अभी और महंगा होगा आलू-प्याज, एक महीने तक राहत नहीं

- 70 में प्रति किलो की दर से बिक रहा प्याज और आलू के रेट भी 50 पार

By: Hariom Dwivedi

Published: 28 Oct 2020, 05:18 PM IST

शाहिद खान
पत्रिका न्यूज नेटवर्क
हमीरपुर. प्याज के दामों में जबरदस्त उछाल आया है। आम दिनों में 20 से 25 रुपये किलो बिकने वाला प्याज 60-70 रुपये प्रति किलो बिक रहा है। कोरोना काल में बढ़ती महंगाई लोगों की परेशानी का सबब बनी हुई है। प्याज के साथ आलू के दाम में भी बढ़ोतरी देखने को मिल रही है। व्यापारियों की मानें तो आलू प्याज की कीमत में तेजी बनी रहेगी और लगभग एक महीने तक लोगों को महंगाई से राहत नहीं मिल पाएगी।

बाजार में आलू-प्याज की भरपूर आवक है, लेकिन दाम अधिक होने के कारण लोगों को खरीदने के लिए कई बार सोचना पड़ रहा है। महाराष्ट्र क्षेत्र में हुई भारी बारिश के चलते प्याज की फसल को काफी नुकसान पहुंचा है। प्याज की फसल को नुकसान की खबर सामने आने के बाद ही प्याज के दाम में उछाल आना शुरू हो गया था। लेकिन बीते तीन दिनों में प्याज के दाम में उछाल आया और बाजार में प्याज 60 रुपये किलो बिक रहा है। प्याज ही नहीं आलू के दाम में भी बढ़ोत्तरी हुई है। सप्ताह भर पहले आलू 35 से 40 रुपये किलो फुटकर बाजार में बिक रहा था, वही आलू अब 40 से 50 रुपये किलो पहुंच गया है।

दीपावली के बाद कम हो सकते हैं दाम
आलू प्याज के थोक व्यवसायी सुनील मूलचंदानी ने बताया कि आलू प्याज के दाम में बढ़ोत्तरी हुई है। प्याज 70 रुपये किलो व थोक में 60 रुपये किलो है। इसी प्रकार आलू थोक में 40 रुपये किलो व फुटकर में 45 रुपये किलो बिक रहा है। उन्होंने बताया कि प्याज की फसल खराब होने के कारण दाम में बढ़ोत्तरी देखने को मिल रही है। दीपावली तक प्याज के दाम ऐसे ही बने रहने की संभावना है, जिसके बाद प्याज के दाम में कमी आ सकती है। आलू के दाम में एक माह तक तेजी रहेगी। नया आलू आने के बाद आलू के दाम में कमी आ जाएगी।

जमाखोरी की सूचना पर प्रशासन अलर्ट
सब्जी विक्रेता वली ने बताया कि आलू प्याज के दाम में बढ़ोत्तरी हो गई है। थोक व्यापारियों के पास आलू प्याज के दाम बढ़ोतरी होने के कारण फुटकर में भी आलू प्याज के दाम बढ़ गए हैं। दूसरी ओर बढ़ते दामों के बीच जमाखोरी भी शुरू हो जाती है। जिसके देखते हुए प्रशासनिक अमला भी अलर्ट हो गया है।

250 क्विंटल तक स्टाक रख सकता है थोक व्यापारी
जिला खाद्य अधिकारी बताया कि जिले में जमाखोरी की स्थिति नहीं है। सभी के पास लिमिट से कम मात्रा में प्याज है। प्याज की जमाखोरी न हो इसके लिए नजर रखी जा रही है। नियमानुसार थोक व्यापारी 250 क्विंटल तक स्टाक रख सकता है और फुटकर व्यापारी 50 क्विंटल तक स्टाक रख सकता है।

Show More
Hariom Dwivedi
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned