मेले में वाहनों से घूमे सैलानी, बारिश के बाद प्राधिकरण ने अंदर जाने दिए वाहन

- व्यापार मेले में हर सेक्टर में बरसात ने की हालत खराब, सैलानियों के साथ-साथ दुकानदार भी होते रहे परेशान

ग्वालियर. गुरुवार को ग्वालियर व्यापार मेले का दृश्य कुछ अलग ही था। एक ओर जहां बरसात हो रही थी वहीं दूसरी ओर यहां पहुंचने वाले सैलानी अपने-अपने वाहनों से ही मेला घूम रहे थे। कोई अपने दोपहिया वाहन से मेले का मजा लेे रहा था तो कोई चार पहिया वाहन से। बुधवार और गुरुवार को हुई बरसात के बाद मेले में भरे पानी के चलते ग्वालियर व्यापार मेला प्राधिकरण ने ये निर्णय लिया था। इसमें सैलानियों को वाहन अंदर ले जाकर घूमने की छूट दी गई थी। वहीं दो दिन की बरसात ने मेले का हाल बेहाल करके रख दिया है। सैलानियों के साथ-साथ दुकानदार भी खासे परेशान होते दिखे। हालांकि मेले में भरे पानी को निकालने के लिए मेला प्राधिकरण की ओर से फायर ब्रिगेड और मेले के सफाई ठेकेदारों की मदद ली।
बाल्टी लगाकर रोका पानी
मेले में हुई बारिश से जहां हर सेक्टर में पानी भरा हुआ था वहीं यहां बनाई गई दुकानों की छतों से भी पानी टपक रहा था। ऐसे में दुकानदारों ने बाल्टी लगाकर ऊपर से गिरने वाले पानी को रोका और अपने सामान की सुरक्षा की। कई सेक्टरों में तो इस पानी के कारण कीचड़ के हालात भी बन गए थे। फेसिलिटेशन सेंटर स्थित लगाए गए स्वदेशी बाजार में कमोबेश यही हालात देखे गए। यहां दुकान लगाने वाले मुकेश बिरला ने बताया कि बारिश के कारण सभी जगह कीचड़ हो चुका है और दुकान खोलना भी मुश्किल हो गया है।

सैलानियों की सुविधा के लिए जाने दिए वाहन

दो दिन हुई बरसात के बाद मेले के कई सेक्टरों में पानी भर गया था। गुरुवार को फायर ब्रिगेड और कर्मचारियों की मदद से इसे निकाला गया। बारिश के कारण सैलानियों को मेला घूमने में परेशानी हो रही थी इसके चलते हमने वाहनों के साथ ही मेला घूमने की सुविधा प्रदान की थी।
- डॉ.प्रवीण अग्रवाल, उपाध्यक्ष, ग्वालियर व्यापार मेला प्राधिकरण

Narendra Kuiya Reporting
और पढ़े
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned