scriptThere is a problem in medical studies due to not getting dead body | डेड बॉडी नहीं मिलने से मेडिकल की पढ़ाई में आ रही दिक्कत, लोग नहीं कर रहे देहदान | Patrika News

डेड बॉडी नहीं मिलने से मेडिकल की पढ़ाई में आ रही दिक्कत, लोग नहीं कर रहे देहदान

एनाटॉमी विभाग को चिकित्सा की बारीकियां सिखाने ए हर साल 8 से 10 मृत मानव शरीरों की जरूरत पड़ती है, लेकिन बीते 3 साल से बमुश्किल एक ही डेड बॉडी मिल पा...

ग्वालियर

Published: February 23, 2022 07:14:06 pm

ग्वालियर . एनाटॉमी विभाग को चिकित्सा की बारीकियां सिखाने ए हर साल 8 से 10 मृत मानव शरीरों की जरूरत पड़ती है, लेकिन बीते 3 साल से बमुश्किल एक ही डेड बॉडी मिल पा रही है। ऐसे में अब मेडिकल छात्रों को की पढ़ाई में चिकित्सा बारीकियां सीखने में परेशानी आने लगी है।
जीआरएमसी के एनाटॉमी को डेड बॉडी नहीं मिलने का सबसे बड़ा कारण लोगों में देहदान के प्रति जागरूकता का अभाव है। जबकि मेडिकल छात्रों को प्रैक्टिकल के लिए बॉडी की काफी आवश्यकता हमेशा रहती है। हाल में मेडिकल कॉलेज में 155 लोगों ने मृत्यु उपरांत देहदान की इच्छा जाहिर की है। इन्होंने संकल्प पत्र भरकर दिया है।
cms-1
डेड बॉडी नहीं मिलने से मेडिकल की पढ़ाई में आ रही दिक्कत, लोग नहीं कर रहे देहदान

नये बैच के 51 छात्र आए
इस वर्ष के लिए मेडिकल कॉलेज में प्रवेश शुरू हो गए हैं, जिसकी काउंसलिंग चल रही है। इस वर्ष के लिए अभी तक 51 छात्र आ गए हैं। इनकी पढ़ाई शुरू हो गई है। इन सभी को अब बॉडी की जरूरत पड़ेगी।
कोरोना के चलते नहीं मिली बॉडी
पिछले तीन वर्षों से कोरोना संक्रमण के चलते मेडिकल कॉलेज को बॉडी दान में नहीं मिल पा रही है। इससे अब पढ़ाई में छात्रों को दिक्कत आने लगी है। इसी के चलते तीन वर्ष में तीन ही बॉडी मिल पाई है। लेकिन अब कोरोना कम होते ही बॉडी मिलने की संभावना है।
जागरुक करने होंगे आयोजन
इस समस्या को देखते हुए मेडिकल कॉलेज में सेमिनार और अन्य कार्यक्रम कराने का निर्णय लिया गया है, ताकि लोग जागरुक हों और वह मृत शरीर ज्यादा से ज्यादा मेडिकल कॉलेज को दान दें।
22 साल में सिर्फ 32 बॉडी ही मिलीं
जीआरएमसी में एनाटॉमी विभाग ने वर्ष 2000 से दान में बॉडी लेना शुरू किया है। इसमें 22 वर्ष में अभी तक 32 बॉडी मिल चुकी हैं। पिछले वर्षो तक तो बॉडी ज्यादा आने से छात्रों को परेशानी नहीं आ रही थी, लेकिन अब बॉडी कम होने से प्रेक्टिकल करने में कहीं न कहीं परेशानी आने लगी है।
एक्सपर्ट बोले
मृत मानव देह शोध और प्रयोग के काम आती है कॉलेज में
एनोटोमी विभाग के सह प्राध्यापक डॉ. मनीष चतुर्वेदी ने बताया कि मेडिकल कॉलेज में आने वाली बॉडी से शोध और प्रेक्टिकल दोनों किया जाता है। इसमें प्रथम वर्ष के छात्रों को पढ़ाई में प्रेक्टिकल कराया जाता है। इसके माध्यम से छात्रों को मनुष्य के शरीर की जानकारी का पूरा प्रेक्टिकल इसी से कराया जाता है। वहीं बॉडी से पीजी छात्र शोध भी करते हैं।
इस तरह सुरक्षित रखा जाता है मृत शरीर
मेडिकल कॉलेज में आने वाली बॉडी को सालों साल जीवंत रखने के लिए कैमिकल का प्रयोग किया जाता है। बॉडी में खून की नलियों में कैमिकल डालने के बाद बॉडी को कैमिकल के टैंक में डूबाकर रखा जाता है। जब छात्रों को प्रेक्टिकल करना होता है तो बॉडी को टैक से बाहर निकाल कर छात्रों को प्रेक्टिकल कराया जाता है। उसके बाद फिर से टैंक में बॉडी को रख दिया जाता है।

जागरुकता की जरूरत
&देहदान के लिए ज्यादा से ज्यादा लोगों को जागरुक करने की जरूरत है। इसके लिए सेमिनार और अन्य कार्यक्रम करने की प्लानिंग की जा रही है।
डॉ. सुधीर सक्सेना, एचओडी एनाटॉमी विभाग जीआरएमसी

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Veer Mahan जिसनें WWE में मचा दिया है कोहराम, क्या बनेंगे भारत के तीसरे WWE चैंपियनName Astrology: इन नाम वाले लोगों के जीवन में अचानक से धनवान बनने का होता है योगफटाफट बनवा लीजिए घर, कम हो गए सरिया के दाम, जानिए बिल्डिंग मटेरियल के नए रेटबुध जल्द वृषभ राशि में होंगे मार्गी, इन 4 राशियों के लिए बेहद शुभ समय, बनेगा हर कामबेहद शार्प माइंड होते हैं इन 4 राशियों के लोग, बुध और शनि देव की रहती है इन पर कृपाज्योतिष: रूठे हुए भाग्य का फिर से पाना है साथ तो करें ये 3 आसन से कामराजस्थान में देर रात उत्पात मचा सकता है अंधड़, ओलावृष्टि की भी संभावनाशादी के 3 दिन बाद तक दूल्हा-दुल्हन नहीं जा सकते टॉयलेट! वजह जानकर हैरान हो जाएंगे आप

बड़ी खबरें

टेरर फंडिंग केस में यासीन मलिक को उम्र कैद की सजा, 10 लाख का जुर्मानायासीन मलिक की सजा से तिलमिलाया पाकिस्तान, PM शहबाज शरीफ, इमरान खान, शाहिद आफरीदी को आई मानवाधिकार की यादAir Force के 4 अधिकारियों की हत्या, पूर्व गृहमंत्री की बेटी का अपहरण सहित इन मामलों में था यासीन मलिक का हाथअमरनाथ यात्रियों को तीन लेयर में मिलेगी सिक्योरिटी, ड्रोन व CCTV कैमरों के जरिए भी रखी जाएगी नजरमहबूबा मुफ्ती ने बीजेपी पर हमला करते हुए कहा- आप बता दो कि मुसलमानों के साथ क्या करना चाहते होकपिल सिब्बल समाजवादी पार्टी के टिकट से जाएंगे राज्यसभा, बताई कांग्रेस छोड़ने की वजह16 वर्षीय ग्रैंडमास्टर आर प्रज्ञानानंद ने रचा इतिहास, चेसेबल मास्टर्स के फाइनल में पहुँचने वाले पहले भारतीयलोकसभा चुनाव वाला Yogi का बजट, धर्म के साथ रोजगार, युवा, किसान, महिलाओं को जोड़ेगी सरकार
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.