पुलिस कर्मियों के चुनाव के बाद भी नहीं शुरू हुए वीकली ऑफ

पुलिस कर्मियों के चुनाव के बाद भी नहीं शुरू हुए वीकली ऑफ

Rizwan Khan | Updated: 04 Jun 2019, 06:14:07 PM (IST) Gwalior, Gwalior, Madhya Pradesh, India

मुख्यमंत्री कमलनाथ के फरमान पर प्रदेश पुलिस को दिया जा रहा साप्ताहिक अवकाश फिर अटक गया है, लोकसभा चुनाव से कुछ दिन पहले वीकली ऑफ पर यह कहकर ब्रेक लगाया गया था कि चुनाव निपटने के बाद फिर से छुट्टी मिलेगी। अब चुनाव निपट गए

ग्वालियर. मुख्यमंत्री कमलनाथ के फरमान पर प्रदेश पुलिस को दिया जा रहा साप्ताहिक अवकाश फिर अटक गया है, लोकसभा चुनाव से कुछ दिन पहले वीकली ऑफ पर यह कहकर ब्रेक लगाया गया था कि चुनाव निपटने के बाद फिर से छुट्टी मिलेगी। अब चुनाव निपट गए, सरकार बन गई लेकिन पुलिस की छुट्टी अटक गई। शहर और देहात के थानों को अफसरों के फरमान का इंतजार है। पुलिसकर्मी कहते हैं कि सप्ताह में एक दिन का अवकाश से राहत रहती थी, पता नहीं अब सिर्फ जिले में ही वीकली ऑफ शुरू क्यों नहीं हुआ। प्रदेश के दूसरे शहरों और पड़ोसी जिलो में सीएम के फरमान का पालन हो रहा है।
सीएम कमलनाथ ने प्रदेश सरकार की कमान संभालने केे बाद माना था कि पुलिस विभाग में काम करने वालों को सप्ताह में एक दिन का अवकाश जरूरी है। उन्हें भी अपने परिवार के साथ समय बिताने के लिए वक्त मिलना चाहिए। इसलिए सीएम ने आदेश दिया था कि प्रदेश पुलिस में पदस्थ सभी पुलिसकर्मियों को सप्ताहिक अवकाश दिया जाएगा। सीएम के इस फरमान को पुलिसकर्मियों ने बड़ी राहत माना था। पुलिसकर्मियों का कहना है हालांकि सीएम का आदेश पूरे दिन अवकाश था, लेकिन कुछ थानों में इसमें भी हेरफेर किया गया था। रात गश्त में नौकरी करने वालों को दूसरे दिन डयूटी पर आने का नियम था, लेकिन फोर्स के टोटे का हवाला देकर सिर्फ आधे दिन का अवकाश दिया जाता रहा है। उससे भी यह तसल्ली रहती थी कि कम से कम रात गश्त के बाद डयूटी पहुंचने की हड़बड़ी नहीं थी। लेकिन अब तो फिर पुरानी परिपाटी हो गई। ऐसा लगता है कि अवकाश कुछ दिन की राहत होकर रह गया।

परिवार खुश, जरूरी काम निपटाने का वक्त
पुलिसकर्मियों का कहना है कि वीक ऑफ से परिवार के साथ कुछ वक्त गुजारने का समय मिलता था, इसके अलावा घर के वह काम भी कर लेते थे जो नौकरी की वजह से अटके रहते थे। लोकसभा चुनाव से पहले वीक ऑफ बंद कर दिया गया। उस वक्त दिलासा दिया गया था कि चुनाव निपटने के बाद तुरंत साप्ताहिक छुटटी शुरु हो जाएगी, लेकिन चुनाव निपटे महीना बीत चुका है। चुनाव के नतीजे भी आ गए हैं, सरकार का गठन भी हो गया लेकिन पुलिस की साप्ताहिक छुटटी शुरु नहीं हुई है।

इन थानों में बंद अवकाश
मुरार, महाराजपुरा, गोला का मंदिर, हजीरा, बहोड़ापुर, पुरानी छावनी, इंदरगंज, जनकगंज, कोतवाली, माधवगंज, कंपू, झांसी रोड, विश्वविद्यालय,पड़ाव, सिरोल इन थानों में साप्ताहिक अवकाश शुरू नहीं हुए हैं। जबकि ग्वालियर और थाटीपुर में लोकसभा चुनाव निपटने के बाद वीक ऑफ शुरु कर दिए गए हैं। इनमें मुरार में वीकली ऑफ को लेकर स्थिति काफी गड़बड़ रही है। इन्हें तीन महीने से अवकाश नहीं दिया गया है।

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned