पुलिस से बोली मासूम मम्मी को पीटते थे पापा, वह रोती-चीखती थीं कोई नहीं बचाता था

पुलिस से बोली मासूम मम्मी को पीटते थे पापा, वह रोती-चीखती थीं कोई नहीं बचाता था
The police beat the innocent mummy from the police Papa, she was crying, nobody used to save

Gaurav Sen | Publish: Jun, 28 2017 01:46:00 AM (IST) Gwalior, Madhya Pradesh, India

पिता का आरोप दामाद, ससुर और परिजन ने हत्या कर शव को फांसी पर लटकाया

ग्वालियर। सबइंस्पेक्टर वंदना परमार के फांसी लगाने के पीछे पति चंद्रशेखर से विवाद ही वजह रहा है, क्योंकि वंदना को शक था सबइंस्पेक्टर पति का किसी महिला आरक्षक से अफेयर है। उनकी पांच साल की मासूम बेटी ने भी पुलिस को बताया है मम्मी को पापा पीटते थे, वह रोती और चीखती थीं, उन्हें कोई चुप नहीं कराता था। वंदना के पिता का आरोप है बेटी की हत्या की गई है, इसलिए मंगलवार को पोस्टमार्टम के बाद वंदना का शव लेकर परिजन थाटीपुर थाने पहुंच गए। उनकी जिद थी वंदना के पति, ससुर , मौसी और मौसेरे देवर पर हत्या का केस दर्ज करो तब शव थाने से हटाएंगे। थाने पर बवाल देखकर पुलिस ने चंद्रशेखर को बैठा लिया।  करीब तीन घंटे हंगामे के बाद परिजन इस बात पर राजी हुए बेटी के अंतिम संस्कार के बाद कार्रवाई करेंगे।

राममिलन सिंह परमार निवासी भिंड ने पुलिस से कहा  बेटी वंदना की शादी करीब 12 साल पहले पांडरी (भिंड) निवासी चंद्रशेखर पुत्र बीरबल कुशवाह से की थी। चंद्रशेखर 2011 में सबइंस्पेक्टर बन गया। उसके बाद से वंदना को प्रताडि़त कर रहा था। वह वंदना की हत्या करना चाहता था क्योंकि चंद्रशेखर का चाल चलन ठीक नही है। वह चाहता था कैसे भी हो वंदना से पीछा छूट जाए जिससे मनमानी कर सके। सिवनी में महिला सबइंस्पेक्टर ने उसके खिलाफ छेडखानी का केस दर्ज किया था। वंदना को पता चला था  पति का किसी महिला पुलिसकर्मी से अफेयर है, वह पूछती थी  तो चंद्रशेखर उसे पीटता था। ।  कुछ दिन पहले चंद्रशेखर छुटिटयों में ग्वालियर आया था, तब भी  घर में झगड़ा हुआ। वंदना को धमकाने के लिए उसने टीवी पर गोलियां चलाईं। फायरिंग के निशान उसके घर की दीवार पर भी हैं। परिजनों का कहना था वंदना को मारा गया है। उसके शव को फांसी पर लटका कर सुसाइड केस बताने की कोशिश की जा रही है। वंदना की मौत को उनसे छिपाया गया। सोमवार रात को वंदना के मौसेरे देवेर  ने फोन कर बताया था भाभी के पेट में दर्द है उन्हें गंभीर हालत में भर्ती कराया गया। मायके पक्ष के लोग भिंड से यहां आए तो वंदना की पांच साल की बेटी को ससुराल वालों ने किसी रिश्तेदार के घर  छिपा दिया। जिससे हकीकत नहीं पता चले। करीब तीन घंटे तक वंदना के परिजनों ने थाने में हंगामा किया, फिर इस बात पर राजी हुए वंदना का अंतिम संस्कार करने के बाद दोषियों के खिलाफ कार्रवाई करेंगे। वंदना सोमवार को सिवनी से लौटी थी। घर पहुंचने पर बैचमेट कांति राजपूत से उसकी बात हुई थी। बातों में वंदना की आवाज रुंआसी लगी तो कांति उससे मिलने गई थी। लेकिन वंदना से मुलाकात नहीं कर सकी। उसके पहुंचने से पहले वंदना ने बाथरुम में फांसी लगा ली थी। 


पिता से चिपट कर रोई मासूम ,फिर बोली मम्मी को पीटते थे पापा

वंदना की पांच साल की मासूम बेटी को पुलिस ने थाने बुलाया तो बच्ची पिता चंद्रशेखर को को थाने में देखकर उससे  लिपट कर रो पड़ी। सीएसपी शैलेन्द्र जादौन और थाटीपुर टीआई यशंवत गोयल ने बच्ची को परिजनों के साथ बैठाकर उससे पूछा घर में क्या होता था। मम्मी को कोई डांटता मारता था तो सवाल सुनते ही मासूम फफक कर रो पड़ी। उसने बिलखते हुए कहा पापा छुटटी में आते थे तो मम्मी को पीटते थे, वह चीखतीं थी,रोती थीं लेकिन उन्हें कोई नहीं बचाता था। 
पति की खातिर पटवारी से सब इंस्पेक्टर

पुलिस सूत्रों का कहना है वंदना चाहती थी वह पति उसे साथ रखे इसलिए उसने पटवारी की नौकरी छोड़कर सब इंस्पेक्टर की तैयारी की। पिछली साल उसका सिलेक्शन भी हो गया। ट्रेनिंग पूरी होने के बाद सिवनी पति के पास इस उम्मीद से गई थी उसे चंद्रशेखर उसकी भावनाओं की कद्र करेगा, लेकिन पति ने उसे तब्बजो नहीं दी। पति की बेरुखी से दुखी वंदना सिवनी में ही सुसाइड कर सकती थी, लेकिन मासूम बेटी को बहुत चाहती थी उसका चेहरा देखने के लिए ग्वालियर आई। कुछ घंटे बेटी के साथ रही फिर अपना मोबाइल उसे देखकर बाथरुम में जाकर फांसी लगाई। 

साक्ष्यों के आधार पर कार्रवाई 

महिला सब इंस्पेक्टर ने सुसाइड क्यों किया तथ्यों के आधार पर मामले की जांच की जा रही है। उनके परिजनों ने पति पत्नी के बीच विवाद का खुलासा भी किया है। परिजन अंतिम संस्कार के बाद कार्रवाई करना चाहते हैं। 
यशंवत गोयल थाटीपुर टीआई 

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned