विभागीय प्रस्ताव खारिज, 1200 क्यूसेक पर सहमति

Purushotam Jha | Updated: 11 Oct 2019, 11:26:24 AM (IST) Hanumangarh, Hanumangarh, Rajasthan, India

https://www.patrika.com/hanumangarh-news/

हनुमानगढ़. भाखड़ा रेग्यूलेशन कमेटी की बैठक गुरुवार को जंक्शन के कलक्ट्रेट सभागार में हुई। इसमें मार्च तक भाखड़ा नहर में 1200 क्यूसेक पानी चलाने पर सहमति बनी। सिंचाई अधिकारियों ने मार्च तक के रेग्यूलेशन पर सहमति जताने के साथ ही फरवरी में समीक्षा बैठक बुलाने की बात भी कही।

 

-भाखड़ा रेग्यूलेशन कमेटी की बैठक में नहरी समस्याओं का समाधान नहीं होने पर किसान प्रतिनिधियों ने जताई नाराजगी
हनुमानगढ़. भाखड़ा रेग्यूलेशन कमेटी की बैठक गुरुवार को जंक्शन के कलक्ट्रेट सभागार में हुई। इसमें मार्च तक भाखड़ा नहर में 1200 क्यूसेक पानी चलाने पर सहमति बनी। सिंचाई अधिकारियों ने मार्च तक के रेग्यूलेशन पर सहमति जताने के साथ ही फरवरी में समीक्षा बैठक बुलाने की बात भी कही। बैठक शुरू होने पर रेग्यूलेशन का जो प्रस्ताव जल संसाधन विभाग के अधिकारियों ने सदस्यों के समक्ष रखा, उसे किसान प्रतिनिधियों ने खारिज कर दिया। किसान प्रतिनिधि ओम जांगू व विनोद धारणियां ने कहा कि बांध लबालब हैं, लेकिन विभागीय आंकड़ों में अब भी पानी की कमी ही है। विभागीय अधिकारियों की ओर से तैयार किए गए रेग्यूलेशन में २७ फरवरी २०२० तक १२०० क्यूसेक व इसके बाद २२ मार्च २०२० तक ८५० व इसके बाद २० मई २०२० तक भाखड़ा नहर में पेयजल के लिए २५० क्यूसेक पानी चलाने का जिक्र किया गया था। लेकिन इस प्रस्ताव को किसान प्रतिनिधियों ने सिरे से खारिज कर दिया। किसान प्रतिनिधियों का कहना था कि इस रेग्यूलेशन से गेहूं की फसल नहीं पकेगी। ऐसे में मार्च तक १२०० क्यूसेक पानी अनिवार्य रूप से चलाने की मांग सभी ने की। कई देर तक चर्चा के बाद इस प्रस्ताव पर सहमति बनी। इसमें अधिकारियों ने फरवरी तक १२०० तथा फरवरी में ही फिर से समीक्षा बैठक बुलाकर बांधों के जल स्तर के हिसाब से आगे का रेग्यूलेशन निर्धारित करने का सुझाव दिया। जिस पर आखिरकार सहमति बन गई। कलक्टर जाकिर हुसैन की अध्यक्षता में संपन्न बैठक में संगरिया विधायक गुरदीप सिंह शाहपीनी, सादुलशहर विधायक जगदीश जांगिड़, जल संसाधन विभाग के एसई डीएस बेनीवाल, एक्सईएन लखपतराय मेहरड़ा, सुरेश सुथार, सहायक अभियंता सहीराम यादव, किसान प्रतिनिधि ओम जांगू, नूरनबी भाटी, उश्नाक मोहम्मद, पीआरओ सुरेश बिश्नोई, जल संसाधन विभाग के कर्मचारी सहदेव तिवाड़ी सहित अन्य मौजूद रहे।

७० दिन की बंदी
बैठक में जल संसाधन विभाग के अधिकारियों ने कहा कि इस बार ७० दिन की बंदी प्रस्तावित है। लेकिन फाइनल स्थिति अभी सामने नहीं आई है। किसान प्रतिनिधियों ने पुरानी भाखड़ा कैनाल में दीवार निकालने की मांग भी रखी। जिससे बैक फ्लो को रोका जा सके। साथ ही बंदी लेने के समय का निर्धारण आपसी सहमति से लेने की मांग की। नहीं तो बागवानी वाले किसान बर्बाद हो जाएंगे।

तीन दिन पहले भेजें प्रस्ताव
सादुलशहर विधायक ने बैठक एजेंडा नहीं भेजे जाने पर नाराजगी जाहिर की। उन्होंने कहा कि यदि हमें तीन दिन पहले एजेंडा मिल जाएगा तो बेहतर तैयारी के साथ समस्या समाधान को लेकर सुझाव भी दे सकेंगे। सदस्यों ने लिंक के शेयर से छेड़छाड़ नहीं करने की बात भी कही। गत बैठक में मोती राम कमेटी की सिफारिश लागू करने का प्रस्ताव पास होने के बावजूद बैठक बिंदु में इसे शामिल नहीं करने पर किसान नेता ओम जांगू ने नाराजगी जाहिर की।

इसलिए हम आएं हैं
बैठक में सादुलशहर विधायक ने कहा कि सीएडी के दफ्तर को वापस हनुमानगढ़ लाने की तैयारी चल रही है। इसे लेकर हम प्रयास कर रहे हैं। जिससे भविष्य में सभी कच्चे खाले पक्के हो सकें। उन्होंने कहा कि गत सरकार की कुछ कमियां रही थी, इसलिए जनता हमें लेकर आई है। इसलिए हम चाहते हैं कि किसानों की समस्याओं का हल जरूर निकले।

मिनट-टू-मिनट
-दोपहर ३.३२ बजे तक सभी अधिकारी बैठक सभागार में पहुंच गए।
-३.३६ बजे संगरिया विधायक गुरदीप सिंह शाहपीनी ने बैठक में भाग लेने के लिए सभागार मेें प्रवेश किया।
-बैठक की अध्यक्षता करने वाले कलक्टर जाकिर हुसैन ३.४१ बजे बैठक सभागार में पहुंचे।
-भाखड़ा रेग्यूलेशन कमेटी की बैठक शाम ४.२४ बजे संपन्न हुई।
........................................................................

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned