सीआई बन लाखों ठगने वाले से नहीं हो सकी बरामदगी

https://www.patrika.com/hanumangarh-news/

हनुमानगढ़. जंक्शन थाना प्रभारी के नाम से लाखों रुपए की ठगी के आरोपी हिस्ट्रीशीटर सुरेश उर्फ भैराराम घांची निवासी पाली के कब्जे से ठगी की कोई रकम बरामद नहीं हो सकी है। जंक्शन थाना पुलिस ने प्रोडक्शन वारंट पर गिरफ्तारी के बाद पूछताछ व रकम बरामदगी के लिए दो बार उसका रिमांड मंजूर कराया। मगर आरोपी के कब्जे से नकदी बरामद करने में पुलिस विफल रही।

By: adrish khan

Published: 27 Mar 2020, 10:00 PM IST

सीआई बन लाखों ठगने वाले से नहीं हो सकी बरामदगी
- पुलिस ने आरोपी को भिजवाया जेल
- ट्रांसपोर्ट व्यावसायी से 16.38 लाख रुपए की ठगी का मामला
हनुमानगढ़. जंक्शन थाना प्रभारी के नाम से लाखों रुपए की ठगी के आरोपी हिस्ट्रीशीटर सुरेश उर्फ भैराराम घांची निवासी पाली के कब्जे से ठगी की कोई रकम बरामद नहीं हो सकी है। जंक्शन थाना पुलिस ने प्रोडक्शन वारंट पर गिरफ्तारी के बाद पूछताछ व रकम बरामदगी के लिए दो बार उसका रिमांड मंजूर कराया। मगर आरोपी के कब्जे से नकदी बरामद करने में पुलिस विफल रही। एक तो लॉकडाउन के चलते वैसे ही पुलिस जांच प्रभावित हो गई, दूसरा यह कि आरोपी पहले से ही जेल में था। ठगी की वारदात भी उसने मोबाइल फोन के जरिए जेल से ही अंजाम दी थी। ऐसे में उसके पास तो नकदी होने का सवाल ही नहीं था। और उसकी निशानदेही पर नकदी तथा वारदात में शामिल किसी अन्य व्यक्ति के बारे में जानकारी हासिल करने में पुलिस कामयाब नहीं हो सकी।
ऐसे में पुलिस ने रिमांड अवधि समाप्त होने पर आरोपी को गुरुवार को मजिस्ट्रेट के समक्ष पेश कर न्यायिक अभिरक्षा में जेल भिजवा दिया। पुलिस के अनुसार आरोपी सुरेश घांची को उदयपुर जेल से प्रोडक्शन वारंट पर गिरफ्तार करने के बाद न्यायालय में पेश कर पूछताछ व बरामदगी के लिए 22 मार्च तक का रिमांड मंजूर करवाया था। लेकिन रिमांड अवधि के दौरान उससे किसी प्रकार की बरामदगी नहीं हो पाई। रिमांड अवधि समाप्त होने पर आरोपी को 22 मार्च को न्यायालय में पेश कर 26 मार्च तक का रिमांड बढ़वाया गया था।
मोबाइल फोन के जरिए ठगी
जंक्शन थाने में 20 फरवरी को ट्रक ऑपरेटर यूनियन अध्यक्ष जुगल किशोर निवासी सेक्टर 12 ने मामला दर्ज कराया कि 29 दिसम्बर 2019 को दोपहर करीब एक बजे उसके पास मोबाइल नम्बर 95294-20000 से कॉल आई। उक्त कॉल करने वाले का नाम ट्रू कॉलर पर धीरेन्द्रसिंह शेखावत दर्शा रहा था। फोन करने वाले ने सीआई धीरेन्द्रसिंह शेखावत से मिलती-जुलती आवाज में उससे बात करते हुए खुद को जंक्शन थाना प्रभारी ही बताया। जरूरत बताकर 1 लाख 99 हजार रुपए खाते में डालने को कहा। उसने जंक्शन थाना प्रभारी समझ पैसे खाते में डलवा दिए। यह राशि बाद में लौटा भी दी। इसके कुछ दिन बाद फिर जरूरत बताकर पैसे खाते में जमा कराने के लिए व्यापारी को कहा। इस तरह अलग-अलग अवधि में व्यापारी से कुल 16.36 लाख रुपए ट्रांसफर करवा लिए। बाद में पता चला कि सुरेश कुमार ने फर्जी तरीके से अपने खातों में पैसे ट्रांसफर करवा कर हड़प लिए। आरोपी सुरेश किसी की भी आवाज निकालने में माहिर है। अब तक पाली, जोधपुर शहर, जयपुर व मारवाड़ जंक्शन विधायक के नाम से ठगी कर चुका है। माउंट आबू में मजिस्ट्रेट के नाम से 6 लाख रुपए भी ठग चुका है। हनुमानगढ़, बाड़मेर व श्रीगंगानगर सहित 16 जिलों में विधायक, मजिस्ट्रेट, आईजी, एसपी, एएसपी से लेकर थानेदार की आवाज में बात कर ठगी कर चुका है।

adrish khan Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned