scriptThe scorching heat is increasing the burning of scorched bodies becaus | झुलसे शरीरों की जलन बढ़ा रही भीषण गर्मी क्योंकि पुराने एसी खराब, नए खरीद नहीं रहे | Patrika News

झुलसे शरीरों की जलन बढ़ा रही भीषण गर्मी क्योंकि पुराने एसी खराब, नए खरीद नहीं रहे

असहनीय पीड़ा को महसूस करिए साहब...रूह कांप जाएगी

ग्वालियर

Published: May 13, 2022 06:45:17 pm

ग्वालियर. थोड़ा सा भी जलने पर कितना दर्द होता है यह तो आपको पता ही होगा। गंभीर जले मरीज के दर्द और जलन का अनुमान तो लगाया ही नहीं जा सकता। उसमें अगर भीषण गर्मी में एसी की हवा नहीं मिले तो वह जलन असहनीय हो जाती है। कुछ इसी तरह की असहनीय पीड़ा को जेएएच की बर्न यूनिट में भर्ती मरीज सह रहे हैं क्योंकि अस्पताल में ज्यादातर एसी पुराने खराब हो चुके हैं और नये एसी खरीदे नहीं गए है। इस स्थिति में भीषण गर्मी में पारा जब 45 डिग्री तक पहुंच चुका है और लोगों का बुरा हाल है ऐसे में मरीजों को पंखों के भरोसे छोड़ दिया गया है। इस बार गर्मी का असर अप्रेल में ही दिखने लगा था। इस गर्मी को देखते हुए जेएएच के एसी, कूलर का मेंटनेंट करने वाली कंपनी पीडब्लूडी ने तीन महीने पहले ही एसी- कूलरों की हकीकत का पता करते हुए डीन को अपनी रिपोर्ट सौप दी, लेकिन आज तक इन कंड़म एसी और कूलरों को नहीं खरीदा गया है। वहीं पुराने एसी अब गर्मी में दम तोड़ चुके हैं। ऐसे में कैसे अंचल के मरीजों को गर्मी से बचाया जा सकता है।
काॅर्डियोलॉजी मेें भी बुरा हाल
झुलसे शरीरों की जलन बढ़ा रही भीषण गर्मी क्योंकि पुराने एसी खराब, नए खरीद नहीं रहे
झुलसे शरीरों की जलन बढ़ा रही भीषण गर्मी क्योंकि पुराने एसी खराब, नए खरीद नहीं रहे
इन दिनों जेएएच के बर्न यूनिट के साथ सबसे ज्यादा बुरा हाल काॅर्डियोलोजी के मरीजों का भी है। यहां के एसी सिर्फ दिखावे के लिए चलते हैं। मरीजों को इसकी हवा तक नहीं आती है। यहां आने वाले मरीज और उनके परिजन सिर्फ गर्मी- गर्मी कहकर दिन में अधिकांश समय वार्ड के बाहर ही आ जाते हैं।
90 एसी और 40 कूलर कंडम
अंचल के सबसे बड़ा अस्पताल में मरीजों के साथ ऑफिसों में एसी और कूूलर लगाए जाते हैं। इनका हर साल मेंटेनेंस भी होता है। इसमें जो रिपोर्ट डीन को सौपी गई है। उसमें जेएएच में लगभग 350 एसी में से 90 एसी और 290 कूलरों में से 40 पूरी तरह से कंडम हो चुके हैं, लेकिन इनको खरीदने की कार्रवाई अभी तक नहीं की गई है। ऐसे में गर्मी का हाल सभी के सामने है।
नई बर्न यूनिट में एसी ही नही
बर्न यूनिट की नई बिल्डिंग कुछ समय पहले ही बनी है। इसमें एसी नहीं है। वहीं पुरानी बर्न यूनिट में दस में से पांच एसी ही चल रहे हैं। ऐसे में कैसे मरीजों को इलाज मिल सकेगा। वहीं यही हाल काॅर्डियोलॉजी का भी है।
ऐसे दिखे हालात
कोई इंतजाम नहीं

काॅर्डियोलॉजी में गोहद के पास से आई महिला के परिजन रमेश ने बताया कि दस दिन से हमारा मरीज भर्ती है। यहां पर गर्मी से बचने के लिए कोई भी इंतजाम नहीं है। गर्मी से बुरा हाल है।
दोपहर एक बजे मरीज गैलरी में

काॅर्डियोलॉजी में सबलगढ़ आई ममता दोपहर एक बजे गैलरी में घूम रही थीं। महिला ने बताया कि आठ दिन से भर्ती हूं। यहां गर्मी इतनी है कि दिन में बाहर आकर ही चेन मिलता है।
बर्न के मरीजों के लिए काफी जरूरी है एसी

