हनुमानगढ़ जिले में नहरी पानी की चोरी रोकने को लेकर कंट्रोल रूम स्थापित, पानी पहुंचने को लेकर किसान आशंकित

https://www.patrika.com/hanumangarh-news/

जल संसाधन विभाग की ओर से सिद्धमुख नहर परियोजना में 11 जनवरी से 20 जनवरी तक सी ग्रुप के चलने वाले वरीयताक्रम की अवधि में पानी चोरी रोकने के लिए भादरा उपखण्ड मुख्यालय पर कंट्रोल रूम की स्थापना की है।

 

By: Purushottam Jha

Published: 11 Jan 2021, 10:36 AM IST

हनुमानगढ़ जिले में नहरी पानी की चोरी रोकने को लेकर कंट्रोल रूम स्थापित, पानी पहुंचने को लेकर किसान आशंकित
भादरा.जल संसाधन विभाग की ओर से सिद्धमुख नहर परियोजना में 11 जनवरी से 20 जनवरी तक सी ग्रुप के चलने वाले वरीयताक्रम की अवधि में पानी चोरी रोकने के लिए भादरा उपखण्ड मुख्यालय पर कंट्रोल रूम की स्थापना की है। जिसके प्रभारी सहायक अभियंता दीपक पवार होंगे। विभाग के अधिशाषी अभियंता ने नहरों पर निगरानी के लिए कनिष्ठ अभियंता चन्द्रकला, दिनेश सिंगमार, राकेश प्रजापत के नेतृत्व में तीन टीमो का गठन किया गया है। जल संसाधन विभाग हनुमानगढ़ के मुख्य अभियंता विनोद मित्तल ने बताया कि पानी चोरी रोकने को लेकर तीस टीमें गठित की गई है। इसमें शामिल अभियंताओं को ग्यारह जनवरी को रिपोर्ट करने के लिए कहा गया है। नियमित रूप से नहरों की निगरानी करके टेल तक पानी पहुंचाने का प्रयास रहेगा। वहीं जिला प्रशासन ने भी नहरों की निगरानी के दौरान कानून व्यवस्था बनाए रखने को लेकर सात मजिस्ट्रेट की नियुक्ति की है।

नोहर. रासलाना टेल के किसानों तक सिंचाई पानी पहुंचाने के लिए पानी चोरी की घटनाओं पर अंकुश के लिए प्रशासन ने तैयारी तो पूरी कर ली है। परंतु माइनरों की सफाई नहीं होने से टेल तक सिंचाई पानी पहुंचने को लेकर किसान अब भी आशंकित हैं। रासलाना वितरिका टेल से जुड़े किसान लगातार प्रशासन को आपूवाला, रायसिंहपुरा व ढाणी चारणान माइनर में कई किलोमीटर तक अटी पड़ी मिट्टी व झाड़-झंखाड़ हटाने की गुहार लगा रहे हैं। परंतु जल संसाधन विभाग की ओर से ५ जनवरी को किए गए टैंडर पर ठेकेदारों ने माइनर से मिट्टी हटाने का कार्य अब शुरू किया है। किसानों ने बताया कि बिना संसाधन के तीनों माइनर पर बीस-बीस श्रमिक मिट्टी हटाने का कार्य कर रहे हैं। जबकि मंगलवार से रासलाना टेल के किसानों का वरीयताक्रम शुरू हो जाएगा। किसानों ने बताया कि आपूवाला माइनर पर जेसीबी से मिट्टी हटाने का कार्य किया जा रहा है। वहीं रायसिंहपुरा व ढाणी चारणान माइनर पर बिना जेसीबी के मात्र श्रमिक ही मिट्टी हटाने का कार्य कर रहे हैं। इससे इन माइनरों की सफाई समय पर होने को लेकर आशंका के बादल मंडराने लगे हैं। किसानों ने बताया कि अगर माइनरों की सफाई समय पर पूरी नहीं हुई तो सिंचाई पानी ऑवर फ्लो होने से नहर टूटने का अंदेशा बना रहेगा। [नसं.]

Purushottam Jha Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned