हंगामा नहीं बरपे इसलिए बनाया सुरक्षा घेरा, मामूली विरोध के बीच गंगमूल डेयरी की आमसभा संपन्न

हंगामा नहीं बरपे इसलिए बनाया सुरक्षा घेरा, मामूली विरोध के बीच गंगमूल डेयरी की आमसभा संपन्न
हंगामा नहीं बरपे इसलिए बनाया सुरक्षा घेरा, मामूली विरोध के बीच गंगमूल डेयरी की आमसभा संपन्न

Purushotam Jha | Updated: 23 Sep 2019, 09:36:50 PM (IST) Hanumangarh, Hanumangarh, Rajasthan, India

https://www.patrika.com/hanumangarh-news/

हनुमानगढ़. श्रीगंगानगर जिला दुग्ध उत्पादक सहकारी संघ लिमिटेड हनुमानगढ़ की २४ वीं वार्षिक आमसभा सोमवार को संपन्न हुई। मामूली विरोध के बीच साधारण सभा की प्रक्रिया करीब एक घंटे तक चली।


हनुमानगढ़. श्रीगंगानगर जिला दुग्ध उत्पादक सहकारी संघ लिमिटेड हनुमानगढ़ की २४ वीं वार्षिक आमसभा सोमवार को संपन्न हुई। मामूली विरोध के बीच साधारण सभा की प्रक्रिया करीब एक घंटे तक चली। इससे पहले के वर्षों में हुई आमसभा के मुकाबले इस बार डेयरी प्रबंधन ने एहतियात के तौर पर काफी चाक-चौबंद व्यवस्था कर रखी थी। आमसभा शुरू होने पर चैयरमेन जसवीर सहारण व एमडी पीके गोयल ने डेयरी की ओर से दुग्ध उत्पादक संघों के लिए संचालित योजनाओं के बारे में विस्तार पूर्वक जानकारी दी। चैयरमेन ने कहा कि प्रदेश में हनुमानगढ़ डेयरी अव्वल स्थान पर है। इस पर सभी को गर्व करना चाहिए। दूसरी तरफ कुछ संचालक मंडल सदस्यों ने जब गत वर्ष संपन्न वार्षिक आमसभा में उठाए गए मुद्दों को लेकर चैयरमेन से सवाल किया तो चैयरमेन व एमडी ने चुप्पी साधने में समझदारी समझी। संचालक मंडल सदस्य देवीलाल बाना ने आरोप लगाया कि बोर्ड को अपने सदस्यों व सचिव से संवाद करने में भी डर लगता है। इसलिए आमसभा में सचिव के प्रवेश पर पाबंदी लगाई गई है। उन्होंने कहा कि अंदरखाने बोर्ड ने मनमाने नियम बना रखे हैं, जिसके तहत अंदर की बात बाहर नहीं करने की अनिवार्यता सदस्यों पर थोप दी गई है। उन्होने कहा कि एमडी को चार बार नोटिस मिल गया है, लेकिन वह अभी तक पद पर बने हुए हैं। गत आमसभा में उनके खिलाफ कार्रवाई करने की मांग का जिक्र कर कहा कि चैयरमेन ने पंद्रह दिन में कार्रवाई करने का आश्वासन दिया था, लेकिन ३६५ दिन बीत गए हैं, वह १५ दिन अभी तक चैयरमेन के पूरे नहीं हुए। बाना के आरोप के जवाब में चैयरमेन जसवीर सहारण ने कहा कि प्रदेश की डेयरी एक नंबर पर है, जिस पर सबको फर्क होना चाहिए। उन्होंने कहा कि एमडी मामले में निर्णय आरसीडीएफ स्तर पर होते हैं। गलत काम करने पर आरसीडीएफ रात को ही उठाकर ले जाती है। कुछ अफसरों का उन्होंने उदाहरण भी दिया। आमसभा में आरसीडीएफ प्रतिनिधि केके झा, चार एएम दुग्ध समिति के सदस्य शंकरलाल कलवानियां, लखियां समिति सदस्य लखविंदर सिंह, महलिया समिति सदस्य राजेश कुमार, धौलीपाल समिति सदस्य दीपाराम, खारा समिति सदस्य राजेश कुमार, डेयरी प्रबंधक आरके शर्मा, नरेश बहल, उग्रसैन सहारण, विनोद शर्मा, दिलीप सिंह, हरीराम, पुनीत शर्मा, एसके सिडाना, निजी सचिव मोहन मोठ्सरा सहित अन्य मौजूद रहे।

सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम
गत वर्षों में आमसभा के दौरान हुए शोर-शराबे से सबक लेते हुए डेयरी प्रबंधन ने इस बार आमसभा का स्थान बदल दिया। इस बार प्लांट के पास ही हॉल में आमसभा करवाई। इससे पहले गेट पर पुलिस का पहरा बैठाया गया था। आमसभा स्थल पर डेयरी के सुरक्षाकर्मी तैनात किए गए थे। जो प्रवेश पत्र दिखाने की स्थिति में ही आमसभा स्थल पर प्रवेश दे रहे थे। दुग्ध उत्पादक सहकारी समितियों के सचिव को आमसभा में शामिल नहीं करने पर कुछ सचिव बाहर ही बैठ गए। इस दौरान कुछ सचिवों ने आगे डेयरी को दूध नहीं देने की चेतावनी दी। कुछ सदस्यों की समझाइश पर सभी माने।

गुणवत्ता से कर रहे समझौता
कुछ सदस्यों ने आरोप लगाया कि हनुमानगढ़ डेयरी के अफसर जयपुर के दबाव में वहां के घी की मार्केटिंग कर रहे हैं। इससे हनुमानगढ़-श्रीगंगानगर डेयरी की ओर से बनाए जाने वाले घी की गुणवत्ता और बाजार साख प्रभावित होने की आशंका जताई। सदस्यों ने आरोप लगाया कि संघ हित पर व्यक्तिगत हित हावी होने से सारी गड़बड़ी हो रही है। डेयरी की ओर से खरीदी जाने वाले दूध के रेट व बोनस राशि बढ़ाने की मांग सदस्यों ने चैयरमेन के समक्ष रखी। आसमभा समाप्त होने पर कुछ सदस्यों व समिति के सचिव ने नारेबाजी कर डेयरी में भ्रष्टाचार व्याप्त होने का आरोप लगाया। इसकी जांच कर दोषियों के खिलाफ कार्रवाई करने की मांग की।

बोनस राशि बढ़ाने की मांग
दूध और घी के नकली कारोबार पर रोक लगाने के लिए सदस्यों ने समितियों को प्रति लीटर दी जाने वाली बोनस राशि में बढ़ोतरी करने का सुझाव दिया। सदस्य दीपचंद बेनीवाल ने दो की बजाय पांच रुपए प्रति लीटर बोनस देने का सुझाव दिया। इससे डेयरी में दूध संकलन की मात्रा बढऩे की संभावना जताई। सदस्यों का कहना था कि असली को प्रोत्साहन देकर को नकली को खत्म किया जा सकता है।

डेयरी पर नजर
गंगमूल डेयरी हनुमानगढ़ का पंजीकरण ३० जनवरी १९८४ को हुआ था। शुरू में दस संघों का एक पथ बनाकर ३०० लीटर प्रतिदिन दूध संकलन शुरूा किया गया। अब श्रीगंगानगर-हनुमानगढ़ जिलों में ५७४ क्रियाशील पंजीकृत समितियों व ५२० संकलन केंद्रों के जरिए ८४७१४ लीटर दूध प्रतिदिन के हिसाब से संग्रहित किया जा रहा है।

......मिनट टू मिनट....
-आमसभा में भाग लेने के लिए सुबह ११ बजे से अध्यक्ष पहुंचने लगे।
-१२.२८ बजे औपचारिक रूप से डेयरी की आमसभा शुरू हुई।
-१२.३० बजे डेयरी एमडी पवन कुमार गोयल ने अपना उद्बोधन दिया।
-डेयरी चैयरमेन जसवीर सहारण ने
-१.२७ बजे डेयरी के चैयरमेन जसवीर सहारण ने वार्षिक आमसभा के समापन की घोषणा की।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned