66 साल के बुजुर्ग ने 55 साल की प्रेमिका से जताई शादी की इच्छा, कलेक्टर से कहा- हमारा विवाह करा दो

 

-वेलेंटाइन डे पर कलेक्ट्रेट में हुए मातृ-पितृ पूजन दिवस पर आया अनोखा मामला

कलेक्टर ने सभी को भेंट किए शॉल, पैर छूकर लिया आशीर्वाद
: 14 जनवरी को आए बुजुर्ग भी हुए शामिल, बेटा-बहू, बेटी-दामाद को भी बुलाया गया था कलेक्ट्रेट

ग्वालियर। मेरी उम्र 66 वर्ष हो गई है, मैं 55 साल की महिला से विवाह करना चाहता हूं, वे भी विवाह के लिए तैयार हैं। आप हमारा विवाह करा दो। उम्र के आखिरी पड़ाव पर हम दोनों अकेले हैं और अब पति-पत्नी बनकर एक-दूसरे के साथ जीवन गुजारना चाहते हैं। बुजुर्ग की यह बात सुनकर कलेक्टर अनुराग चौधरी कुछ देर के लिए चुप रह गए। फिर मुस्कुराए और खुश होते हुए बुजुर्ग से बोले कि वे हर संभव मदद करेंगे और शादी में शामिल भी होंगे।

 

वेलेंटाइन-डे पर कलेक्टे्रट के टी धर्माराव सभागार में मातृ-पितृ पूजन दिवस का आयोजन किया गया था। इसमें उन बुजुर्गों और उनके बेटे-बहू, बेटी-दामाद को भी बुलाया गया था, जो 14 जनवरी को लगे मेगा शिविर में आए थे। बुजुर्ग रामगोपाल ने बताया कि वे सिंचाई विभाग में इंजीनियर थे। 15 साल पहले पत्नी निधन हो चुका है। उनके बच्चे हैं, लेकिन वे अभद्र व्यवहार करते हैं, जिसकी शिकायत 14 जनवरी को आयोजित हुए बुजुर्गों के मेगा कैंप में की थी। बाद में काउंसलर के माध्यम से निराकरण कराया गया। वर्तमान में वह अकेले ही जीवन यापन कर रहे हैं।

 

आध्यात्म केन्द्र में पनपा प्रेम

 

बुजुर्ग ने बताया कि वे एक अध्यात्म केंद्र से जुड़े हैं, जहां 55 साल की विधवा महिला भी आती हैं, जिनसे उनका प्रेम हुआ और अब वे विवाह करना चाहते हैं। क्योंकि उनका भी इस दुनिया में कोई नहीं है।

 

बुजुर्गों का स्वागत उनके बच्चों से करवाया

 

कार्यक्रम में कलेक्टर ने स्वयं माइक लेकर प्रत्येक बुजुर्ग के पास जाकर उनके बच्चों से उनका स्वागत करवाया। इसके बाद समस्या पूछी और समाधान कराया। कलेक्टर ने कहा कि आयोजन का उद्देश्य बुजुर्गों के प्रति युवाओं की सोच को सकारात्मक करना है। समारोह के दौरान आए बुजुर्गों का स्वास्थ्य परीक्षण भी किया गया। समारोह में 25 से अधिक बुजुर्ग दंपती का सम्मान किया गया। इस दौरान एक महिला ने बताया कि चार साल से उनका राशन कार्ड नहीं बना है, जिसके कारण उन्हें अनाज आदि नहीं मिल पा रहा है। इसके बाद कलेक्टर ने अधिकारियों को बुलाकर राशन कार्ड बनाने के निर्देश दिए।

 

यह रहे कार्यक्रम में

 

आयोजन में जिला पंचायत सीईओ शिवम वर्मा, एडीएम किशोर कान्याल, अपर कलेक्टर अनूप कुमार सिंह, अपर कलेक्टर रिंकेश वैश्य, सीईओ स्मार्ट सिटी महीप तेजस्वी, एसडीएम जयति सिंह, अनिल बनवारिया, प्रदीप तोमर, केके गौर, महिला सशक्तिकरण अधिकारी शालीन शर्मा, ननि प्रभारी जन कल्याण अधिकारी पूर्वी अग्रवाल सहित अन्य अधिकारी मौजूद थे।

 

जीवन सुगमता सूचकांक रथ रवाना

 

समारोह के आखिर में कलेक्टर ने जीवन सुगमता सूचकांक तैयार करने के लिए आमजन की सहभागिता के लिए शहर में चलाए जाने वाले रथ को हरी झंडी दिखाकर रवाना किया। स्मार्ट सिटी द्वारा तैयार किए गए इस रथ के माध्यम से आमजन को फीडबैक देने के लिए प्रोत्साहित किया जाएगा।

इन्हें मिला अनाज


कुछ बुजुर्गों ने राशन नहीं मिलने की शिकायत की थी। इसके बाद कलेक्टर ने खाद्य विभाग के अधिकारियों से सभी को एक-एक क्विंटल अनाज उपलब्ध कराने को कहा। कलेक्टर के निर्देश के बाद बहोड़ापुर निवासी जरीना, इन्द्रा कॉलोनी निवासी पूरनलाल, जिंसी नाला निवासी नूरजहां, सीपी कॉलोनी निवासी रेशमा देवी, मछली बाजार किलागेट निवासी नूर मोहम्मद, शिवनगर निवासी लक्ष्मण, भितरवार के ईंटमा निवासी बृजमोहन और पर्वत सिंह को अनाज दिया गया है।

रेडक्रॉस से नगद सहायता


निराश्रित पेंशन नहीं मिलने की शिकायत सामने आने पर कलेक्टर ने बुजुर्गों के स्वास्थ्य की देखभाल के साथ सामान्य आर्थिक सहायता के रूप में रेडक्रॉस से नगद सहायता राशि दी। इस दौरान रेशमादेवी को 2 हजार, नूरजहां को 500, पूरनलाल को 2 हजार, रतन पेंटर को 5 हजार, भगवानदास को 15 हजार और बसंत सिंह बघेल को 7500 रुपए की आर्थिक सहायता उपलब्ध कराई गई।

 

 

-बेटे-बहू परेशान करते थे, जिसकी शिकायत की थी, अब समझौता हो गया है। कलेक्टर ने दो महीने का राशन भी दिलवाया है।
नूरजहां, पत्नी स्व. आजाद खां

-बहू परेशान करती थी, लेकिन अब एसडीएम ने समझौता करा दिया है। हमें यहां बुलाकर सम्मान किया और खाना भी खिलाया।
अंगूरी देवी और भगवानदास

-बेटा बहू परेशान करते हैं, पति का देहांत हो चुका है, चलने फिरने में असमर्थ हैं, बस एक बेटी है जो साथ रहकर सेवा करती है।
रेशमादेवी

माता-पिता का सम्मान करें

वेलेंटाइन-डे पर इस शिविर को लगाने का उद्देश्य यही था कि बेटे-बहू या बेटी-दामाद अपने माता-पिता का सम्मान करें। इसके साथ ही बुजुर्गों के स्वास्थ्य का परीक्षण कराने के लिए शिविर भी लगाया गया था।
अनुराग चौधरी, कलेक्टर

Dharmendra Trivedi Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned