कोटा संभाग में अपनी सरकार के कामों के कसीदे पढ़ रहीं CM और इधर बड़ी खिलाफत की तैयारी में ये वर्ग..!

कोटा संभाग में अपनी सरकार के कामों के कसीदे पढ़ रहीं CM और इधर बड़ी खिलाफत की तैयारी में ये वर्ग..!

Nidhi Mishra | Publish: Sep, 16 2018 04:24:32 PM (IST) Hanumangarh, Rajasthan, India

https://www.patrika.com/rajasthan-news/

संगरिया/ हनुमानगढ़। एक ओर जहां Rajasthan Chief Minister Vasundhara Raje गौरव यात्रा (Rajasthan Gaurav Yatra 2018) के तहत कोटा संभाग में अपनी सरकार के कामों के कसीदे पढ़ रही हैं, वहीं प्रदेश में ही एक वर्ग उनकी खिलाफत की ऐसी तैयारी कर रहा है कि पार्टी को खासा नुकसान हो सकता है।

 


दरअसल अमृतसर से गुजरात के लिए बनाए जाने वाले एक्सप्रेस-वे के लिए खेतों मे 230 फीट चौड़ाई मे पत्थरगढ़ी करने से किसानों में आने वाली समस्याओं को लेकर किसानों में आक्रोश व्याप्त है। पीड़ित किसान संघर्ष समिति तले रविवार को गांव मानकसर में किसानों ने बैठक कर रणनीति तय की। किसानों ने कहा कि उनके खेतों से अमृतसर से जामनगर के लिए एक्सप्रेस-वे निकालने की योजना चल रही है तथा करीब 230 फीट चौड़ाई मे पत्थरगढ़ी करके जगह चिन्हित की गई। इससे वे असमंजस में हैं।

 


भूमि के मुआवजे पर स्थिति स्पष्ट नहीं
सड़क मार्ग की चपेट में आने वाली भूमि के मुआवजे के बारे में संबंधित विभाग, कलक्टर व मंत्री आदि स्पष्ट बात नहीं कह रहे। किसान सुखदेवसिह, कृष्ण जाखड़, हरवीरसिंह, गुरदयाल, सुभाष बुडानियां, शिवप्रताप भांभू, जगदीश चाहर, महेंद्रपाल, उग्रसेन भादू, विनोद घोटिया, सुरेंद्र, हरचरण, जमाल अख्तर, महावीर भाकर, भूप जाट आदि ने कहा कि एक्सप्रेस-वे के लिए चिह्नित हो रही जगह से किसानों की भूमि दो भागों में विभाजित होगी और उन्हें भारी नुकसान होगा।

 


मुआवजा होगा तो होगा ऊंट के मुंह में जीरा
सरकारी डीएलसी दरसे मिलने वाला मुआवजा भी ऊंट के मुंह में जीरे समान है। नाराज़गी जता रहे रतनपुरा, नगराना, मानकसर, शेरगढ़, मल्लडख़ेड़ा, सालीवाला, फतेहपुर, ढालिया, 8 एचएमएच आदि गांवों के किसानों ने पंजाब-हरियाणा में सड़क निर्माण के दौरान किसानों को दिए मुआवजे अनुसार राशि देने, भूमि के दो टुकड़े हो रहे हैं तो उनकी सिंचाई सुविधा, रास्ते, पाईप लाईन आदि को पुन: सुचारु करने जैसी मांगें उठाईं। मांगों को नहीं मानने पर चुनावों का बहिष्कार करने की घोषणा करते हुए शपथ ली।

 


बैठक में मौजूद किसानों ने चेताया कि यदि सरकार एक्सप्रेस-वे निर्माण में किसानों की मांग अनुसार मुआवजा नहीं देगी तो कार्य नहीं होने देगें और चुनावों का पूर्णतया बहिष्कार करेंगे। उन्होंने चिन्हित 230 फुट से अधिक जमीन नहीं लेने, डीएलसी रेट बढ़ाने, बाजार भाव से चार गुणा अधिक रकम देने, पीडि़त काश्तकार परिवार में एक जने को सरकारी नौकरी, मुआवजा एक मुश्त अदायगी आदि करने की भी मांग की।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

Ad Block is Banned