मेडिकल दुकानों पर छापा टिंचर, स्प्रिट का हिसाब मांगा

मेडिकल दुकानों पर छापा

प्रशासन, पुलिस की टीम ने की पडताल

By: Puneet Shriwastav

Published: 16 Oct 2020, 12:21 AM IST

ग्वालियर। जहरीली शराब बनाने में नशा माफिया स्प्रिट और वीक जिंजर टिंचर का इस्तेमाल कर रहे हैं। उज्जैन में हुई घटना के बाद यहां भी प्रशासन अलर्ट हो गया है।

कैमीकल की सप्लाई मेडिकल स्टोर से तो नहीं हो रही है। गुरूवार शाम को ड््रग विभाग की टीम और पुलिस ने ज्वाइंट ऑपरेशन में दवा के थोक बाजार को खंगाला।

करीब 7 दुकानों में जाकर उनका स्टॉक रजिस्टर चैक किया और जिंजर टिंचर और स्प्रिट को खरीदने बेचने का ब्यौरा मांगा।
कोतवाली टीआइ राजीव गुप्ता ने बताया मेडिकल स्टोर से वीक जिंजर टिंचर और स्प्रिट का कारोबार होता है। लेकिन यह कैमीकल थोक की मात्रा में तो नहीं बेचा जा रहा है।

पता लगाने के लिए गुरूवार रात को ड््रग इंस्पेक्टर अजय ठाकुर की अगुवाई में टीम ने हुजरात के थोक बाजार की दुकानों को खंगाला। यहां महावीर मेडिकल स्टोर, गर्ग सर्जीकल एंड मेडिकल स्टोर, नवीन, जयबाबा, केशव मेडिकल एंड सर्जीकल और वर्मा मेडिकल स्टोर में जाकर पूछताछ की गई।

इन सभी दुकानों से थोक में दवाओं का कारोबार होता है। ड््रग्स टीम ने कारोबारियों से उनका स्टॉक रजिस्टर मांगा। इसके अलावा दुकान पर रखा कारोबार के हिसाब किताब का रजिस्टर चेक किया।
थोक में कारोबार का ब्यौरा
जांच के दौरान यह देखा गया कि वीक जिंजर टिंचर और स्प्रिट का कारोबार किस मात्रा में किया जा रहा है। ग्राहकों को कारोबारी यह दोनों कैमीकल कितनी मात्रा में मुहैया करा रहे हैं।

उसका क्या पैमाना है। खरीदार कौन है। कारोबारियों से कहा गया है कि पिछले दिनों के कारोबार का हिसाब किताब भी बताएं।
जानकारी से आएगा सामने
एएसपी सत्येन्द्र तोमर ने बताया दुकानों से कारोबार का ब्यौरा मांगा गया है। उससे पता चलेगा कि टिंचर और स्प्रिट की खरीद बेच कितनी मात्रा में हो रही है। इन्हेंं बडी तादात में तो नहीं खरीदा जा रहा है।

Puneet Shriwastav Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned