अवैध तलघरों को तोडऩा सिर्फ खानापूर्ति क्यों?

कोर्ट ने निगम को तलघरों पर कार्रवाई के निर्देश दिए हैं, लेकिन निगम द्वारा सिर्फ खानापूर्ति की जा रही है शहर में विभिन्न क्षेत्रों में तलघरों का व्यावसायिक उपयोग किया जा रहा है और इनका निर्माण करते समय भी कोई अधिकारी इन्हें नहीं रोकता है।

ग्वालियर. शहर में अवैध तलघरों का निर्माण कर उनका व्यावसायिक उपयोग किया जा रहा है। इसको लेकर कोर्ट में जनहित याचिका भी लगी है, जिसको लेकर कोर्ट ने निगम को तलघरों पर कार्रवाई के निर्देश दिए हैं, लेकिन निगम द्वारा सिर्फ खानापूर्ति की जा रही है। जब कोर्ट में पेशी होती है तब ही निगम को कार्रवाई की याद आती है और तलघरों पर कार्रवाई की जाती है। शहर में विभिन्न क्षेत्रों में तलघरों का व्यावसायिक उपयोग किया जा रहा है और इनका निर्माण करते समय भी कोई अधिकारी इन्हें नहीं रोकता है। इन सबको लेकर पत्रिका एक्सपोज ने नगर निगम सिटी प्लानर प्रदीप वर्मा से चर्चा की।
? अवैध तलघरों पर कार्रवाई के नाम पर सिर्फ खानापूूर्ति क्यों की जा रही है।
-कोर्ट के निर्देश पर तलघरों पर कार्रवाई की जा रही है। तलघरों में पार्किंग भी करवा रहे हैं।
? निगम जो तलघरों की सूची बता रहा है, वह बहुत कम है। जबकि तलघर तो इससे अधिक हैं।
- कोर्ट में जो सूची पेश की गई है वह 2016 के अनुसार है। इसके बाद भी तलघर बने हैं, जिसके कारण उनकी संख्या बढ़ गई है।
? व्यावसायिक प्रतिष्ठानों ने पार्किंग की व्यवस्था नहीं की है। इन पर कार्रवाई क्यों नहीं की जाती।
- कई बार भवन की अनुमति रहवासी के तौर पर दी जाती है, लेकिन इसका व्यवसायिक उपयोग होने लगता है। ऐसे लोगों का पता चलता है तो उनके खिलाफ कार्रवाई की जाती है।
? अवैध निर्माण पर निगम अधिकारियों पर कार्रवाई क्यों नहीं होती।
- अगर किसी क्षेत्र में अवैध तलघर का निर्माण हो रहा है और उस पर क्षेत्रीय अधिकारी ने कोई कार्रवाई नहीं की है तो निगमायुक्त द्वारा ऐसे लोगों पर कार्रवाई की जाती है।

राजेश श्रीवास्तव
और पढ़े

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned