सलाखों के पीछे बैठे बंदियों से परिजन ने पूछे हालचाल

बंदियों और उनके परिजन के बीच कोरोना की वजह से बनी दूरी मंगलवार से खत्म हो गई। जेल में ई-मुलाकात के जरिए परिजन से बंदियों की मुलाकात शुरू की गई ...

ग्वालियर. बंदियों और उनके परिजन के बीच कोरोना की वजह से बनी दूरी मंगलवार से खत्म हो गई। जेल में ई-मुलाकात के जरिए परिजन से बंदियों की मुलाकात शुरू की गई है। मंगलावर को दो बंदियों की परिजन से बात कराई गई। दोनों को 10-10 मिनट का वक्त दिया गया। जेल अधीक्षक मनोज साहू ने बताया जेल में ई-मुलाकात के लिए दो बंदियों के परिजन ने आवेदन किए थे, इसलिए दोनों बंदियों को वेब कैमरे के सामने बैठाया गया। ई-रूम में बड़ी कंम्पयूटर के अलावा बड़ी स्क्रीन लगाई गई है। उसमें छोटी स्क्रीन पर वेब कैमरा लगाया गया है। उसके उपर बड़ी स्क्रीन है। इस पर बंदियों को परिजन दिखाई देते हैं।


कोरोना के कारण निर्णय
इस मुलाकात से बंदी राहत में हैं। कोरोना की वजह से मुलाकात बंद होने से बंदी और उनके परिजन परेशान थे और लगातार मुलाकात के लिए बोल रहे थे, लेकिन जेल के अंदर मुलाकातियों को आने देने से कोरोना का खतरा था। इसलिए प्रदेश स्तर पर इस पर रोक लगाई गई थी। ई-मुलाकात की शुरूआत भोपाल जेल से हुई। मंगलवार को केन्द्रीय कारागार में बंदी राहुल और उस्मान ने परिजन से बात की है। अब दूसरे बंदियों के परिजन के मुलाकाती आवेदन आने पर उनकी भी मुलाकात कराई जाएगी।

रिज़वान खान Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned