पीएम मोदी ने महिला के बैंक खाते में भेजे 3.10 लाख रुपए,बाद में खुला राज तो मचा हड़कंप

पीएम मोदी ने महिला के बैंक खाते में भेजे 3.10 लाख रुपए,बाद में खुला राज तो मचा हड़कंप

By: monu sahu

Updated: 13 Mar 2019, 06:16 PM IST

(फाइल फोटो)

ग्वालियर। यदि आपके खाते में एक साथ लाखों रुपए आ जाए तो आपको विश्वास नहीं होगा और आप खुशी से फूले नहीं समाएंगे। ऐसी ही एक घटना ग्वालियर चंबल संभाग के शिवपुरी जिले के करैरा तहसील के सिरसोना गांव की महिला के साथ हुई है। दरअसल करैरा तहसील के सिरसोना गांव की महिला ममता कोली ने थंब इंप्रेशन मशीन से 3.10 लाख रुपए निकाल लिए। महिला के जनधन खाते में यह रुपए आए है। जिस पर महिला ने समझा कि उसके जनधन खाते में प्रधानमंत्री मोदी ने यह रकम डाली है।

 

खुश होकर उसने अपना सारा कर्ज चुका दिया और बची हुई रकम से पति सुरेंद्र कोली के लिए बाइक व खुद के लिए गहने भी खरीद लिए। लेकिन, जब बैंक का अमला पुलिस के साथ उसके घर पहुंचा और सारी सच्चाई बताई तो चेहरे की सारी खुशी गायब हो गई और वह सहम गई। महिला के पास से मिले 85 हजार रुपए बैंक अधिकारियों ने ले लिए। शेष पैसे के लिए महिला को समय दिया गया है। बैंक प्रबंधन का कहना है कि यदि महिला ने पैसे वापस नहीं किए तो पुलिस कार्रवाई करवाएंगे।

 

यह है पूरा मामला
सिरसौद गांव में दुकानदार अनिल नागर के खाते से महिला का आधार नंबर लिंक हो गया। जबकि महिला को भी इस बात की जानकारी नहीं थी। कियोस्क सेंटर पर थंब इंप्रेशन मशीन से अलग-अलग दिन अंगूठा लगाकर कुल 3.10 लाख रुपए उसने निकाल लिए औरअपना सारा कर्ज चुका दिया और बची हुई रकम से पति के लिए बाइक व खुद के लिए गहने भी खरीद लिए।

 

pradhan mantri jan dhan yojna

पुलिस से करवाएंगे कार्रवाई
अपने बैंक खाते से रकम निकलने की शिकायत दुकानदार ने बैंक शाखा में जाकर ब्रांच मैनेजर को बताई और जांच कराने पर पता चला कि महिला का आधार दुकानदार के बैंक खाते से लिंक हो गया। हालांकि,अब बैंक अधिकारियों ने पुलिस की मदद से 85 हजार रुपए महिला से हासिल कर लिए हैं।

 

महिला अपनी माली हालत ठीक न होने की बात कहकर शेष रकम लौटाने में असमर्थता जता रही है। वहीं बैंक अधिकारियों ने शेष पैसे के लिए महिला को समय दिया गया है। बैंक प्रबंधन का कहना है कि यदि महिला ने पैसे वापस नहीं किए तो पुलिस कार्रवाई करवाएंगे।

pradhan mantri jan dhan yojna

ऐसे सामने आई सच्चाई
सिरसौद निवासी अनिल नागर पुत्र मथुरा प्रसाद नागर की कपड़ों की दुकान है। अनिल बताते हैं कि उन्होंने 3.50 लाख रुपए में अपना ट्रैक्टर बेचकर मध्यांचल ग्रामीण बैंक शाखा स्थित अपने खाते में जमा कर दिए थे। छोटे भाई नरेंद्र नागर को 27 फरवरी को चेक देकर रुपए निकालने भेजा। बैंक से भाई का फोन आया कि खाते में पैसे नहीं है। अनिल पासबुक लेकर पहुंचे और एंट्री कराई तो खाते से 3.10 लाख निकल चुके थे। बाद में खाते की जांच कराई तो गलत आधार नंबर लिंक मिला जो सिरसोना निवासी ममता कोली का पाया गया।

 

"हमारा जनधन के तहत जीरो बैलेंस पर खाता खुला था। हमने सोचा प्रधानमंत्री मोदी ने यह रुपए डाले हैं। इसलिए लोगों से लिया कर्ज इन रुपए से लौटा दिया है। साथ ही पति के लिए बाइक भी खरीदी है।"
ममता कोली, निवासी सिरसोना

 

"आधार नंबर गलत लिंक हो जाने से खाते से रुपए निकले हैं। पुलिस के साथ हम सिरसोना गांव में महिला के घर गए थे। 85 हजार रुपए लौटा दिए हैं जो अनिल नागर के खाते में जमा करा दिए हैं। शेष रकम नहीं लौटाए तो हम पुलिस कार्रवाई कराएंगे।"
अजय दंडौतिया,शाखा प्रबंधक, मध्यांचल ग्रामीण बैंक सिरसौद

monu sahu
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned