विक्रांत इंस्टीट्यूशंस में वेबिनार सीरीज का शुभारंभ

शोध के लिए नवीन सोच का होना आवश्यक

By: Mahesh Gupta

Published: 29 Dec 2020, 05:12 PM IST

ग्वालियर.
शोध के लिए नवीन सोच का होना आवश्यक

विक्रांत ग्रुप ऑफ इंस्टीट्यूशंस के सिविल इंजीनियरिंग विभाग की ओर से स्टूडेंट्स को अध्ययन के साथ-साथ रिसर्च से जोडऩे के लिए साप्ताहिक छात्र विकास वेबिनार सीरीज 'आकारÓ के पहले संस्करण का शुभारंभ किया गया।
पर्यावरण शोधकर्ता योगेंद्र सिंह तोमर ने बताया कि सभी को अध्ययन के साथ-साथ पर्सनालिटी डवलपमेंट एवं शोध कार्यो पर भी ध्यान देना चाहिए। शोधकर्ता के लिए छात्रों में नवीन सोच का होना आवश्यक है। उन्होंने अपने शोधकार्य के बारे में जानकारी दी कि पर्यावरण कैसा होना चाहिए एवं उसे कैसे सुरक्षित रखने एवं बेहतर बनाने के बारे में बताया। वेबिनार को-ऑर्डिनेटर प्रो. सोनू सिंह ने बताया कि कार्यक्रम के माध्यम से संस्थान के सभी छात्रों को प्रत्येक सप्ताह एक प्रख्यात शोधकर्ता से शोध संबंधी जानकारियां हासिल कराई जाएंगी।
इस अवसर पर विक्रांत समूह के सचिव विक्रांत सिंह राठौर, कोषाध्यक्ष गुंजन राठौर, डीएमडी जगविंदर कौर, डायरेक्टर डॉ. संजय सिंह कुशवाह, प्रभारी प्राचार्य प्रो. आनंद बिसेन, सिविल इंजीनियरिंग विभागाध्यक्ष प्रो. कुलदीप पाठक, समस्त प्राध्यापकगण एवं छात्र-छात्राएं ऑनलाइन उपस्थित रहे।

Mahesh Gupta
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned