आईएमए ने एसडीएम पर लगाया दुव्र्यवहार का आरोप , कलक्टर ने वार्ता के लिए चिकित्सक व एसडीएम को बुलाया, एसडीएम पहुंची, चिकित्सक नहीं आया वार्ता करने

आईएमए ने एसडीएम पर लगाया दुव्र्यवहार का आरोप
- कलक्टर ने वार्ता के लिए चिकित्सक व एसडीएम को बुलाया, एसडीएम पहुंची, चिकित्सक नहीं आया वार्ता करने
- एसडीएम को निलंबित करने की मांग, कार्यवाही नहीं होने पर सोमवार से आंदोलन की चेतावनी

हनुमानगढ़. गोलूवाला सीएचसी में चिकित्सक व एसडीएम के बीच हुई बहस के मामले ने तूल पकड़ ली है। इस संबंध में आईएमए के बैनर तले चिकित्सकों ने गुरुवार को ज्ञापन सौंप एसडीएम को निलंबित करने की मांग की।


आईएमए ने एसडीएम पर लगाया दुव्र्यवहार का आरोप
- कलक्टर ने वार्ता के लिए चिकित्सक व एसडीएम को बुलाया, एसडीएम पहुंची, चिकित्सक नहीं आया वार्ता करने
- एसडीएम को निलंबित करने की मांग, कार्यवाही नहीं होने पर सोमवार से आंदोलन की चेतावनी

हनुमानगढ़. गोलूवाला सीएचसी में चिकित्सक व एसडीएम के बीच हुई बहस के मामले ने तूल पकड़ ली है। इस संबंध में आईएमए के बैनर तले चिकित्सकों ने गुरुवार को ज्ञापन सौंप एसडीएम को निलंबित करने की मांग की। आईएमए जिलाध्यक्ष डॉ. निशांत बतरा ने जिला कलक्टर को बताया कि गोलूवाला सीएचसी के निरीक्षण के दौरान पीलीबंगा एसडीएम ने ड्यूटी पर मौजूद चिकित्सक के साथ दुव्र्यवहार किया है। चिकित्सकों ने जिला कलक्टर जाकिर हुसैन से कहा कि पीलीबंगा एसडीएम के सीएचसी निरीक्षण के दौरान डॉ. नरेंद्र बिश्नोई ओपीडी में मरीज देख रहे थे। इस दौरान एसडीएम ने केवल दुव्र्यवहार ही नहीं बल्कि मानसिक तौर से परेशान भी किया है। घटना का वीडियो भी सोशल मीडिया पर वायरल हो चुका है। आईएमए के चिकित्सकों ने कहा कि डॉ. नरेंद्र बिश्नोई ने एसडीएम को बैठने के लिए भी बोला लेकिन वह चिकित्सक की कुर्सी पर ही बैठने के लिए धमकाने वाले लहजे से बात करने लगी। यहीं नहीं एसडीएम के साथ आए अधिकारी व कर्मचारी भी चिकित्सक को धमकाने लगे। यह दृश्य वीडियो में देखा जा सकता है। जिलाध्यक्ष डॉ. निशांत बतरा ने ज्ञापन के माध्यम से कहा कि शुक्रवार को आईएमए के चिकित्सक काली पट्टी बांधकर विरोध जताएंगे। इसके बावजूद सुनवाई नहीं हुई तो सोमवार तक रोजाना दो घंटे कार्य बाहिष्कार किया जाएगा। इसके बावजूद सरकार ने एसडीएम के खिलाफ कार्यवाही नहीं की तो पूरे प्रदेश में चिकित्सक आंदोलन करेंगे। आईएमए के प्रदेश उपाध्यक्ष डॉ. एमपी शर्मा ने रोष जताते हुए कहा कि जिला कलक्टर से कहा कि संगठन सदस्य पीलीबंगा एसडीएम के अभद्र व्यवहार की निंदा करते हुए सरकार से ऐसे अधिकारी को निलंबित करने की मांग करते हैं। इस मौके पर डॉ. राजीव मुंजाल, डॉ. शंकरलाल सोनी, डॉ. रविशंकर शर्मा, डॉ. धर्मेंद्र रोझ, डॉ. राजीव गोयल, डॉ. नवरत्न शर्मा, डॉ.नरेंद्र भांभू, डॉ. संतोष अग्रवाल, डॉ. सोमेश खिचड़ आदि चिकित्सक मौजूद थे।

यह है मामला
गोलूवाला के राजकीय सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र में बुधवार शाम निरीक्षण के दौरान पीलीबंगा एसडीएम व सीएचसी प्रभारी के बीच विवाद हो गया था। दोनों के बीच कुर्सी से उठने-बैठने को लेकर जमकर बहस हुई। मामला यहां तक बढ़ गया था कि दोनों ने एक दूसरे को प्रोटोकोल का हवाला देते हुए नियम तक बताए। दरअसल, पीलीबंगा एसडीएम प्रियंका तलानिया शाम को सीएचसी का निरीक्षण करने गई थी। प्रभारी चिकित्सक नरेन्द्र बिश्नोई ने उनको दूसरी तरफ इशारा करते हुए बैठने के लिए कहा। इस पर उपखंड अधिकारी ने कहा कि आपको अधिकारी से बातचीत व व्यवहार करने का सलीका नहीं है। आप अपना काम करें। मगर अधिकारी के साथ तमीज से तो बात करें। यद्यपि बुधवार को एसडीएम ने मीडिया को इस तरह की घटना से इनकार
करते हुए अस्पताल का सामान्य निरीक्षण करने की बात कही थी। मगर डॉक्टर नरेन्द्र कुमार ने दुव्र्यवहार का आरोप लगाया। निरीक्षण के दौरान एसडीएम के साथ गोलूवाला थाना प्रभारी व तहसीलदार भी थे।

प्रदेश उपाध्यक्ष ने भी शिकायत
आईएमए के प्रदेश उपाध्यक्ष डॉ. दुर्गा शंकर सैनी ने मुख्यमंत्री को पत्र लिखकर एसडीएम को निलंबित करने की मांग की है। डॉ. सैनी ने पत्र के माध्यम से लिखा कि एसडीएम की ओर से चिकित्सक पर मरीज का स्वास्थ्य जांचने करने के दौरान दबाव डाला गया और अभद्र व्यवहार किया गया है।
*******************************
कलेक्टर ने बुलाया, नहीं आए चिकित्सक
हनुमानगढ़. जिला कलक्टर से जिला मुख्यालय के चिकित्सक मिले और प्रकरण में कार्यवाही की मांग की। बताया जा रहा है कि जिला कलक्टर जाकिर हुसैन ने पूरे प्रकरण को सौर्हादपूर्ण तरीके से निपटाने के लिए पीलीबंगा उपखण्ड अधिकारी और गोलूवाला के चिकित्सा प्रभारी को बुलाया। इस पर उपखण्ड अधिकारी तो कलेक्ट्रेट पहुंच गई लेकिन चिकित्सक नहीं आए।
सीनियर आरएएस की अध्यक्षता में
कमेटी गठित
हनुमानगढ़. उपखण्ड अधिकारी और चिकित्सक विवाद के तूल पकडऩे के बाद जिला कलक्टर जाकिर हुसैन ने अतिरिक्त जिला कलक्टर अशोक असीजा को वरिष्ठ आरएएस अधिकारी भवानी सिंह पंवार की अध्यक्षता में कमेटी गठित करने के निर्देश दिए हैं। कमेटी में जिले के एक वरिष्ठ चिकित्सक को शामिल करने के निर्देश दिए गए हैं। यह दोनों अधिकारी जांच कर अपनी रिपोर्ट जिला कलक्टर देंगे। जिस पर आगामी कार्यवाही की जाएगी।
राज्य सरकार को भेजेंगे रिपोर्ट
हनुमानगढ़. जिला कलक्टर जाकिर हुसैन ने 'पत्रिकाÓ को बताया कि पीलीबंगा उपखण्ड अधिकारी की गोलूवाला चिकित्सालय के निरीक्षण को लेकर रिपोर्ट मिली है। इसको लेकर वरिष्ठ प्रशासनिक अधिकारी की अध्यक्षता में कमेटी बना कर जांच करवाई जाएगी। कमेटी की रिपोर्ट राज्य सरकार को भेजी जाएगी। चिकित्सकों ने प्रकरण को लेकर एक ज्ञापन दिया है, वह मुख्यमंत्री के नाम है, उसे राज्य
सरकार को भेज दिया जाएगा।
चिकित्सक के समर्थन में बंद रहे मेडिकल स्टोर
नागरिकों ने दिया प्रशासन को ज्ञापन
गोलूवाला. एसडीएम प्रियंका तलानिया के राजकीय सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र (सीएचसी) के निरीक्षण के दौरान प्रभारी डॉक्टर नरेंद्र बिश्नोई के साथ कुर्सी को लेकर हुए विवाद का पटाक्षेप गुरुवार को भी नहीं हुआ।
प्रभारी डॉ. नरेन्द्र बिश्रोई के पक्ष में चिकित्सक, कर्मचारी और दुकानदार खड़े हुए हैं। कस्बे के मेडिकल स्टोर एवं लेबोरेटरी गुरुवार को दो घंटे के लिए बंद रहे। दूसरी तरफ उपखण्ड अधिकारी के व्यवहार पर आक्रोश जताते हुए नागरिकों ने नायब तहसीलदार को ज्ञापन सौंपा। ज्ञापन में घटना को निदनीय बताया गया।
दूसरी तरफ इस पूरे मामले में उपखंड अधिकारी प्रियंका तलानिया ने जिला प्रशासन को पत्र लिख कर अवगत करवाया है। हालांकि पूरे मामले में गुरुवार को पीलीबंगा की उपखण्ड अधिकारी प्रियंका तालानिया की कोई प्रतिक्रिया नहीं मिली।
सीएचसी पर इस घटना को निंदनीय बताते हुए डॉक्टरों ने गुरुवार 11.00 बजे के बाद कार्य बहिष्कार करते हुए ओपीडी
सेवाएं बंद कर दी। इससे मरीजों को काफी परेशानी हुई। हालांकि शाम की पारी में सेवाएं पुन:
शुरू हो गई।

Anurag thareja
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned