आधार कार्ड के नाम पर मनमानी वसूली, एसडीएम को दिया शिकायती पत्र

आर्यावर्त बैंक मुख्य शाखा में उस समय तहलका मच गया जब आधार कार्ड बनाने के नाम पर मनमानी वसूली की जा रही थी।

By: Mahendra Pratap

Published: 04 Sep 2020, 09:11 PM IST

Hamirpur, Hamirpur, Uttar Pradesh, India

हमीरपुर. जिला के राठ नगर स्थित आर्यावर्त बैंक मुख्य शाखा में मैनेजर की नाक के नीचे सोशल डिस्टेंसिंग की उड़ाई जा रही है धज्जियां। आर्यावर्त बैंक मुख्य शाखा में उस समय तहलका मच गया जब आधार कार्ड बनाने के नाम पर मनमानी वसूली की जा रही थी। नगर के आर्यावर्त बैंक मुख्य शाखा राठ में आधार संशोधन केंद्र संचालित है। जिसमें आधार ऑपरेटर लोकेश गुप्ता व उसका साथी जीतू आधार संशोधन कराने वालों की देखरेख के लिए लगाया गया था। जबकि शाखा में आधार संशोधन कराने के लिए आने वाले प्रत्येक नागरिक को भष्ट्राचारियों का सामना करना पड़ता है।

माया पत्नी ब्रजबिहारी निवासी पथपुरी थाना जरिया ने आरोप लगाया कि बैंक के मैनेजर की मिलीभगत से लोगों से अवैध वसूली की जाती है। बताया कि 20 दिन पहले ₹10 का टोकन दिया था। और आज 2 सितम्बर बुधवार को बुलाया था। लेकिन बैंक में 10:00 बजे से लेकर 2:00 बजे तक टोकन 10 नंबर का इंतजार करते बैठे रहे। और मेरा टोकन नंबर 10 का नंबर नहीं आया। पूछने पर लोकेश गुप्ता ने ₹200 की मांग की और सहयोगी जीतू ने ₹700 की मांग की और ना देने पर डांट फटकार कर भगा दिया। तब पीड़िता ने बैंक के मैनेजर से शिकायत की तो पुनः आधार कार्ड ऑपरेटर के पास भेज दिया। कहा कि यह मेरा मामला नहीं है। पीड़िता माया निराश होकर उपजिलाअधिकारी अशोक कुमार यादव से न्याय की गुहार लगाते हुए शिकायती पत्र देकर उनके खिलाफ कानूनी कार्रवाई की मांग की।

इसके अलावा ग्राम बकरई निवासी चांद मोहम्मद ने आरोप लगाया कि अपनी पत्नी का संशोधन कराया जिसके ₹200 लिए गए। और ₹400 सत्यम कंप्यूटर ने कागज बनवाने के लिये हैं। बताया कि सत्यम कंप्यूटर फर्जी दस्तावेज तैयार कराकर आधार कार्ड बनवाने का काम करता है। वही नगर के सिद्धगोपाल ने आरोप लगाया कि ₹200 से ₹500 की मांग करते हैं। ग्राम बसेला निवासी मगना ने बताया कि 4 दिन से बैंक के चक्कर काट रहा हूं और ₹200 की मांग करते हैं। टोला रावत निवासी मंजेश कुमारी एवं रामप्यारी से ₹500 की मांग की गई।

राठ नगर के निवासी शिवा भारती ने बताया कि 2 साल की बिटिया का नया आधार कार्ड बनवाने के ₹100 लिए गए। जबकि नया आधार कार्ड पूरी तरह निःशुल्क हैं। जैनेन्द्र गुप्ता ने बताया आधार कार्ड में मोबाइल नंबर जोड़ने के ₹50 के स्थान पर ₹100 लिए गए। लोगों ने बताया की आधार कार्ड बनवाने के बाद दी जाने वाली रसीद आधी काट कर दी जाती है ताकि लोगों को यह पता ना चल सके की आधार कार्ड बनवाने के कितने चार्ज कटे हैं।

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned