उत्तराखंड, गोवा और पंजाब के उम्मीदवारों के नामरोहित शर्मा को क्यों नहीं बनाया जाना चाहिए टेस्ट कप्तान, सुनील गावस्कर ने समझाई बड़ी बातखत्म हुआ इंतज़ार! आ गया Tata Tiago और Tigor का नया CNG अवतार शानदार माइलेज के साथकोरोना का कहर : सुप्रीम कोर्ट के 10 जज कोविड पॉजिटिव, महाराष्ट्र में 499 पुलिसकर्मी भी संक्रमित
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.