scriptTrainee traffic warden disappeared after vowing to handle traffic | यातायात संभालने की कसम खाकर गायब हुए ट्रेनी ट्रैफिक वार्डन | Patrika News

यातायात संभालने की कसम खाकर गायब हुए ट्रेनी ट्रैफिक वार्डन

ट्रैफिक पुलिस के साथ मिलकर शहर का यातायात संभालने की कसम खाने वाले ट्रैफिक वार्डन गायब हो गए हैं। इन वार्डन को पुलिस ने बाकायदा ट्रैफिक के नियम...

ग्वालियर

Published: June 07, 2022 01:20:54 am

ग्वालियर. ट्रैफिक पुलिस के साथ मिलकर शहर का यातायात संभालने की कसम खाने वाले ट्रैफिक वार्डन गायब हो गए हैं। इन वार्डन को पुलिस ने बाकायदा ट्रैफिक के नियम और उनका पालन कराने का तरीका सिखाया था। उसकी परीक्षा लेकर वार्डन की क्षमता को परखा था। जो पास हुए थे उन्हें सार्टिफिकेट, जैकेट ओर सीटी भी थमाई थी, लेकिन एक दो दिन सड़क पर अपने इशारे से यातायात चलाने वार्डन अब पुलिस के बुलावे पर भी नहीं आ रहे हैं।
दरअसल केन्द्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य ङ्क्षसधिया ने शहर के कारोबारियों के साथ बैठकर शहर के यातायात को सुधारने के लिए मंथन किया था। इसमें कारोबारियों ने आगे बढ़$कर यातायात को संभालने की हामी भरी थी। इस पर यातयात पुलिस ने उन लोगों को चुना था जो यातायात संभालने के इच्छुक थे। उन्हें हजीरा थाने पर यातायात के नियम समझाए थे। क्लास लगाकर बताया था कि किस तरह सड़क पर रङ्क्षनग यातायात को संभाला जाता है।
traffic warden
यातायात संभालने की कसम खाकर गायब हुए ट्रेनी ट्रैफिक वार्डन

काम और वक्त का हवाला देकर गायब
यातयात पुलिस के अधिकारी कहते हैं, ट्रेङ्क्षनग के दौरान तो 50 करीब लोग पुलिस के पास आए। इनमें करीब 35 को ट्रैफिक वार्डन तय किया गया, लेकिन फिर इन वार्डन ने काम और वक्त का हवाला देकर दूरी बनाई। सभी लोग मर्जी से वार्डन बने थे, इसलिए किसी को जबरिया काम के लिए बाध्य भी नहीं किया जाा सकता है। शुरू में एक दो दिन दिन यह वार्डन चौराहों पर पुलिस के साथ डयूटी करते दिखे फिर वापस नहीं आए।
यह किया था वादा
ट्रैफिक वार्डन बनने की हसरत रखने वालों ने पुलिस से वादा किया था, वह खुद तो यातायात के नियम का पालन करेंगे। पब्लिक से भी करवाएंगे। शहर की ट्रैफिक व्यवस्था को सुधारने में पीछे नहीं हटेंगे। पब्लिक के इस सपोर्ट पर पुलिस को भी लगा था लोग साथ आएंगे तो उसका काम भी हल्का होगा। जिन सड़कों पर लोग यातायात के नियम तोडऩे के आदी हो चुके हैं। वहां ट्रैफिक वार्डन की मदद से लगाम कसी जा सकेगी।
मुख्य रास्तों पर निगरानी, बाकी पर मनमानी
यातयात पुलिस अधिकारी कहते हैं शहर के लगभग रास्तों पर यातायात का दवाब है, लेकिन बल उतना नहीं है। इसलिए मुख्य रास्तों पर तो यातयात पुलिस हर दिन चैङ्क्षकग और सख्ती करती है। बाकी पर निगरानी नहीं होती। वहां वाहन चालक बेफ्रिक होकर नियम की अनदेखी भी करते हैं। इसमें सुधार के लिए ट्रैफिक वार्डन योजना शुरू की थी।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

मीन राशि में वक्री होंगे गुरु, इन राशियों पर धन वर्षा होने के रहेंगे आसारइन राशियों के लोग काफी जल्दी बनते हैं धनवान, मां लक्ष्मी रहती हैं इन पर मेहरबानभाग्यवान होती हैं इन नाम की लड़कियां, मां लक्ष्मी रहती हैं इन पर मेहरबानऊंची किस्मत वाली होती हैं इन बर्थ डेट वाली लड़कियां, करियर में खूब पाती हैं सफलताधन को आकर्षित करती है कछुआ अंगूठी, लेकिन इस तरह से पहनने की न करें गलतीपनीर, चिकन और मटन से भी महंगी बिक रही प्रोटीन से भरपूर ये सब्जी, बढ़ाती है इम्यूनिटीweather update news..मौसम की भविष्यवाणी सटीक, कई जिलों में तूफानी हवा के साथ झमाझमस्कूल में 15 साल के लड़के से बनाए अननेचुरल संबंध, वीडियो भी बनाया

बड़ी खबरें

Maharashtra Political Crisis: महाराष्ट्र में सरकार बनाने का नया फॉर्मूला तय! शिंदे खेमे को 6 कैबिनेट और एक डिप्टी सीएम का पद दे सकती है बीजेपीMaharashtra Political Crisis: जहालत एक किस्म की मौत है, शिवसेना नेता संजय राउत ने फिर बागियों पर बोला हमलाGST Council की 47वीं बैठक चंडीगढ़ में शुरू, दिख सकता है भरपूर एक्शन: Petrol-Diesel को जीएसटी में लाने समेत कई अहम फैसलों पर नजरपटना हाईकोर्ट का बड़ा फैसला - 'अगर पीड़िता ने नहीं किया विरोध, तो इसका मतलब ये नहीं की रेप के लिए सहमति दी'कौन हैं सोनिया गांधी के PA पीपी माधवन, जिन पर लगा रेप का आरोप?पीएम मोदी को ढूंढते हुए आए अमरीकी राष्ट्रपति बाइडन, पीछे से दी थपकी, देखिए Videoलंबी चुप्पी के बाद सचिन पायलट का अशोक गहलोत पर सबसे बड़ा हमला: अब नहीं चूकेंगे...कोर्ट में पेश नहीं हुईं कंगना रनौत, जावेद अख्तर के वकील ने की गैर-जमानती वारंट जारी करने की मांग
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.