scriptThe demand for Gwalior's sand stone reaches abroad, but not in its own | ग्वालियर के सेंड स्टोन की मांग विदेशों तक, पर खुद के शहर में ही पूछ-परख नहीं | Patrika News

ग्वालियर के सेंड स्टोन की मांग विदेशों तक, पर खुद के शहर में ही पूछ-परख नहीं

- स्टोन पार्क इंडस्ट्रीज ऐसोसिएशन ने उठायी थी मांग, स्मार्ट सिटी, जीडीए, नगर निगम, पर्यटन विभाग, लोक निर्माण विभाग आदि हर जगह किया जा रहा बाहर के पत्थर का उपयोग
- अब केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया ने कलेक्टर को पत्र लिखकर इस पर नियमानुसार कार्यवाही करने के लिए कहा

ग्वालियर

Published: April 14, 2022 09:41:49 pm

ग्वालियर. ग्वालियर अंचल के सेंड स्टोन (सफेद पत्थर) की मांग विदेशों तक है लेकिन हमारे शहर में ही इसकी पूछ-परख नहीं है। सेंड स्टोन को एक जिला एक उत्पाद में चुना गया है, देश के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी भी लोकल फॉर वोकल की बात कहते हैं। यही सेंड स्टोन शहर की ऐतिहासिक इमारतों में भी लगा हुआ है। बावजूद इसके ग्वालियर के स्मार्ट सिटी, ग्वालियर विकास प्राधिकरण, नगर निगम, लोक निर्माण विभाग और पर्यटन विभाग आदि में बाहर से लाए गए पत्थर का ही उपयोग किया जा रहा है। इसे लेकर स्टोन पार्क इंडस्ट्रीज ऐसोसिएशन की ओर से समय-समय पर जनप्रतिनिधियों से मांग की जाती रही है कि शहर की शासकीय संस्थाओं में भी सेंड स्टोन का उपयोग किया जाए। इससे सेंड स्टोन की ब्रांडिंग पर काफी असर पड़ेगा। अब केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया ने इस मामले को संज्ञान में लेते हुए इस पर नियमानुसार कार्यवाही करने के लिए कलेक्टर कौशलेंद्र विक्रम सिंह को पत्र लिखा है।
ग्वालियर के सेंड स्टोन की मांग विदेशों तक, पर खुद के शहर में ही पूछ-परख नहीं
ग्वालियर के सेंड स्टोन की मांग विदेशों तक, पर खुद के शहर में ही पूछ-परख नहीं
जिला प्रशासन भी देता है सहमति
शहर के शासकीय विभागों में सेंड स्टोन लगाए जाने को लेकर समय-समय पर जिला प्रशासन की ओर से होने वाली औद्योगिक संवर्धन की बैठकों में भी कहा जाता है और प्रशासन सहमति दर्शाता है कि ग्वालियर में ग्वालियर के ही पत्थर का प्रयोग हो यह सुनिश्चित करेंगे। फिर भी ऐसा कुछ भी नहीं हो पाता है। स्टोन पार्क इंडस्ट्रीज ऐसोसिएशन के अध्यक्ष सत्यप्रकाश शुक्ला ने बताया कि इसके लिए करीब एक वर्ष पूर्व चैंबर ऑफ कॉमर्स के जरिए जिला कलेक्टर, स्मार्ट सिटी सीइओ, नगर निगम आयुक्त, स्थानीय सांसद विवेक शेजवलकर और केंद्रीय मंत्री नरेन्द्र सिंह तोमर को भी पत्र लिखे गए थे। लेकिन अभी तक कुछ नहीं हुआ था। अब केंद्रीय मंत्री सिंधिया के पत्र से कुछ आस बनी है।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

17 जनवरी 2023 तक 4 राशियों पर रहेगी 'शनि' की कृपा दृष्टि, जानें क्या मिलेगा लाभज्योतिष अनुसार घर में इस यंत्र को लगाने से व्यापार-नौकरी में जबरदस्त तरक्की मिलने की है मान्यतासूर्य-मंगल बैक-टू-बैक बदलेंगे राशि, जानें किन राशि वालों की होगी चांदी ही चांदीससुराल को स्वर्ग बनाकर रखती हैं इन 3 नाम वाली लड़कियां, मां लक्ष्मी का मानी जाती हैं रूपबंद हो गए 1, 2, 5 और 10 रुपए के सिक्के, लोग परेशान, अब क्या करें'दिलजले' के लिए अजय देवगन नहीं ये थे पहली पसंद, एक्टर ने दाढ़ी कटवाने की शर्त पर छोड़ी थी फिल्ममेष से मीन तक ये 4 राशियां होती हैं सबसे भाग्यशाली, जानें इनके बारे में खास बातेंरत्न ज्योतिष: इस लग्न या राशि के लोगों के लिए वरदान साबित होता है मोती रत्न, चमक उठती है किस्मत

बड़ी खबरें

Amarnath Yatra: सभी यात्रियों का 5 लाख का होगा बीमा, पहली बार मिलेगा RIFD कार्ड, गृहमंत्री ने दिए कई अहम निर्देशवाराणसी कोर्ट में का फैसला: अजय मिश्रा कोर्ट कमिश्नर पद से हटे, सर्वे रिपोर्ट पर सुनवाई 19 मई को, SC ने ज्ञानवापी पर हस्तक्षेप से किया इंकारGyanvapi: श्रीलंका जैसे हालात दे रहे दस्तक, इसलिए उठा रहे ज्ञानवापी जैसे मुद्दे-अजय माकनCBI Raid के बाद आया केंद्रीय मंत्री पी चिदंबरम का बयान - 'CBI को रेड में कुछ नहीं मिला, लेकिन छापेमारी का समय जरूर दिलचस्प'कोरोना के कारण गर्भपात के केस 20% बढ़े, शिशुओं में आ रही विकृतिRajya Sabha polls: कौन है संभाजी राजे जिनको लेकर महाविकस आघाडी और बीजेपी में बढ़ा आंतरिक मतभेदतालिबान ने अफगानिस्तान में खत्म किया मानवाधिकार आयोग, कहा- 'गैर-जरूरी संस्थाओं के लिए फंड नहीं'Consumer Court का फैसला : पार्किंग के सात रुपए वसूले थे अवैध, अब निगम और ठेकेदार भुगतेंगे 8-8 हजार
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.