हत्या की जांच में पुलिस की लापरवाही स्वीकार कर चुके आईजी, जिले के थानों पर चार को जताएंगे विरोध

https://www.patrika.com/hanumangarh-news/

 

By: adrish khan

Published: 29 Mar 2019, 11:44 AM IST

हत्या की जांच में पुलिस की लापरवाही स्वीकार कर चुके आईजी, जिले के थानों पर चार को जताएंगे विरोध
- हत्या के मामलों के खुलासे व बढ़ते नशे पर लगाम की मांग
- माकपा का थानों पर हल्ला बोल प्रदर्शन
हनुमानगढ़. जिले की कानून व्यवस्था को लेकर माकपा की ओर से चार अप्रेल को सभी थानों के समक्ष विरोध प्रदर्शन किया जाएगा। जंक्शन का रवि मेघवाल, जसाना का पवन व्यास, चक राजासर, भादरा के कृष्णा जोगी हत्याकांड सहित हत्या के कई ऐसे मामले हैं जिन्हें सुलझाने में पुलिस नाकाम रही है। इस तरह के अधिकांश मामलों में पुलिस की चूक व अनदेखी के कारण ही हत्यारे हत्थे नहीं चढ़ सके। जसाना के पवन व्यास हत्याकांड की जांच में तो नोहर पुलिस की लापरवाही सबके सामने आ चुकी है। बीकानेर आईजी तक यह स्वीकार चुके हैं। मगर पब्लिक अब पुलिस की इस कार्यशैली को बर्दाश्त नहीं करेगी।
जिला परिषद सदस्य व माकपा नेता मंगेज चौधरी ने गुरुवार को पत्रकार वार्ता में यह बात कही। उन्होंने जिले की कानून व्यवस्था सुधारने की मांग को लेकर चार अप्रेल को सभी थानों के समक्ष विरोध प्रदर्शन करने की घोषणा की। जिप सदस्य ने कहा कि हत्या के मामले खोलने में पुलिस फेल हो रही है। मेडिकेटेड नशे व हेरोइन की तस्करी बढ़ती जा रही है। इस स्थिति में खाकी के कामकाज पर सवाल उठना लाजिमी है। कई थाने तो अपराध में लिप्त लोगों से केवल बंधी बटोरने में ही लगे हुए हैं। बिगड़ी कानून व्यवस्था सुधारने से उनको कोई मतलब नहीं है।
माकपा के राज्य सचिव रामेश्वर वर्मा ने कहा कि घर के आगे युवक को गोली मार दी जाती है और हत्यारों का पता नहीं चलता। पंचायत भवन में ई-मित्र संचालक का गला काट कर हत्यारे हाथ धोकर चले जाते हैं और पुलिस उनका सुराग तक नहीं लगा पाती। नशीले पदार्थों को लेकर स्थिति यह है कि जिला मुख्यालय व गांवों में यह आसानी से उपलब्ध है। फिर पुलिस क्या कर रही है। सरकार जिले की बिगड़ी कानून व्यवस्था को लेकर अफसरों की खिंचाई क्यों नहीं करती। जब कोई पुलिस के खिलाफ आवाज उठाता है तो उसे मुकदमा दर्ज कर अंदर डालने की धमकी दी जाती है। यह बर्दाश्त से बाहर है। माकपा इसके खिलाफ निरंतर आवाज उठाती रही है। चार अप्रेल को फिर पब्लिक के मुद्दों को लेकर थानों के समक्ष ताल ठोकेगी। इस दौरान माकपा सचिव रघुवीर बेनीवाल, बहादुरसिंह चौहान आदि मौजूद रहे।
एसपी भटकाते रहे जांच
जिप सदस्य मंगेज चौधरी ने पवन व्यास हत्याकांड को लेकर तत्कालीन एसपी पर जांच भटकाने का आरोप लगाया। उन्होंने कहा कि आईजी स्वीकार चुके हैं कि पुलिस ने प्रारंभिक पड़ताल में कई तथ्यों की अनदेखी की। इसका प्रमाण यह है कि जब नोहर पुलिस मामले की जांच कर रही थी तो तत्कालीन एसपी यादराम फांसल एक पखवाड़े से ज्यादा दिन निरंतर शाम को नोहर आते। जांच जिस दिशा में आगे बढ़ रही होती, उसको भटका कर अधिकारियों को अन्य दिशा में पड़ताल को कहते। इसका परिणाम यह रहा कि पुलिस मामले को आज तक नहीं खोल पाई।
नहीं मिली सफलता
जंक्शन की ढिल्लो कॉलोनी निवासी रवि मेघवाल (28) पुत्र पृथ्वीराज डमोलिया की 26 दिसम्बर की शाम घर के बाहर कार सवार चार जनों ने गोली मारकर हत्या कर दी थी। हमलावर कार में सवार होकर फरार हो गए। अगले दिन परिजनों ने आरोपियों की गिरफ्तारी की मांग को लेकर शव लेने से इनकार कर दिया। बाद में समझाइश पर वे माने। मृतक के पिता ने चार अज्ञात जनों के खिलाफ मामला दर्ज कराया था। पुलिस ने 23 फरवरी को दो आरोपियों के स्कैच जारी किए। आरोपियों में से एक का नाम बलदेव बताया गया। फिलहाल पुलिस के हाथ खाली हैं।

adrish khan Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned