scriptThere is a treasure of nature's beauty in Puri, thousands of visitors | प्रकृति के सौंदर्य का खजाना है पुरी में, हर दिन पहुंचते हैं हजारों दर्शनार्थी | Patrika News

प्रकृति के सौंदर्य का खजाना है पुरी में, हर दिन पहुंचते हैं हजारों दर्शनार्थी

जगन्नाथ मंदिर के चार द्वारों की नक्काशी दिल को छू गई

ग्वालियर

Published: May 01, 2022 12:12:01 pm

ग्वालियर.

जगन्नाथ पुरी समुद्र के किनारे बसा अद्भुत शहर है, जिसकी सुंदरता देख शहर छोडऩे का मन नहीं करता। एक तरफ समुद्र में उठती लहरें मन को प्रफुल्लित कर जाती हैं। वहीं दूसरी ओर भगवान जगन्नाथ के दर्शन कर जीवन धन्य हो जाता है। मैं पत्नी सुषमा, दामाद नवीन, बेटी पायल एवं उनकी दोनों सुपुत्री के साथ कार से दिल्ली गया। वहां से मैं फ्लाइट से उडीसा भुवनेश्वर पहुंचा। पुरी में हम तीन दिन रहे। यहां बीता हर एक क्षण मन को आनंदित कर रहा था।
प्रकृति के सौंदर्य का खजाना है पुरी में, हर दिन पहुंचते हैं हजारों दर्शनार्थी
प्रकृति के सौंदर्य का खजाना है पुरी में, हर दिन पहुंचते हैं हजारों दर्शनार्थी
देशभर से आए भक्तों में थी भगवान जगन्नाथ के दर्शन की अभिलाषा
दूसरे दिन सुबह 11 बजे भुवनेश्वर से टैक्सी कार लेकर हम लोग दोपहर 2 बजे जगन्नाथ पुरी पहुंचे। यहां एक रिसोर्ट में रुके और शाम 5 बजे जगन्नाथ मंदिर दर्शन के लिए रवाना हुए। मंदिर मे दर्शनार्थियों की बहुत भीड़ थी। हजारों लोग हाथ जोड़े भगवान जगन्नाथ के दर्शन को खड़े थे। इनमें देशभर से दर्शक शामिल थे। पता करने पर मालूम चला कि यहां पूरे वर्ष ऐसी ही भीड़ रहती है। हमने अपने लोकल मित्र की मदद से वीआइपी दर्शन किए।
लाइट एंड साउंड शो से जाना कोणार्क मंदिर का इतिहास
तीसरे दिन हम कोणार्क मंदिर की यात्रा के लिए रवाना हुए। यात्रा के बीच शाम 5 बजे समुद्र किनारे बीच पर एक घंटे रुककर समुद्र की लहरों का आनन्द लिया। तत्पश्चात शाम 7 बजे कोणार्क मंदिर पहुंचकर चमचमाती लाइट्स से सुसज्जित भव्य मंदिर की सुंदरता देख ठहर से गए। वहां हमने लाइट एंड साउंड शो का भी लुत्फ उठाया, जिसकी मदद से मंदिर का इतिहास जाना।
चार धाम की यात्रा में शामिल है यह तीर्थ स्थल
जगन्नाथ मंदिर 11 वीं शताब्दी में राजा इंद्रद्युम्न द्वारा बनवाया था। यह गौरवशाली मंदिर भगवान जगन्नाथ का निवास है, जो भगवान विष्णु का एक रूप हैं। यह हिंदुओं के लिए सबसे प्रतिष्ठित तीर्थ स्थल है और बद्रीनाथ, द्वारका, रामेश्वरम के साथ पवित्र चार धाम यात्रा में शामिल है। मुख्य मंदिर के अलावा, परिसर के भीतर कई छोटे मंदिर देख ऐसा महसूस हुआ मानो हम भगवान के घर में प्रवेश कर रहे हों। हमें मंदिर की उडिय़ा वास्तुकला बेहद खूबसूरत लगी। चार द्वारों को जटिल नक्काशी के साथ खूबसूरती से डिजाइन किया गया है।
केदार नाथ गुप्ता, बिजनेसमैन

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

ज्योतिष: ऊंची किस्मत लेकर जन्मी होती हैं इन नाम की लड़कियां, लाइफ में खूब कमाती हैं पैसाशनि देव जल्द कर्क, वृश्चिक और मीन वालों को देने वाले हैं बड़ी राहत, ये है वजहताजमहल बनाने वाले कारीगर के वंशज ने खोले कई राजपापी ग्रह राहु 2023 तक 3 राशियों पर रहेगा मेहरबान, हर काम में मिलेगी सफलताजून का महीना इन 4 राशि वालों के लिए हो सकता है शानदार, ग्रह-नक्षत्रों का खूब मिलेगा साथJaya Kishori: शादी को लेकर जया किशोरी को इस बात का है डर, रखी है ये शर्तखुशखबरी: LPG घरेलू गैस सिलेंडर का रेट कम करने का फैसला, जानें कितनी मिलेगी राहतनोट गिनने में लगीं कई मशीनें..नोट ढ़ोते-ढ़ोते छूटे पुलिस के पसीने, जानिए कहां मिला नोटों का ढेर

बड़ी खबरें

मंकीपॉक्स पर WHO की आपात बैठक में अहम खुलासा: यूरोप में अब तक 100 से अधिक मामलों की पुष्टि, जानिए 10 अपडेटJNU कैंपस में एमसीए की छात्रा से रेप, आरोपी छात्र गिरफ्तारकैम्ब्रिज यूनिवर्सिटी में बोले राहुल गांधी, भारत में ठीक नहीं हालात, BJP ने चारों तरफ केरोसिन छिड़क रखा हैकर्नाटक में बड़ा हादसाः बारातियों से भरी गाड़ी पेड़ से टकराई, 7 की मौत, 10 जख्मीजल्द ही कमर्शियल फ्लाइट्स शुरू करेगा जेट एयरवेज, DGCA ने दी मंजूरीमाता वैष्णो देवी के प्रमुख पुजारी अमीर चंद का निधन, जम्मू कश्मीर के उपराज्यपाल सहित कई नेताओं ने जताया दुखज्ञानवापी मस्जिद केसः प्रोफेसर रतन लाल की गिरफ्तारी पर हंगामा, DU में छात्रों का प्रदर्शनफिर महंगी हुई CNG: राजस्थान में दाम सबसे अधिक, Diesel - CNG के दाम में अब मात्र 12 रुपए का अंतर
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.