मार्च 2020 में सतीपुरा फाटक पर रेलवे ओवरब्रिज का होना था निर्माण, पचास प्रतिशत ही हुआ कार्य

मार्च 2020 में सतीपुरा फाटक पर रेलवे ओवरब्रिज का होना था निर्माण, पचास प्रतिशत ही हुआ कार्य
- अब मंदिर को लेकर ग्रामीणों ने नहीं किया निर्णय
हनुमानगढ़. जंक्शन स्थित सतीपुरा फाटक पर रेलवे ओवरब्रिज का निर्माण मार्च 2020 में पूरा होना था। लेकिन अभी तक पचास प्रतिशत ही कार्य हो पाया है।

By: adrish khan

Published: 17 Jan 2021, 08:27 PM IST


मार्च 2020 में सतीपुरा फाटक पर रेलवे ओवरब्रिज का होना था निर्माण, पचास प्रतिशत ही हुआ कार्य
- अब मंदिर को लेकर ग्रामीणों ने नहीं किया निर्णय
हनुमानगढ़. जंक्शन स्थित सतीपुरा फाटक पर रेलवे ओवरब्रिज का निर्माण मार्च 2020 में पूरा होना था। लेकिन अभी तक पचास प्रतिशत ही कार्य हो पाया है। चूना फाटक से संगरिया मार्ग तक फाउंडेशन व पिल्लर का काम हो चुका है। जबकि टाउन व अबोहर मार्ग पर अभी तक फाउंडेशन के लिए खुदाई तक नहीं की गई। इस रेलवे ओवरब्रिज के निर्माण में अभी करीब डेढ़ से दो वर्ष लगने की आशंका है। टाउन मार्ग से सतीपुरा फाटक के पास अप्रोच सड़क का निर्माण किया जा चुका है। लेकिन एक मंदिर को लेकर निर्माण कार्य अटका हुआ है। दरअसल मंदिर को लेकर यहां के ग्रामीण व प्रशासन की ओर से निर्णय लिया जाना है। लेकिन अभी तक आपसी सहमति होने के कारण इस मार्ग पर अप्रोच रोड़ का निर्माण पूरा नहीं हो पाया है। इसके अलावा पेयजल की मुख्य पाइपलाइन को भी बदला जाना था। इसको लेकर सार्वजनिक निर्माण विभाग ने पहले पीएचईडी को पत्र लिखा। इस पर पीएचईडी ने आरयूआईडीपी की ओर से निर्माणाधीण प्रोजेक्ट का जिक्र करते हुए इंकार कर दिया। इधर, आरयूआईडीपी का प्रोजेक्ट ठप होने पर पीएचईडी की ओर से पेयजल पाइप लाइन डलवाने का कार्य किया जाएगा। इसके लिए सार्वजनिक निर्माण विभाग ने करीब आठ लाख रुपए जमा भी करवा दिए हैं।

12 करोड़ का हो चुका है भुगतान
सतीपुरा फाटक पर रेलवे ओवरब्रिज का निर्माण 58.34 करोड़ रुपए की लागत से होगा। फिलहाल सार्वजनिक निर्माण विभाग की ओर से 12 करोड़ का भुगतान किया जा चुका है। रेलवे ओवरब्रिज का निर्माण 17 सितंबर 2018 को शुरू हुआ था। इसका शिलान्यास पूर्व जलसंसाधन मंत्री डॉ. रामप्रताप ने 28 सितंबर 2018 को किया था। मार्च 2020 में निर्माण पूरा होना था। लेकिन अभी तक पचास प्रतिशत ही कार्य हो पाया है।

दोनों तरफ होगा ओवरब्रिज
ओवरब्रिज का निर्माण संगरिया मार्ग से चूना फाटक मार्ग व सतीपुरा बाइपास से अबोहर मार्ग तक होना है। ओवरबिरज की लंबाई दोनों तरफ 800-800 मीटर के करीब होगी। ओवरब्रिज की चौड़ाई 9.5 मीटर होगी। ओवरब्रिज के नीचे साढ़े पांच मीटर चौड़ाई की सर्विस लाइन होगी। ओवरब्रिज के नीचे की सड़क पर यातायात व्यवस्था यथावत रहेगी।

डिजाइन को लेकर उठे थे सवाल
सतीपुरा फाटर पर प्लस निशान की तरह ओवरब्रिज होगा। ओवरब्रिज पर बठिण्डा की तर्ज पर चौराहा भी होगा। हालांकि इसके डिजाइन को लेकर कई तरह के सवाल भी उठा थे और मामला कोर्ट तक भी पहुंचा था। सूत्रों की माने तो इसके डिजाइन में बदलाव भी किए जा चुके हैं।

दुकानदार कर चुके हैं रोष प्रकट
ओवरब्रिज को लेकर यहां के दुकानदारों का व्यापार पूरी तरह ठप ना हो जाए। इसके डर से कई बार रोष प्रकट कर चुके हैं। इसके अलावा चौड़ाई के कारण दुकानों के फ्रंट का हिस्सा निर्माण के आड़े नहीं जाए। इसको लेकर भी यहां के दुकानदार चिंतित हैं। दरअसल इन्हें चिंता इस बात की भी है कि इसके निर्माण होने से यहां के प्रोपर्टी के दाम कम नहीं हो जाऐं।

adrish khan Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned