किताब न लाने पर टीचर ने डांटा, तो लड़की ने खुद को कमरे में किया बंद, और लगी ली आग

किताब न लाने पर टीचर ने डांटा, तो लड़की ने खुद को कमरे में किया बंद, और लगी ली आग

Nitin Srivastava | Publish: Sep, 10 2018 02:18:02 PM (IST) Lucknow, Uttar Pradesh, India

कुछ समय से रोशनी एक किताब को लेकर परेशान चल रही थी...

हमीरपुर. उत्तर प्रदेश के हमीरपुर जनपद में गरीबी मुफलिसी से परेशान एक परिवार की होनहार बेटी ने किताब न खरीद पाने के चलते आत्मदाह कर लिया। बच्ची को किताब न होने के कारण डर था कहीं स्कूल के अध्यापक उसका स्कूल से नाम न काट दें। छात्रा ने इतनी सी बात को लेकर अपने ही घर पर आत्मदाह कर लिया। जिसके बाद पूरे गांव में कोहराम मच गया। इस घटना से पूरे गांव में शोक की लहर दौड़ गई।

 

किताब को लेकर परेशान थी लड़की

हमीरपुर के जलालपुर थानाक्षेत्र के धौहल बुजुर्ग गांव निवासी प्रेमप्रकाश प्रजापति की पुत्री रोशनी 13 वर्ष कस्बे में स्थित हीरानन्द इंटर कालेज में कक्षा 6 में पढ़ती थी। कुछ समय से रोशनी एक किताब को लेकर परेशान चल रही थी। वहीं पिता प्रेमप्रकाश ने बताया कि शनिवार को स्कूल से लौटी रोशनी ने किताब को लेकर जिद की थी। उसने बताया कि बेटी का कहना था कि स्कूल में उसे टीचर ने डांटा है और अगर वह किताब न ले गई तो उसे स्कूल से निकाल दिया जाएगा। पिता ने रविवार को किताब लाकर देने का वादा किया था। लेकिन उसकी तबियत खराब होने पर वह इलाज कराने बिवांर चला गया और उसकी पत्नी बकरियां चराने खेतों में चली गई। जिसके बाद रोशनी ने खुद को कमरे में बंद कर केरोसिन डाला और आग लगा ली। जिसके बाद भाई रोहित ने घर से धुंआ निकलता देख शोर मचाया और पड़ोसी जब दरवाजा तोड़कर अंदर घुसे, तब तक रोशनी की मौत हो चुकी थी।

 

स्कूल प्रबंधक ने किया इनकार

पुलिस के मुताबिक छात्र के पिता ने उसके मानसिक परेशान होने की बात कही है। वहीं स्कूल के प्रबंधक सालिगराम मिश्रा ने बताया कि बच्ची कुछ दिनों से परेशान थी। उन्होंने स्कूल की तरफ से बच्ची को डांटने या परेशान करने की बात से इनकार किया है। उन्होंने कहा कि शिक्षकों को बुलाकर मैंने मामले की जानकारी की है। शिक्षकों ने छात्रा को डांटने की बात से इनकार किया है।

Ad Block is Banned