बर्न यूनिट प्रभारी डॉ. मुकेश नरवरिया ने बताया कि गर्मी के दिनों में एसी की आवश्यकता हर व्यक्ति को रहती है, लेकिन इसमें सबसे ज्यादा बर्न के मरीजों को गर्मी में एसी की जरूरत पड़ती है। ऐसे मरीज जिनके घाव हो जाते हैं। वह मरीज जो कपड़े भी नहीं पहन पाते हैं। ऐसे मरीजों को एसी में रहना ही चाहिए। एसी की कमी को लेकर कई बार वरिष्ठ अधिकारियों को बताया गया है। लेकिन अभी तक एसी की व्यवस्था नहीं हुई है।
अफसरों और डॉक्टरों के कैबिन हो रहे कूल
जहां एक ओर बर्न यूनिट में मरीजों के लिए एसी की कोई व्यवस्था नहीं है, वहीं अफसरों और वरिष्ठ डॉक्टरों के कैबिन ऐसी में पूरी तरह कूल हैं। इससे अंदाजा लगाया जा सकता है कि अस्पताल में मौजूद गंभीर जले हुए मरीजों की किसी को कोई चिंता नहीं है।
तीन महीने पहले रिपोर्ट दी है

जेएएच के एसी और कूलर की स्थिति को देखकर फरवरी में ही डीन को इसकी रिपोर्ट दे दी गई थी। उसके बाद भी कई बार अवगत कराया है, लेकिन अभी तक कुछ नहीं हुआ है। वहीं जो एसी और कूलर ठीक होने की स्थिति में होते है। उनका मेंटनेंस समय- समय पर किया जा रहा है।
स्वाति जैन, एसडीएम पीडब्लूडी

हर किसी को एसी नहीं दे सकते

जो एसी और कूलर खराब है। उनको ठीक कराया जा रहा है। वहीं हर किसी को नया एसी नहीं दिया जा सकता है। कुछ महीने पहले ही एसी खरीदे गए है। नियमानुसार जो भी प्रस्ताव कार्यकारिणी की बैठक में आएगा। उस पर विचार किया जाएगा।
आशीष सक्सेना, संभाग आयुक्त

पीडब्लूडी को देखना है व्यवस्था

जेएएच में मेंटेनेंस का काम पीडब्लूडी को करना है। इसके लिए पीडब्लूडी ने तीन महीने पहले डीन को अपनी रिपोर्ट दे दी है। एसी और कूलर की खरीदने के लिए प्रस्ताव डीन कार्यालय को भेजा है। गर्मी बढ़ते ही अब कुछ विभागों में समस्या आ रही है।
डॉ. आरकेएस धाकड़, अधीक्षक जेएएच

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

नाम ज्योतिष: ससुराल वालों के लिए बेहद लकी साबित होती हैं इन अक्षर के नाम वाली लड़कियांभारतीय WWE स्टार Veer Mahaan मार खाने के बाद बौखलाए, कहा- 'शेर क्या करेगा किसी को नहीं पता'ज्योतिष अनुसार रोज सुबह इन 5 कार्यों को करने से धन की देवी मां लक्ष्मी होती हैं प्रसन्नइन राशि वालों पर देवी-देवताओं की मानी जाती है विशेष कृपा, भाग्य का भरपूर मिलता है साथअगर ठान लें तो धन कुबेर बन सकते हैं इन नाम के लोग, जानें क्या कहती है ज्योतिषIron and steel market: लोहा इस्पात बाजार में फिर से गिरावट शुरू5 बल्लेबाज जिन्होंने इंटरनेशनल क्रिकेट में 1 ओवर में 6 चौके जड़ेनोट गिनने में लगीं कई मशीनें..नोट ढ़ोते-ढ़ोते छूटे पुलिस के पसीने, जानिए कहां मिला नोटों का ढेर

बड़ी खबरें

BJP राष्ट्रीय पदाधिकारी बैठक: PM नरेंद्र मोदी ने दिया 'जीत का मंत्र', जानें प्रधानमंत्री के संबोधन की बड़ी बातेंबिहार में बारिश व वज्रपात से 37 लोगों की मौत, जानिए बिहार में क्यों गिरती है इतनी आकाशीय बिजली?Pegasus Spyware Case: सुप्रीम कोर्ट ने जांच समिति का कार्यकाल 4 हफ्ते बढ़ाया, अब जुलाई में होगी सुनवाईRaj Thackeray Ayodhya Visit: राज ठाकरे की अयोध्या यात्रा स्थगित, पांच जून को रामलला का दर्शन करने वाले थे मनसे प्रमुखRohit Joshi Rape Case: राजस्थान के मंत्री पुत्र ने अब युवती पर लगाया हनीट्रेप का आरोप, हाईकोर्ट में याचिकापाकिस्तानी विदेश मंत्री बिलावल भुट्टो ने अमरीका में छेड़ा कश्मीर राग, आर्टिकल 370 का भी किया जिक्र, कहा शांति चाहता है पाकिस्तानलालू के ठिकानों पर CBI Raid; सामने आई RJD की पहली प्रतिक्रिया, मात्र 5 शब्द में पूरे सिस्टम को लपेटाअनिल बैजल के इस्तीफे के बाद कौन होगा दिल्ली का उपराज्यपाल? चर्चा में हैं ये 5 नाम
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.