कालाबाजारी रोकने की चुनौती, पंजाब में कमी के चलते हनुमानगढ़ से जा रहे यूरिया को रोकने की बना रहे रणनीति

https://www.patrika.com/hanumangarh-news/

हनुमानगढ़. डीजल की तस्करी के बाद अब यूरिया की हो रही कालाबाजारी जिला प्रशासन के लिए मुसीबत बन रही है। पंजाब में कमी के चलते काफी मात्रा में हनुमानगढ़ को आवंटित यूरिया के अवैध रूप से पंजाब पहुंचने की शिकायतें मिलने के बाद जिला प्रशासन भी अब इस मामले में सख्ती बरत रहा है।

 

By: Purushottam Jha

Published: 21 Nov 2020, 09:48 PM IST

कालाबाजारी रोकने की चुनौती, पंजाब में कमी के चलते हनुमानगढ़ से जा रहे यूरिया को रोकने की बना रहे रणनीति
-अवैध परिवहन का कार्य गैर जमानती अपराध होने के बावजूद खाद विक्रेता हो रहे बेखौफ

हनुमानगढ़. डीजल की तस्करी के बाद अब यूरिया की हो रही कालाबाजारी जिला प्रशासन के लिए मुसीबत बन रही है। पंजाब में कमी के चलते काफी मात्रा में हनुमानगढ़ को आवंटित यूरिया के अवैध रूप से पंजाब पहुंचने की शिकायतें मिलने के बाद जिला प्रशासन भी अब इस मामले में सख्ती बरत रहा है। आदान विक्रेताओं से समझाइश के साथ ही कार्रवाई की चेतावनी भी दी जा रही है। जिससे जरूरत पडऩे पर हनुमानगढ़ जिले में यूरिया किल्लत की स्थिति नहीं बन सके।
हनुमानगढ़ जिले की बात करें तो रबी सीजन में यहां एक लाख मीट्रिक टन यूरिया की मांग रहती रही है। वर्तमान में तीस हजार मीट्रिक टन यूरिया की आपूर्ति जिले को करवा दी गई है। जिले में एक माह बाद गेहूं की फसल में किसान प्रथम सिंचाई करना शुरू कर देंगे। क्षेत्र में १५ फरवरी तक यूरिया की खूब मांग रहने की संभावना है।
इस स्थिति में जिले के किसानों को यूरिया किल्लत का सामना नहीं करना पड़े, इसे लेकर सरकारी तंत्र अब सक्रिय हो गया है। हनुमानगढ़ जिले में रबी की प्रमुख फसल गेहूं की अच्छी बिजाई हर वर्ष होती है। गत वर्षों में गेहूं की खेती में हनुमानगढ़ जिला प्रदेश में अव्वल रहा है। चालू रबी सीजन में भी गेहूं की बिजाई काफी क्षेत्र में होने की संभावना है।

गैर जमानती अपराध
पुलिस अधिकारियों के अनुसार अवैध रूप से यूरिया को बाहर में बेचना गैर जमानती अपराध की श्रेणी में आता है। ऐसी स्थिति में क्रेता व विक्रेता के खिलाफ आवश्यक वस्तु अधिनियम के तहत कार्रवाई हो सकती है। बताया जा रहा है कि खाद की कालाबाजारी, जमाखोरी और गड़बड़ी पर नियंत्रण करने के लिए जिला पुलिस स्तर पर जल्द अभियान भी चलाया जाएगा।

पांच फर्म को नोटिस
नियमानुसार यूरिया विक्रय नहीं करने पर कृषि विभाग ने हाल ही में पांच आदान विक्रेताओं को नोटिस जारी किया है। इनको तीन दिवस का समय देकर उनसे स्पष्टीकरण मांगा है। संतोषजनक जवाब नहीं मिलने पर एकतरफा कार्रवाई करने की चेतावनी दी गई है। कृषि विभाग की टीम सीमावर्ती क्षेत्रों में संचालित दुकानों की जांच करने में लगी हुई है।

बिजाई पर नजर
चालू रबी सीजन में अभी तक करीब एक लाख हेक्टेयर में गेहूं की बिजाई हो चुकी है। जबकि आगे १५ दिसम्बर तक बिजाई कार्य चलेगा। इसी तरह चना १२१८७०, सरसों की १२४०८० हेक्टेयर में बिजाई हुई है। गत वर्ष जिले में २६२५७२ हेक्टेयर में गेहूं की बिजाई हुई थी।

......फैक्ट फाइल....
-हनुमानगढ़ में १५ फरवरी तक यूरिया की खूब मांग रहने की संभावना।
-जिले में रबी सीजन में करीब एक लाख मीट्रिक टन यूरिया की मांग।
-अभी जिले में तीस हजार मीट्रिक टन यूरिया उपलब्ध।
-इस सप्ताह पांच आदान विक्रेताओं को कृषि विभाग ने जारी किया नोटिस।

....वर्जन....
कर रहे निगरानी
जिले को आवंटित यूरिया के अवैध रूप से पंजाब जाने की शिकायतें मिल रही है। इसके बाद इसकी सूचना कलक्टर व मुख्यालय को देने के बाद यूरिया को बाहर जाने से रोकने का प्रयास किया जा रहा है। इस कार्य में जिला व पुलिस प्रशासन का सहयोग भी अपेक्षित रहेगा।
-दानाराम गोदारा, उप निदेशक, कृषि विभाग हनुमागनढ़

Purushottam Jha Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned