'दुल्हन' को थाने लाने में लगे 4 घंटे, बजते रहे मंत्री- विधायकों के फोन

बाल विवाह रुकवाने पहुंची महिला बाल विकास, पुलिस और चाइल लाइन की टीमों को करनी पड़ी कड़ी मशक्कत, राजनैतिक दबाव भी आया..

By: Shailendra Sharma

Published: 26 Nov 2020, 08:06 PM IST

ग्वालियर. ग्वालियर के बड़ागांव खुरैल में बाल विवाह रुकवाने को लेकर जमकर बवाल हुआ। 14 साल की नाबालिग लड़की की शादी की खबर मिलने के बाद प्रशासन की टीमें गांव में बाल विवाह रुकवाने के लिए पहुंची थीं लेकिन वहां पर लड़का और लड़की पक्ष के लोगों ने जमकर हंगामा करना शुरु कर दिया।

 

4 घंटे में दुल्हन को थाने ला पाई पुलिस

बड़ागांव खुरैल में नाबालिग लड़की की शादी की सूचना मिलने के बाद पुलिस, महिला बाल विकास और चाइल्ड लाइन की टीमें गांव में पहुंची थीं। प्रशासन की टीमें दोपहर 12 बजे गांव में शादी को रुकवाने के लिए पहुंच गई थीं लेकिन वहां पुलिस के पहुंचते ही वर और वधु दोनों ही पक्षों के लोग एक हो गए और शादी करवाने की जिद पर अड़ गए। अधिकारियों ने समझाने की कोशिश की लेकिन कोई भी समझने को तैयार नहीं था जिसके बाद करीब 4 घंटे बाद पुलिस और महिला बाल विकास की टीम नाबालिग दुल्हन को लेकर थाने पहुंची। लड़की के परिवार वाले लड़की उम्र सही होने का कोई दस्तावेज प्रस्तुत नहीं कर पाए जिसके बाद उसे वन स्टॉप सेंटर भेजा गया। लेकिन पुलिस थाने और वन स्टॉप सेंटर पर भी वर और वधु पक्ष के लोग बड़ी संख्या में पहुंच गए और लड़की को छोड़ने की मांग की।

 

मंत्री-विधायकों के आने बजते रहे फोन

वहीं बताया जा रहा है कि इस मामले में अधिकारियों के पास नेताओं के फोन भी पहुंचे। ऊर्जा मंत्री प्रद्युम्न सिंह तोमर, खाद्य मंत्री भारत सिंह कुशवाह और विधायक कांग्रेस सतीश सिकरवार के फोन पहुंचे और नाबालिग को छोड़ने के लिए दबाव बनाया गया। वहीं दूसरी तरफ अब जिला कार्यक्रम अधिकारी ने बताया कि लड़की का मेडिकल परीक्षण कराया जाएगा और नियमानुसार कार्रवाई की जाएगी।

Show More
Shailendra Sharma
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned