हनुमानगढ़-बठिण्डा रेलखण्ड पर इलेक्ट्रिक ट्रैक तैयार

रेलवे ट्रैक पर तेज गति से दौड़ेगी रेलगाडिय़ां


आज करेंगे सीआरएस और डीआरएम टै्रक का निरीक्षण

By: Manoj

Updated: 03 Mar 2019, 11:52 AM IST

मनोज गोयल
हनुमानगढ़. हनुमानगढ़-बठिण्डा रेलखण्ड पर इलेक्ट्रिक ट्रैक का कार्य पूर्ण हो गया है। शनिवार को रेलवे की इलेक्ट्रिकल शाखा और ट्रैक को इलेक्ट्रिक कर रही निजी कम्पनी के प्रतिनिधि दिनभर तेज गति से कार्य को अंतिम रूप देने में जुटे रहे। रविवार को रेलवे के मुख्य संरक्षा आयुक्त (सीआरएस) सुनील कुमार और उत्तर पश्चिम रेलवे जोन के वरिष्ठ अधिकारी और बीकानेर मंडल के डीआरएम एके दूबे बठिण्डा-हनुमानगढ़ ट्रैक का निरीक्षण करेंगे। सीआरएस ट्रैक का निरीक्षण करने के बाद सुरक्षा प्रमाण पत्र जारी करेंगे। यदि सब कुछ सही रहा तो इस माह के अंत तक हनुमानगढ़ - बठिण्डा रेलखण्ड पर इलेक्ट्रिक रेलगाडि़यां दौड़ती नजर आएगी।

 

दोनों उच्चाधिकारी बठिण्डा से निरीक्षण आरंभ करेंगे। सीआरएस के रविवार शाम को यहां पहुंचने का कार्यक्रम है। रेलवे अधिकारियों के अनुसार हिसार-सिरसा- भठिण्डा-हनुमानगढ़-सूरतगढ़ थर्मल के मध्य रेलवे ने चार चरण में इलेक्ट्रिक ट्रैक बनाने की घोषणा हुई थी। चार में से तीन चरण पूरे हो गए हैं और जल्द ही हनुमानगढ़ तक इलेक्ट्रिक रेलगाड़ी दौडऩी आरंभ हो जाएगी। लगभग तीन माह से यहां युद्ध गति से चल रहा था।

 

रेल अधिकारियों के अनुसार रेलवे ने गत बजट में हनुमानगढ़-बठिण्डा-सूरतगढ़ थर्मल के मध्य रेलखण्ड को इलेक्ट्रिक करने की घोषणा की थी और इस पर तत्काल ही कार्य आरंभ हो गया था। रेल अधिकारियों के अनुसार हिसार-सिरसा के मध्य इलेक्ट्रिक ट्रेन चल रही है। सिरसा-बठिण्डा के मध्य कार्य पूर्ण हो गया है लेकिन तकनीकी कारणों से उसकी स्वीकृति अभी आई नहीं है। रेलवे ट्रैक के इलेक्ट्रिक होने से रेलगाडिय़ों की गति में पन्द्रह से
बीस किलोमीटर प्रतिघंटा की बढ़ोतरी होगी।

 


पौने दो सौ करोड़ का है प्रोजेक्ट
हिसार-सिरसा-भठिण्डा-हनुमानगढ़-सूरतगढ़ रेलखण्ड को चार चरण में इलैक्ट्रिक करने का कार्य चल रहा है। दो चरण पूरे हो गए हैं और तीसरा चरण सीआरएस के दौरे से पूर्ण हो जाएगा। चौथे चरण के तहत 78 किलोमीटर के हनुमानगढ़-सूरतगढ़ थर्मल खण्ड पर कार्य चल रहा है। रेल अधिकारियों के अनुसार पूरा प्रोजेक्ट ३२८ किलोमीटर का है और इस पर लगभग पौने दो सौ करोड़ रुपए खर्च होंगे।


बदल गया नक्शा
हनुमानगढ़-भण्डिा रेलखण्ड के इलैक्ट्रिक होने के बाद जंक्शन रेलवे स्टेशन का नक्शा बदल गया है। रेलवे स्टेशन पर चारों तरफ सिल्वर कलर में चमकते हुए पोल नजर आ रहे हैं और उस पर विद्युत तारें नजर आ रही हैं। रेलखण्ड का इलैक्ट्रिक होना यात्रियों के लिए कौतूहल का विषय भी बन गया है। रेलवे स्टेशन पर आने वाला हर यात्री पहले इलैक्ट्रिक कार्य को देखता है और फिर चर्चा करता है। बताया जा रहा है कि इलैक्ट्रिक रेलखण्ड का कंट्रोल भठिण्डा में रहेगा। सम्पूर्ण प्रोजेक्ट पूर्ण होने के बाद एक कंट्रोल रूम हनुमानगढ़ में भी बनेगा।

 


हर तरफ अर्लट
रेलवे सुरक्षा आयुक्त और रेलवे के उच्चाधिकारियों के दौरे के मद्देनजर हनुमानगढ़ रेलवे स्टेशन पर शनिवार को बरसात के बावजूद अधिकारी अर्लट नजर आए और रेलवे की साज-सज्जा ओर सफाई का कार्य भी चलता रहा।

Manoj Bureau Incharge
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned