सीएनजी बस के लिए तीन कंपनी ने की बिड

शहर में स्मार्ट सिटी कॉर्पोरेशन द्वारा चलाई जाने वाली ८० सीएनजी बसों के लिए सिर्फ तीन कंपनियों ने ही टेंडर डाला है। अभी टेक्निकल बिड खुली है और इसकी जांच पड़ताल के बाद ही फाइनेंसियल बिड खोली जाएगी। अगर टेक्निकल बिड में दो कंपनी सही नहीं पाई गईं तो फिर टेंडर दोबारा से होगा। ऐसे में सीएनजी बसों का मामला फिलहाल अटक सकता है। हालांकि अधिकारी जल्द ही फाइनेंसियल बिड खुलने की बात कर रहे हैं।

By: Vikash Tripathi

Published: 16 Mar 2020, 10:58 PM IST

शहर में यातायात व्यवस्था बेहतर करने के लिए स्मार्ट सिटी कॉर्पोरेशन ने ८० सीएनजी बसे चलाने के लिए टेंडर बुलाया था। टेंडर के लिए वर्तमान में बसें संचालित करने वाले स्थानीय ऑपरेटर के अलावा शगुन इंटरप्राइजेज चंडीगढ़ और एक दिल्ली की कंपनी ने टेंडर के लिए आवेदन किया है। टेंडर की टेक्निकल बिड ओपन हुए करीब १० दिन बीत चुके हैं लेकिन अभी तक इसकी फायनेंसियल बिड नहीं खुल पाई है। ऐसे में टेंडर किसे मिलेगा यह तय नहीं हो पाया है। अगर टेक्निकल परीक्षण में दो कंपनियों के दस्तावेज में कोई कमी मिलती है और सिर्फ एक ही कंपनी रह जाती है तो फिर टेंडर जारी नहीं किया जाएगा। टेंडर प्रक्रिया ३१ मार्च से पहले करना है ऐसे में अधिकारी टेंडर निरस्त होने पर शॉर्ट टेंडर बुलाने की बात कह रहे हैं। जिससे ७ दिन में टेंडर की प्रोसेस पूरी की जा सके और ३१ मार्च से पहले ही टेंडर हो जाए।
इन रूटों पर चलेंगी बसें
ग्वालियर से शनि मंदिर, मितावली पड़ावली, बटेश्वर ३६ किमी के रूट पर ६ बसें, ग्वालियर से तिघरा, यह रूट २५ किमी का है और इस पर ४ बसें चलाई जाएंगी। ग्वालियर से गोपांचल पवर्त, जू, जयविलास पैलेस, बैजाताल यह रूट १५ किमी का होगा और इस पर ४ बसें चलाई जाएंगी। इसके अलावा ग्वालियर से बेहट, दंदरौआ धाम यह रूट ७० किमी का है इस पर २ बसें चलाई जाना है। ग्वालियर से शीतला मंदिर का रूट ३५ किमी का है और इस पर भी २ बसें चलाई जाएंगी। रेलवे स्टेशन से ग्वालियर फोर्ट, मोहम्मद गोस का मकबरा, सूर्य मंदिर का यह रूट १० किमी का है इस पर ८ बसें चलाई जाएंगी। रेलवे स्टेशन से बायपास का रूट १२ किमी का है और इस पर १० बसें चलाई जाएंगी। कंपू से घाटीगांव का रूट ३८ किमी का है इस पर १४ बसें चलाई जाना है। फूलबाग से आंतरी का रूट २८ किमी का है और इस पर १४ बसें, बारादरी से गुड़ी गुड़ा का नाका का रूट १३ किमी का है और इस पर १० बसें चलाई जाएंगी। इसेके साथ ही स्पेशल सर्विसेज के लिए ६ बसें रिजर्व रखी जाएंगी।

सीएनजी बसों के लिए तीन बिड आई हैं, अभी इनका तकनीकि परीक्षण किया जा रहा है। अगर कोई खामी होती है और दो कंपनी फायनेंसियल बिड में पार्टिसिपेट नहीं कर पाती हैं और १ ही कंपनी रह जाती है तो टेंडर दोबारा होगा।
महीप तेजस्वी, सीईओ स्मार्ट सिटी

Vikash Tripathi
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned